• Home
  • »
  • News
  • »
  • bhojpuri-news
  • »
  • Bhojpuri में पढ़ें मलिकाइन के पाती-जोगी के हरावे खातिर यूपी में रथ जतरा पर निकलल नेता लोग

Bhojpuri में पढ़ें मलिकाइन के पाती-जोगी के हरावे खातिर यूपी में रथ जतरा पर निकलल नेता लोग

.

.

यूपी में इलेक्शन अगिला साल बा, बाकिर नेता लोग अबहिये से हड़बड़ा गइल बा। समाजवादी पाटी के नेता अखिलेश जादो आ प्रगतिशील समाजवादी पाटी के नेता उनकर चाचा शिवपाल जादो अलगे-अलगे रथ जतरा पर निकल बा लोग। कांगरेस त लखीमपुर खीरी में किसान आंदोलन में आठ आदमी के मुअला से बेसी जोश में बिया।

  • Share this:

पांव लागीं मलिकार ! यूपी में वोट त अगिला साल होखे के बा नू मलिकार। अबहिएं काहें सगरी नेता लोग एतना हड़बड़ाइल बा ! सुने में आइल हा कि समाजवादी पाटी के नेता मोलायम सिंह जादो के बेटा अखिलेश जादो आ उनकर चाचा प्रगतिशील समाजवादी पाटी के नेता शिवपाल जादो अलगे-अलगे रथ जतरा पर निकल बा लोग। कांगरेस त लखीमपुर खीरी में किसान आंदोलन में आठ आदमी के मुअला से बेसी जोश में बिया। एकरा के ऊ बिलाई के भागे सिकहर टूटला अइसन मान लिहेले बिया। जगहा-जगहा अब किसान सम्मेलने करावे के बतकही करतिया। कांगरेस के नेता कबो कूद के राष्टपति से भेंट करत बा लोग त कबो आंदोलन में मुए वाला परिवार के दोसरा राज के कांगरेसी मुखमंतरी लोग बढ़-चढ़ के पइसा बांटे में लागल बा लोग। जोगी जी पैंतालीस लाख दिहले त छत्तीसगढ़ आ पंजाब के मुखमंतरी लोग पांच लाख बेसी देबे के कहले बा।

अखिलेश आ उनकर चाचा त रथ जतरा में यूपी के इलाका इलाका घूमे में लाग गइल बा लोग। मायावती बहिन अबे चुप बाड़ी, बाकिर उनहूं के माथा में कवनो ना कवनो खुड़चाल जरूर चलत होई। सबसे बड़ बात ई बा मलिकार कि सभे जोगी के हरावे खातिर तैयारी में लागल बा, बाकिर केहू के पकिया उमेद नइखे कि अकेले जोगी के हरावल जा सकेला। एही से अखिलेश जादो कह देले बाड़े कि चुनाव के बाद जरूरत परल त जोगी के सगरी विरोधी लोग एक संगे होके सरकार बनाई। एकर माने त इहे भइल नू मलिकार कि अबे केहू के ई भरोसा नइखे होत कि जोगी बाबा के ऊ लोग आसानी से हरा पाई। जोगियो बाबा कम नइखन। ई लोग केतनो हड़बोंग मचावता, बाकिर आस्ते-आस्ते ऊ सगरी काम कायदे से निपटावत जा तारे। पांड़े बाबा बतावत रहुवीं कि गोरखपुर में जवन एगो मडर पुलिस वाला कइले सन, ओकरा परिवार के नौकरी आ पइसा देके जोगी जी मना लिहले। जवन दोषी पुलिस वाला रहले, ओकनी के धर-पकड़ शुरू हो गइल। एही तरे लखीमपुर खीरी में जेतना लोग मुअल, ओकरा घर-परिवार के पैंतालीस लाख रुपिया देके जोगी जी मना लिहले। जवना टेनिया पर गाड़ी से कुचरला के विरोधी लोग आरोप लगावल, ओकरा के पकड़वा के जेल भेजवा दिहले। अब ई लोग ओकरा बाप के मोदी जी के मंतरी पद से हटावे पर अड़ल बा। हो सकेला कि फूल छाप पाटी ओह लोगन के इहो बात मान के सगरी हवा निकाल देव। पांड़े बाबा कहत रहुवीं कि एगो जोगी के खिलाफ सगरी पाटी के लोग एकवट गइल बा। जोगी एह लोगन अइसन बेसी फटर फटर नइखन बोलत। ऊ चुपचाप सगरी ममिला के निपाटावत जा तारे। एही के कहल जाला मलिकार- हाथी चले बाजार, कुकुर भूंकें हजार।

रथ जतरा पर हमरा इयाद मलिकार कि आडवानी जी भी रथ जतरा निकलले रहले। तब फूल छाप के दू गो एमपी रहले। वोह रथ जतरा के फायदा ई भइल कि दू एम वाली पाटी आज सैकड़ा एमपी के सबसे बड़ पाटी हो गइल बिया। एहू लोग के बुझात होई कि रथ जतरा से जब फूल छाप पाटी के एतना फायदा भइल त हमनियो के काहें ना निकालल जाव। एह लोगन के ई बात भुला जाता कि तब राम जी अजोध्या में मंदिर बनावे खातिर आडवानी जी रथ जतरा निकलले रहले, जवना में सगरी जात के हिन्दू एकवट गइल रहले। ई लोग के त पोलटिक्से जात पर बा।

बड़ बड़ वीर दहाइल जास, गदहा पूछे केतना पानी

पांड़े बाबा बिहार के खबर सुनावत रहुवीं। कहत रहुवीं कि तारापुर आ कुशेसर स्थान में असेंबली के उपचुनाव होता। साल 2020 में ललटेन छाप से गरजोरी क के कांगरेस चुनाव लड़लस। बाकिर अबकी बेर एह उपचुनाव में हकमारी के इलजाम ललटेन छाप पर लगा के इयारी तूर लिहलस। दूनू सीट पर आपन कंडिडेट खड़ा कइले बिया। दू के झगरा में तीसर लालू के बड़कू सवांग टपक परल बाड़े। एह घरी अपना भाई-माई से उनका पेपटरी बा। उहो एग जगहा से आपन कंडिडेट खड़ा कइले रहले हां। छोटकू भाई ओकरा के पटिया लिहले। अब सुने में आवता कि बड़कू आपन कंडिडेट जरूर उतरिहें, बाकिर अबे नांव ना बतइहें, जवना से केहू तूर-छटका के अपना में मिला लेव। ऊ 17 तारीख के दूनू जगहा जइहें आ अपना कंडिडेट खातिर परचार करिहें। एही के कहल जाला मलिकार- बड़ बड़ वीर दहाइल जास, गदहा पूछे केतना पानी।

बिहार में के बा बरियार, एही बेर बुझा जाई

बिहार में ललटेन छाप के नेता लोग सपना देखता कि दुनू सीट अबकी मिल गइल त नीतीश सरकार के पटके में देर ना लागी। हाथ छाप वाली कांगरेस का अपना कन्हैया कुमार पर भरोसा बा। नीतीश कुमार के फूल छाप के संगे अपना इयारगही पर पकिया बिसवास बा। सुने में आवता कि लालू जादो भी 20 तारीख के आवे वाला बाड़े। कन्हैया कुमार 22 के पहुंचिहें। सभे अपना जोड़-तोड़ में लागल बा। एही बेर बुझा जाई कि बिहार में बरियार के बा। कन्हैया कुमार कांगरेस के बेड़ा पार लगा पइहें कि लालू-तेजस्वी कवनो करामात क पइहें। आ कि नीतीश कुमार अपना काम-धाम से सबका पर भारी परिहें।

बिन बिजुरी सब सूना रे भाई !

एगो हमनी के टाइम रहे मलिकार कि ललटेन भा ढेबरी से काम चल जात रहे। गरम लागे त बांस के बेना डोला के काम चल जाव। बाकिर अब बुझाता कि ई कुल सपना के बात हो गइल। बिजुरी अइसन आदत बिगाड़ दिहलस कि अब लाइन कटे लागल बा त बुझाता कि परान निकल जाई। सुने में आवता कि बिजली घर के जरी कोयला हइए नइखे। पांच-सात घंटा बिजुरी कट जाता त तराही तराही मच जाता। लोग के अदतियो त बिगड़ गइल बा मलिकार। केहू अब दुआर पर सुतते नइखे। सांच कहीं त केहू के दुआर रहिये कहां गइल बा। किरिन डुबान होते लोग के घरे आंच बरा जाई आ सात बजे ले लोग खा-पीके के ओंघा जाई। अब त बिजुरी बिना ना पानी के मोटर चलता आ ना पंखा। अंजोर के इंतजार में लोग चूल्हा नइखे बारत। पांड़े बाबा कहत रहुवीं कि ढेर दिन अइसन ना रही। खदान में कोयला निकाले खातिर तीन पाली में काम होता। देवराई ले बिजली के हालत सुधर जाई। बाकी अगिला पाती में।
राउर, मलिकाइन
(ओमप्रकाश अश्क वरिष्ठ पत्रकार हैं। आलेख में व्यक्त विचार उनके निजी हैं)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज