Home /News /bhojpuri-news /

Bhojpuri: पाले खां आजादी खातिर लड़ले, अउर तालिबान बर्बादी खातिर

Bhojpuri: पाले खां आजादी खातिर लड़ले, अउर तालिबान बर्बादी खातिर

.

.

गुलशन नंदा के किताब पs पाले खां के नाम से सिनेमा बन ल रहे। 1986 में बनल ई सिनेमा में जैकी सर्राफ पाले खां बनल रहन। लेकिन अब सुनs असल पाले खां के बारे में। पाले खां के ओरिजनल नाम पाले शाह खोस्ती रहे। खोस्त अफगानिस्तान के एक राज्य हs जे पाकिस्तान के सीमा से नजदीक बा।

अधिक पढ़ें ...

बासुकीनाथ अखबार पढ़ के कहले, मेवा खातिर मशहूर अफगानिस्तान का अब लाश के कब्रिस्तान बन जाई ? काबुल हवाई अड्डा पs मानव बम धमाका में डेढ़ सौ से अधिका लोग मारल गइले। तालिबान अउर ओकर समर्थक आपन असली रूप देखा देले। लेकिन खौफ के खेती बहुत अधिक दिन तक ना चले। लादेन गइले। बगदादी गइले। एक दिन तालिबान के सरगना भी मारल जइहें। एतना सुन के कपिलदेव बासुकीनाथ के हाथ से अखबार लेले। अखबार में काबुल के खूनखराबा वला फोटो छपल रहे। ई देख के कपिलदेव कहले, कइसन समय आ गइल ! आज से 35 साल पहिले हम एगो सिनेमा देखले रहीं ‘पाले खां’। ई अफगानी मूल के बीर बांकुड़ा पाले खां के कहानी रहे जे अंग- शान खातिर अंगरेजी सरकार के सामने कबो ना झुकले लेकिन आज तालिबान विदेशी ताकत के हाथ में खेल रहल बा।

आजादी के दीवाना रहले पाले खां

बासुकीनाथ के सिनेमा में बहुत कम दिलचस्पी रहे। कहले, सिनेमा में देखावल बात केतना सही होई ? तब कपिलेदव कहले, न अइसन बात नइखे, जेसे रसेल अउर रोनाल्ड कोहन जइसन लेखक भी पाले खां पs किताब लिखले बाड़े। एकरा अलावा भारत के सबसे सफल उपन्याकार गुलशन नंदा भी पाले के जीवन पs किताब लिखले बाड़े। गुलशन नंदा के किताब पs पाले खां के नाम से सिनेमा बन ल रहे। 1986 में बनल ई सिनेमा में जैकी सर्राफ पाले खां बनल रहन। लेकिन अब सुनs असल पाले खां के बारे में। पाले खां के ओरिजनल नाम पाले शाह खोस्ती रहे। खोस्त अफगानिस्तान के एक राज्य हs जे पाकिस्तान के सीमा से नजदीक बा। पाले खां के पुरखा खोस्त के बसिंदा रहन एह से एह लोग के नाम में खोस्ती जुट गइल। कुछ समय के बाद पाले खां के परिवार अफगानिस्तान से पाकिस्तान के बलूचिस्तान आ गइल। पाले खां के लालन पालन बलूचिस्तान में भइल। पाले खां बहुत बहादुर जोधा रहन अउर अपना कबीला के आजादी खातिर समर्पित रहन। ओह घरी बलूचिस्तान ब्रिटिश भारत के हिस्सा रहे। 1930 में पाले खां आपन सशस्त्र संगठन बना के अंगरेजी राज के खिलाफ लड़ाई लड़े लगले। पाले खां अफगानी पठान (पख्तून) रहन। उनका के अखंड भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी मानल जाला। 1947 में आजादी के समय जब भारत अउर पाकिस्तान के बंटवारा हो गइल तs पाले खां बलूचिस्तान में ही रह गइले। 1951 में ऊ दुनिया के अलविदा कह देले रहन।

नाश के कारण बनी तालिबान

बासुकीनाथ तनी अफसोस के साथे कहले, एक अफगानी पठान के प्रति भारत में केतना प्रेम रहे कि उनका जीवन पs सिनेमा भी बन गइल। लेकिन आज देख लs कि तालिबान के पठान अफगानिस्तान में भारत के लोग पs केतना जुलूम कर रहल बाड़े। तब कपिलदेव जबाब देले, तालिबान के अफगानिस्तान में अइला के कीमत अब पूरा दुनिया के चुकावे के होखी। अमेरिका, रूस, चीन पाकिस्तान, ब्रिटेन जइसन देख के जानमाल के नोकसान झेले के पड़ी। रूस भी चेचन्या में कट्टरवादी आतंकियन से जूझ रहल बा। चीन के मुसलमान भी आपन आजादी खातिर हिंसक आंदोलन चला रहल बाड़े। आज रूस अउर चीन तालिबान के पुचकार रहल बा। लेकिन जब तालिबान पलटवार करी तs अकिल ठेकान लाग जाई। इहे तालिबान के नूं अमेरिका पालपोस के खाड़ा कइले रहे, 2001 में ओकरे के डंस देलस। तालिबान ओसामा बिन लादेन के अफगानिस्तान में छिपे के जगह देलस। एकरा बाद अमेरिका में ट्विन टावर कांड होखे में देर ना लागल। खूंखार तलिबान के राज में अफगानिस्तान एक बेर फेर आतंकियन के अड्डा बन गइल बा। काबुल हवाई अड्डा पs बम धमाका के बाद एक बात खाफ हो गइल। अब बिनाश के बीआ बोआ गइल बा।

सीरिया से भी बदतर मत हो जाए अफगानिस्तान

कपिलदेव के बात सुन के बासुकीनाथ सवाल कइले, अइसन बात नइखे कि तालिबान के चलते दुनिया में बर्ल्डबार हो जाई। सद्दाम हुसैन के अहंकार के आग में इराक खाक हो गइल। फिलिस्तीन अउर सरीरिया में न जाने केतना साल से मारकाट चल रहल बा। अब बुझात बा कि अफगानिस्तान भी अइसने अशांति के शिकार हो जाई। अभी तालिबान एह बात से इंकार कर रहल बा कि ओकर खोरासान इस्लामिक एस्टेट से कवनो संबंध बा। लेकिन तालिबान के कथनी अउर करनी में अंतर केहू से छिपल नइके। आइएस खोरासन के हक्कानी नेटवर्क से संबंध रहल बा। अभी हक्कानी नेटवर्क, तालिबान के सामूहिक शासन में शामिल बा। एह आधार पs कहल जा सकेला कि दूनो के बीच एक हद तक संबंध बा। लेकिन शासन के लोभ अइसन चीज हs कि भाई-भाई में दुश्मन बना देला। अगर तालिबान अउर इस्लामिक एस्टेट खोरासन में खून खराबा शुरू हो जाई तs तय बा कि अफगानिस्तान के हाल सीरिया से भी बदतर हो जाई।

माटी में मिल गइल अमेरिका के शान

कपिलदेव कहले, कुछुओ कहs काबुल के घटना से अमेरिका के शान माटी में मिल गइल। हालांकि सैनिकन के हत्या के बदला लेवे खतिर अमेरिका अफगानिस्तान में दू एयर स्ट्राइक कर चुकल बा। काबुल कांड के मास्टर माइंड के भी मारे के दावा कइल गइल बा। लेकिन इस्लामिक एस्टेट खोरासन के हिम्मत पs कवनो असर नइखे बुझात। अफगनिस्तान में अमेरिकी सैनिकन पs अभी अउर हमला के चेतावनी दिहल गइल बा। बराक ओबामा के शासनकाल में अमेरिका लादेन के मार के 9/11 के बदला लेले रहे। डोनाल्ड ट्रंप के शासनकाल में अमेरिका इस्लामिक एस्टेट के सरगना अबु बकर बगदादी के मार गिरवले रहे। तs का अब जो बाइडेन के शासनकाल में काबुल कांड के बदला लेवे खातिर इस्लामिक एसिटेट खोरासन के सफाया हो सकेला ? अगर अमेरिकी सैनिक अफगानिस्तान से ना हटिते तs ई दिन ना देखे के पड़ित। अमेरिकी सरकार अफगानी लोग के भगवान भरोसे छोड़ के आपन सैनिक हटावे के फैसला ले रहे। अफगानिस्तान में उथल पुथल मचला के चलते ही डेढ़ सौ से अधिका अदिमी के जान से हाथ धोवे के पड़ल। कपिलदेव के बात सुन के बासुकीनाथ कहले, तूं तs पाले खां के कहानी बड़ा सही समय पs सुनवलs। एक अफगानी पठान आजादी खातिर लड़ल अउर एक पठान (पख्तून तालिबान) आज बर्बादी खातिर लड़ रहल बा। भला बम-बंदूक से आज ले कवनो शासन चलल बा ?

Tags: Afghanistan taliban news, Bhojpuri News, Taliban News

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर