Home /News /bhojpuri-news /

Bhojpuri में पढ़ें मलिकाइन के पाती- बिहार में करपशन के टूट रहल बा रेकाड

Bhojpuri में पढ़ें मलिकाइन के पाती- बिहार में करपशन के टूट रहल बा रेकाड

.

.

बिहार में भरस्ट अफसर-करमचारी के खिलाफ निगरानी महकमा दनादन धर-पकड़ शुरू कइले बा. जवने जगहा निगरानी के हाथ परता, पाकल घाव के मवाद अइसन घूस आ नाजायज कमाई मवाद फच से बाहर बहे लागता. टटका ममिला नालंदा यूनिवरसिटी के कुलपति के आइल बा. बुझाता जे बिहार रामजी के खेत हो गइल बा, जवना के चरे खातिर रामजी के बनावल चिरई चरिओर फुरफुरा तारी सन.

अधिक पढ़ें ...

पांव लागीं मलिकार ! का जाने रउरा सुनले बानी कि ना, बाकिर हमरा अबहीं ले इयाद बा. फखरदीनपुर वाला फूफा जब अपना इहां आईं त एगो कहाउत बात-बात में कहीं- रामजी के चिरई रामजी के खेत, चर ल चिरई भर भर पेट. बिहार में भरस्ट अफसर-करमचारी के खिलाफ निगरानी महकमा थोर दिन से दनादन धर-पकड़ शुरू कइले बा. जवने जगहा निगरानी के हाथ परता, पाकल घाव के मवाद अइसन घूस आ नाजायज कमाई फच से बाहर बहे लागता. टटका ममिला नालंदा यूनिवरसिटी के कुलपति के आइल बा. बुझाता जे बिहार रामजी के खेत हो गइल बा, जवना के चरे खातिर रामजी के बनावल चिरई चरिओर फुरफुरा तारी सन. फूफा जी के बतिया एही पर हमरा इयाद परल हा.

एह घरी बिहार के हाल इहे हो गइल बा. जेने हाथ डालीं, ओनहीं घूस के पइसा आ चोरी से कमाइल धन धरात-पकड़ात बा. सिपाही-दरोगा होखस भा सीओ-बीडीओ, बुझाता जे सभे घूसे कमाये में लागल बा. सबसे बड़ अजरज एह बात के बा मलिकार कि अबकी विदिया माई के बड़का मंदिर में बइठल एगो सबसे बड़वर आदमी घूसखोरी-बेईमानी के कमाई से घर भरे में धराइल बाड़े. पांड़े बाबा परसों दिनवां बतावत रहुवीं कि नालंदा यूनिवरसिटी के भीसी के घरे निगरानी महकमा के स्पेशल टीम जब छापा मरलस त जवने आलमारी खोलल जाव, ओइमें से भरभरा के नोटे-गहना गिरे. नोट गीने वाली मशीन आइल त कई घंटा ले नोट के गिनती भइल. मोटामोटी दू करोड़ रुपिया नगदी मिलल आ एतना गहना मिलल, जवना के हिसाब अबहीं ले लगावल जाता. सुने में आइल कि भीसी साहेब तीस करोड़ रुपिया के खाली कापी कीनले बाड़े. कापी खाली कागजे में किनाइल बा. कापी जेकरा इहां से किनाइल बा, उहो उनकर नजदीकिये के आदमी बतावल जाता.

पांड़े बाबा बतावत रहुवीं कि घुसखोर एतना हो गइल बाड़े सन कि जवने के घरे निगरानी महकमा छापा मारत बा, त करोड़ से नीचे संपत मिलते नइखे. बिहार में बालू आ दारू के खेल अइसन बा कि एकरा से जुड़ल अफसर, किरानी, पुलिस सब लाल हो गइल बाड़े सन. एकरा पहिले कई गो बालू के धंधा में लागल पुलिस आ परसासन के लोग धरा चुकल बा. एतने ले ना मलिकार, पांड़े बाबा त इहो बतावत रहुवीं कि सात जने अइसन नेता बाड़े, जे कबो एमपी रहे आ अब एमएलए बा, एही तरे जे एमएलए रहे, ऊ अबे एमपी बा, ऊ लोग एक जगहा से तनखाह लेता त दोसरका जगहा से पेंशन उठावत बा. एही घरी ई भंडा फूटल हा. का जाने ओकरा बाद का भइल, पांड़े बाबा के मालूम नइखे. एही पर हमरा फूफा के कहउतवा इयाद परल हा मलिकार कि रामजी के चिरई, रामजी के खेत, चर ल चिरई भर-भर पेट.

सरकार डाल-डाल, घुसहा पात-पात

पांड़े बाबा बतावत रहुवीं कि सरकार जेतने कोसिस करतिया, घुसखोरवा ओतने पैदा भइल जा तारे सन. हाले में कवनो सीओ का घरे निगरानी के छापा परल रहे. ऊ कवनो अइसन इलाका में थोर दिन रहे, जहां बालू के धंधा से खूब कमइले बा. निगरानी विभाग एही साल में अबहीं ले डेढ़ दर्जन अफसर लोग पर आमद से अधिका संपत मिलला पर एक्शन लेले बा. एइमें आइपीएस, बिहार प्रसासनिक सेवा (बिप्रसे), डीएसपी, इंजीनियर समेत कई किसिम के अफसर शामिल बाड़े. अकेले निगरानी ब्यूरो नौ अफसर लोग कीहां छापा मरलस. कवनो ईओयू (आर्थिक अपराध इकाई) बा, ऊ सात अफसरन पर एक्शन लिहले बा. ई सब अफसर बालू के कमइले रहले हां सन. पांड़े बाता बतावत रहुवीं कि अबे निगरानी आ ईओयू के नजर करीब एक दर्जन अफसर लोग पर बा. निगरानी ब्यूरो 2016 में 21 अफसर के खिलाफ आमद से अधिका संपत रखला के केस कइले रहे. साल 2010 से 2021 के बीच अइसन लोग पर एक्शन देखल जाव त 2015 और 2016 के छोड़ के 2021 में सबसे बेसी केस भइल बा. सड़क बनावे वाला विभाग के इंजीयर रविंद्र कुमार के घर से करीब डेढ़ करोड़ कैश मिलल रहे. एही विभाग के एगो अउरी इंजीयर के. कुमार के घर से 15 लाख कैश के अलावा करोड़न के संपत्ति मिलल रहे. कवनो डीटीओ रजनीश लाल बाड़े, उनका जरी भी 51 लाख से बेसी के नगदी आ 60 लाख से बेसी के गहना मिलल रहे. ई त कुछ नमूना ह लोग, अउरियो लोग कीहां जब निगरानी के छापा परल त केहू कीहां से करोड़ से नीचे के संपत ना मिलल.

भीसी साहेब त रेकाड तूर दिहले

जवना भीसी साहेब के बारे में पांड़े बाबा बतावत रहुवीं कि उनकर कुकरम सुन के त बुझात रहुवे कि ऊ त खांटी कुलबोरने बाड़े. उनकर नांव माई-बाप इहे सोच के राजिंदर परसाद रखले होई कि राजिंदर बाबू देस के पहिलका परसीडेंट रहले. आजादी के लड़ाई में शामिल रहले. सुने में आवता कि अपना लोग के कंपनी से तीस करोड़ के कापी तीन साल में भीसी साहेब कीनले. एतना के कवनो जरूरते ना रहे. एकर खबर विशेष निगरानी इकाई के लाग गइल रहे. एही से पहिले उनका पर केस कइलस आ ओकरा बाद उनकर जेतना ठेकाना रहे, उहां छापा मरलस. उनका गोरखपुर वाला घर के आलमारी जब खोलइली सन त झर झर नोट आ गहना गिरे लागल. नोट दू करोड़ रहे. गहना बेहिसाब रहे. एतने ले ना, ऊ फरेब के फाइलो ओही जा रखले रहले. इहो मालूम भइल कि 86 गो गाड के तनखाह उठेला आ काम करेले सन 47 गो. ओकनी के तनखाह जेतना कागज में देखावल गइल बा, ओकरा से कमे ओकनी के मिलेला.

पुरनका मुखिया मुंहे के भरे गिरल बा लोग

सरकारी पइसा लूटे खसोटे में त बिहार के मुखियवो कम नइखन सन. ओकनी के त अति क दिहले रहले हां सन. नल-जल जोजना के पइसा त अइसन पचवले बाड़े सन कि अपना बाईस टोला के दू पंचायत में आज ले एक बून पानी ना आइल. इहे हाल मोटामोटी सगरी बिहार के पांड़े बाबा बतावत रहुवीं. पैखाना बनावे के पइसा ले एकनी का खा-पचा गइले सन. घटिया सामान कीनल आ करोना के टाइम में एकनी जेतना पइसा मिलल, सगरी पचा गइले सन. लोग एकनी से एतना उबिया गइल रहल हा कि अबकी सैकड़ा अस्सी मुखिया लोग के हरा दिहल. जानतानी मलिकार, अबकी मुखियई के इलेक्शन में दारू, साड़ी, पइसा खूब बंटले हां सन. पांड़े बाबा कहत रहुवीं कि मुखियई के अइसन चुनाव अबले उहां के ना देखले रहनी हां. एगो पंचायत में लाखन रुपिया खरच भइल बा. जवन हारल बाड़े सन, ओकनी के टाइम में मिलल पइसा के हिसाब होखे आ काम के जांच करा दिहल जाव त सगरी जेल में जांत पिसिहें सन.

पांड़े बाबा कहत रहुवीं कि अबकी बेर पंचाइत चुनाव में लोग के मिजाज जइसन रहल हा, ओइसने एमएलए-एमपी के वोट में भी रह जाव त केतने लोग के होस ठेकाने लाग जाई. वोट के बेरा दुआरी-दुआरी रिरियात-घिघियात फिरे ला लोग आ जीतला के बाद केतने जने त पांच साल बाद भादो के बेंग नीयर उपराला. बाकिर लोगवो अब ओइसन रह कहां गइल बा. जे जेतने लुटावे ला, ओनहीं बहे लागेला लोग. एगो कवनो के बारे में पांड़े बाबा बतावत रहुंवी कि दारू बेचे में ऊ जेल गइल रहा आ ओही जा से चुनाव लड़ के जीत गइल बा. ऊ मुजफ्फरपुर जिला के मोतीपुर बलौक के ह. ओकर नांव खबर कागज में निकलल रहल हा. ऊ पंचायत समिति के पद पर खड़ा रहल हा आ जीत गइल बा. अब रउरे बताईं मलिकार कि नीतीश जी दारूबंदी खातिर कहले बाड़े कि मुखिया आ वाड में जेतना लोग जीतल बा, उहे बतावे कि कहां दारू बिकाता आ के बेचत बा. ई कइसे होई, जब दारू बेचे वाला मुखिया, सरपंच आ वाड के मेंबर चुनइहें सन.

चीन से फेरू लड़ाई होई का ?

ए मलिकार, सुने में आवता कि चीन चारि ओर से अपना देस के घेरे में लागल बा. अरुनाचल परदेस में हमनी के सीमा में कई गो इमारत खड़ा क लिहले बा. नैपाल में भीतर ले घुस गइल बा. भूटान में भी ढूकल बा. तनातनी बढ़ल जाता. हमार माई चीन के संगे बासठ के लड़ाई के बारे बतावे ले. ऊ इयाद क के बड़ा डर लागता. एके गो बात से ढाढ़स मिलता कि ओह घरी हमनी कीहां सुइयो ना बनत रहे. अब त अइसन अइसन हथियार के जिकिर पांड़े बाबा करत रहुवीं कि सुन के सीना चाकर हो गउवे.
आपन खेयाल राखेब. ठंडा बढ़ल जाता. असों धान के मनी पर साल नियर ना होई. अखिरिया में बरखा आ तूफान पाकल धान के पटवा दिहलस. बेसी खराब हो गइल बा. खेत में अबहियो पानी बा. उपरवार त कटा गइल बा, बाकिर चंवर में पानी में ढूक के लोग काटत बा. रबी के बोआई भी असों टाइम पर ना हो पाई.
राउर, मलिकाइन
(ओमप्रकाश अश्क स्वतंत्र पत्रकार हैं. आलेख में व्यक्त विचार उनके निजी हैं.)

Tags: Bhojpuri Articles, Bhojpuri News

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर