Home /News /bhojpuri-news /

Bhojpuri में पढ़ें मलिकाइन के पाती- शराब पर सांसत में पड़ गइल बाड़े नीतीश कुमार, कइसे लागी बेड़ा पार

Bhojpuri में पढ़ें मलिकाइन के पाती- शराब पर सांसत में पड़ गइल बाड़े नीतीश कुमार, कइसे लागी बेड़ा पार

.

.

बिहार में शराब के नांव पर लोग जहर घोंटता. टटका ममिला नीतीश कुमार के जिला नालंदा के बा, जहवां दर्जन भर लोग दू दिन में जान गंवा दिहल आ कई जने अबे अस्पताल में जिनिगी खातिर जूझ रहल बाड़े. विपक्ष त पहिलहीं से एकरा खिलाफ रहल हा, अब त नीतीश के सहयोगी फूल छाप पाटी आ जीतन राम मांझी भी अगिया बैताल भइल बा लोग.

अधिक पढ़ें ...

पांव लागीं मलिकार. बिहार में जवनी गंतिया एह घरी सियासी तनातनी चलता, ओइसे बुझाता मलिकार कि अब नीतीश जी के कवनो दोसर राह देखे परी. नया साल में नालंदा में जहरैला शराब पीके बारह आदमी चल बसले. रउरा त मालूमे होई नालंदा नीतीश कुमार के जिला ह. एकरा बाद त नीतीश सरकार के संघतिया फूल छाप पाटी का संगे चार एमएलए वाला जीतन राम मांझी नीतीश पर अगिया बैताल बन गइल बा लोग. ललटेन छाप पाटी आ ओकर साथ देबे वाला ङाथ छाप आ कमलिस पाटी के लोग त पहिलहीं से शराबबंदी कानून के खिलाफ रहल हा लोग. कोट-कचहरी भी अब नीतीश के साथ देबे के तैयार नइखे. हाले में देस के दिल्ली वाली बड़की कचहरी के बड़का जज साहेब कहले रहनी कि दारूबंदी कानून नीतीश कुमार हड़बड़ी में लागू कइले. सगरी कचहरी खाली दारू के केस सुने में अझुराइल बा. एतने ले ना मलिकार, आज पांड़े बाबा बतावत रहुवीं कि नीतीश जी दिल्ली वाली बड़की कचहरी में दारू ममिला में 25 गो जमानत रद करे खातिर दरखास दिहले रहले हां. ओकरो के कचहरी खारिज क दिहलस.

जबसे नालंदा में दारू पीके मुअला के खबर आइल बा, तब से बिहार में पोलटिक्स गरमा गइल बा. कबो बिहार के मुखमंतरी रहले जीतन राम मांझी. ऊ त पहिलहीं से दारूबंदी कानून के खिलाफे बोलत रहले हां. अबकी त एतना टेढ़ बोलले बाड़े कि पूछीं मत. पांड़े बाबा बतावत रहुवीं कि ऊ कहले बाड़े कि जब खेती से जुड़ल कानून परधानमंतरी वापस ले सकेले त नीतीश जी बेकारे जिद पर अड़ल बाड़े. अब केतना लोग के जान लीहें. जेतना जल्दी होखे, एह कानून के खतम करे पर विचार करे के चाहीं. उनका से बेसी त अगिया बैताल भइल बाड़े फूल छाप पाटी के बिहार के परसिडेंट साहेब संजय जयसवाल जी. जयसवाल जी कहले बाड़े कि दारू बेचवावे में परसासन, पुलिस आ माफिया लागल बाड़े सन. एकनी के गंठजरोउवल एतना तगड़ा बा कि सरकार ओकनी के कुछऊ बिगाड़ नइखे पावत. नीतीश के चाहीं कि तुरंते एह कानून पर विचार करस आ अइसन केस अइला पर खाली दरोगा-सिपाही के ससपेन कइला से काम ना चली. जबले बड़का अफसरन पर एक्सन ना होई, तबले ईहे हाल रही. सरकार के हिम्मत नइखे होत एकनी पर हाथ डाले के.

दारू त बहाना बा, असली खींस फूल छाप पाटी के ई बा कि नीतीश जी सगरी काम फूल छाप पाटी के मर्जी के खिलाफे करतारे. जात गिने के बात आइल त ऊ लब से ललटेन छाप पाटी के संगे हो गइले. मोदी जी के सरकार साफ कह दिहले बिया कि जात गिने के काम करावल मुसकिल बा. एकरा बादो नीतीश कुमार जात गिनती खातिर अड़ल बाड़े. एही तरे जब नीती आयोग बिहार के खस्ताहाली के जिकिर अपना रिपोट में कइलस त नीतीश कुमार मुंह बिचका लिहले आ लगले पुरान बात उपटावे कि बिहार के बिसेस राज के दरजा मिले के चाहीं. ई कुल्ह चलते रहल हा, एही बीचे नीतीश कुमार के पाटी तीर छाप यूपी में फूल छाप के खिलाफ चुनाव लड़े के तैयारी शुरू क दिहलस. सभे जानता कि यूपी में तीर छाप के हाल हसुंआ के बियाह में खुरपी के गीत गवला अइसन बा. तबो तीस सीट पर आपन कंडीडेट उतारे के तेयारी में तीर छाप लागल बा. तीर छाप के कहनाम बा कि फूल छाप के खिलाफ चुनाव लड़ल ओकरा खातिर कवनो नया बात नइखे. एकरा पहिले झारखंड में ऊ फूल छाप के खिलाफ चुनाव लड़ल रहे.

एने फूल छाप पाटी भी अब चुप बइठे वाली नइखे. ऊ आपन ओइसन लोग के एगो लिस्ट बनवले बिया, जवन लोग असेमली चुनाव में चिराग पासवान के पाटी के टिकट पर चुनाव लड़ल रहे आ तीर छाप के लुटिया डुबावे में बड़ भूमिका निभवलस. नीतीश के पाटी एही से 43 सीट पर आ गइल. एकर मलाल नीतीश के पहिलहीं से बा. ऊ लोग मुंह दाब के कहबो करेला कि उनका लोग के हरावे में उनकर सहयोगी पाटी लागल रहे. ओही में एगो राजिंदर सिंह रहले हां. दिनारा सीट पर ऊ पासवान के पाटी से खड़ा भइले त तीर छाप के जयकुमार सिंह तीन नंबर पर ठेला गइले. राजिंदर सिंह खुद ना जीतले, बाकिर दुसरका नंबर पर रहले. ओही राजिंदर सिंह के फूल छाप पाटी फेरू अपना संगे बोला लिहले बिया. आवे वाला टाइम में अइसन अउरियो लोग फूल छाप में लवट आवे त कवनो अजरज के बात ना होई. एही से नीतीश कुमार मने मन खिसियाइल बाड़े. बाकिर उनकर आदत ह, जल्दी बोलस ना. जवन करे के होला, ऊ गते से क देले. सौती के खींस कठउती पर उतरिहें, ई बात त पक्का बा.
पांड़े बाबा एगो अउरी बात बतावत रहुवीं. फूल छाप पाटी के कवनो नेता कह दिहले बाड़े कि औरंगजेब आ अशोक में बेसी फरक ना रहे. दुनू के सुभाव एके खानी रहे. एकरा पर तीर छाप पाटी के लोग खूबे बिदकल बा. एहू पर खूब बवाल भइल हा. बाद में फूल छाप वाला जयसवाल जी उनका पर केस कइले. एकरा बादो ममिला ठंडा नइखे परल. उपंदर कुसवाहा एकरा पर खूबे बिदकल बाड़े. जवन होखे मलिकार, रंगत छीक नइके बुझात. बात-बात पर जवनी गंतिया माथ फोरवल बिहार में होता, इसे बुजाता कि नीतीश जी से फूल छाप के ढेर दिन निबही ना.

नीतीश कुमार टाइम आवे के इंतजार करतारे. जवनी गंतिया यूपी में भाजपा में खरमंडल मचल बा आ लोग भाग-भाग के अखिलेश जादो के पाटी में जाता, ओइसे त बुझाता कि हवा फूल छाप के खिलाफ बा. नीतीश कुमार तबले इंतजार करिहें, जबले यूपी के रिजल्ट ना आ जाव. रिजल्ट फूल छाप के खिलाफ गइल त ऊ झटका में पाला बदल सकेले. उनका के एही से लालू जादो आ उनका ललटेन छाप पाटी के लोग पलटू राम कहेला. अगर कहीं अइसन ना भइल त नीतीश चुपचाप फूल छाप के संगे समय काटे खातिर मजबूर हो जइहें. इहे कारन बा कि केहू उनका पर केतनो हुचुकी पारत बा, बाकिर ऊ कान में तेल डाल के चुप बइठल बाड़े.

आज पांड़े बाबा इहे खबर लोग समझावत रहुवीं. उपरवार खेत में बावग हो गइल बा. चंवर एह महीना के आखिर में कुछ आबाद हो पाई. एह से कि अबे पानी सूखे पर आइल रहल हा, तबले बरखा-बूनी पर गइल हा. हमनी नीक-निरोग बानी, रउरा हमनी के चिंता-फिकिर जनि करेब. आपन खेयाल राखेब. सुने में आवता कि करोना एही महीना चढ़ंती पर रही. दवा-दारू टाइम पर खात रहेब. बाकी अगिला पाती में.
राउर, मलिकाइन
(ओमप्रकाश अश्क स्वतंत्र पत्रकार हैं. आलेख में व्यक्त विचार उनके निजी हैं)

Tags: Bhojpuri News, Chief Minister Nitish Kumar, CM Nitish Kumar

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर