अपना शहर चुनें

States

Bhojpuri Spl: एने बेराम होके लालू जी एम्स पहुंचले, ओने तेज प्रताप करइलें भागवत पाठ

तबीयत खराब के कारण लालू यादव एम्स में भर्ती. तेज प्रताप उनका ठीक होखे खातिर करइलें भागवत पाठ.
तबीयत खराब के कारण लालू यादव एम्स में भर्ती. तेज प्रताप उनका ठीक होखे खातिर करइलें भागवत पाठ.

लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के तबीयत जादा खराब हो गईल बा, एहसे ऊ एम्स (Aiims, Delhi) में भर्ती बाड़ें. ओने इनकर बेरामी ठीक होखो, एकरा खातिर तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) भागवत कथा सुनले हं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2021, 1:43 PM IST
  • Share this:
गांव में काली माई के मंदिर के नया रूप दियात रहे. जेकर जइसन सरधा, ओइसन दान. बहुत लोग पुन कमाये खातिर ईंटा-बालू भी ढोअत रहे. सभ केहू कवनो ना कवनो तरीका से मंदिर के बनावे में शामिल रहे. अमीर-गरीब, जात-पात के कवनो भेद ना. माई के दरबार में अइला के बाद सबके मन एक्के हो जाए. गांव के ई एकता देख के मन अघा जाए. काली माई तs हरमेसा लोग के बैठकी लागल रहत रहे. राती खा रामायण के पाठो होखे. गांव भर में अइसन हुलस रहे जइसे कि कवनो परोजन होखे. बलराम रामायणी मंदिर के निहार के कहले, जब थावे (गोपालगंज) में दुर्गा माई के मंदिर के नाया रूप दिहात रहे तs हमहूं गइल रहीं. लालू जी के थावे वली माई में बहुत सरधा रहे. रामनम्मी के दिन पूजा करे खातिर ऊ थावे आवत रहन. लालू जी के बात निकलल तs जटाशंकर कहले, आज लालू के बेराम बाड़े, उनकर कुशल मंगल खातिर उनकर बेटा तेजपरताप भागवत कथा के पाठ करा रहल बाड़े. एतना सुन के निहोरा निरगुनी कहले, सब समय करावे ला. जवन लालू जी कबो पोथी पतरा के जरावे के बात कर रहन आज ऊ अउर उनकर लइका के पूजा-पाठ में भरोसा हो गइल. निहोरा निरगुन मोह माया से दूर रहन ऐह से बोली में तनी रुखर रहन.

पियरी पेन्हले तेजपरताप
गांव में मति-मति के लोग रहे. अब तेजपरताप के भक्ती पs बात होखे लागल. मुरलीधर कहले, तेजपरताप भागवत कथा कहे खातिर बहरी से बिदवान पंडित के बोलइले बाड़े. नेहा, धोआ के पिअरी पेन्ह के पहिले पूजा करले एकरा बादे भागवत काथा सुने जाले. शंख के गूंज अउर आरती से पूरा माहौल भक्तिमय हो जाला. मोबाइल पs एकर बीडियो बी आइल बा. पियरी पेन्हले, चंदन टीका कइले तेजपरताप मथुरा के कवनो पुजेड़ी जइसन लागे ले. सभे कोई इहे चाहत बा कि लालू जी केहू तरीका से ठीक हो जास. भगवान के भक्ति में शक्ति जरूर बा. हमनियो के चाहत बानी कि तेजपरताप के आस पूरन होखे. तेजपरताप नेता से अधिका पुरोहित लागेले. धर्म-करम में रचल बसल अइसन नौजवना नेता तs देश भर में खोजला से ना मिलिहें.

ब्राह्मणवाद का विरोध
निहोरा निरगुनी कहले, दुख में सुमिरन सब करै, सुख में करै न कोय. एक समय रहे जब लालू जी ब्राह्मणवाद के घोर विरोधी रहन. ऊ जतर-पतरा पs तनिको भरोसा ना करत रहन. लेकिन जब ऊ संकट में फंस गइले तs भगवान के माने लगले. अदिमी के इहे सोभाव हs. मोसीबत में अइला के बादे ओकरा देवी देवता इयाद आवेले. लालू जी के दू रूप तहरा लोग के सुनावत बानी. 1994 में रांची के मोरहाबादी मैदान में एगो महारैली भइल रहे. लालू जी ओह घरी बिहार के मुखमंत्री रहीं. ओह सभा में लालू जी के भी भाषण भइल. लालू जी कहले रहन, गरीब गुरबा और सभी पिछड़े लोग एक हो जाओ. ब्राह्मणवाद से सजग रहना. पहिले गांव में देखते थे कि जब कोई कमाने के लिए कलकत्ता जाता था मइय़ा लोग जतरा के लिए बेटा को दही खिलाती थी. उस समय पंडित लोग मइया लोग के सीखा के रखता था कि देखना जतरा पs अमुक जाति का लोग सामने न पड़ जाए. लेकिन चार पांच बरिस के बाद ही स्थिति बदल गइल.



भक्ति में भरोसा
निहोरा निरगुनी कहले, बाद में लालू जी के देवी-देवता से बहुत सरधा हो गइल. 1997 में जब ऊ पहिला बेर जेल गइल रहन तs कहले रहन, राती खा हमरा सपना में शंकर जी आइल रहन. शंकर जी हमरा से कहले कि तुम मांस-मछली खाना छोड़ दो. इसके बाद हम शाकाहारी हो गये. लालू जी जब रांची के असपताल में इलाज करवत रहन तs बेरामो होखला के बाद ऊ बिना पूजा-पाट कइले नास्ता ना करत रहन. 2013 में चारा घोटला केस में सजा सुनावे के टाइम नजदीक आ गइल रहे. कोर्ट उनका के हाजिर होखे के आदेश देले रहे. रांची जाए से पहिले लालू जी अपना कुल देवता के पूजा करे खातिर दानापुर वला घर में गइल रहन. उहां बहुत देर पूजा-पाठ कइला के बाद हवाई अड्डा गइले. लालू जी कानूनी संकट से छुटकारा पावे खातिर बिंध्याचल के पगला बाबा से भी पूजा करवले रहन. सब समय समय के बात हs. अब लालू जी ईश्वर में अगाध सरधा बा. हमरो खाहिस इहे बा कि लालू जी जल्दी से जल्दी ठीक हो जास. लालू जी से आजो गरीबन के आस जुड़ल बा.

वृंदावन से अइले कथावाचक
बलराम रामायणी कहले, बिधायक तेजपरताप के सरकारी आवास पs सात दिन के भागवत कथा के आयोजन भइल बा. एतवार के चउथा दिन रहे. वृंदावन के मुकेश भारद्वाज जी भागवत काथा सुना रहल बानी. वृंदावन अउर मथुरा से तेजपरताप के गहरा नाता बा. उनकर एक गोड़ राजनीत में रहेला तs दोसर गोड़ वृंदावन, मथुरा में. तेजपरताप लालू जी के जल्दी ठीक होखे खातिर भगवत कथा करा रहल बाड़े. पौराणिक मान्यता हs कि भागवत कथा सुने से दुख अउर संकट से छुटकारा मिल जाला. राजा परीक्षित, शुकदेव मुनि से भागवत कथा सुन के आपन कल्याण कइले रहन. सनातन धरम के 18 पवित्र पुराण में भागवत पुराण भी एक हs. भगवत कथा के सुनल अउर सुनावल, दूनो फलदायी मानल जाला.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज