• Home
  • »
  • News
  • »
  • bhojpuri-news
  • »
  • Bhojpuri: लता जी के आवाज़ में गूँजल रहे भोजपुरी सिनेमा के पहिला राखी गीत

Bhojpuri: लता जी के आवाज़ में गूँजल रहे भोजपुरी सिनेमा के पहिला राखी गीत

भोजपुरी के दुसरके फिलिम ‘लागी नाहीं छूटे रामा’ में भारत के स्वर-कोकिला लता मंगेशकर के आवाज में एगो अइसन अद्भुत गीत बा जवन राखी पर आजो भोजपुरिया इलाका में गूँजत रहेला.

  • Share this:

भाई-बहिन के अटूट रिश्ता के त्योहार ह रक्षाबंधन. एह त्योहार में बहिन भाई के कलाई पर राखी बान्हेले, आरती उतारे ले, बलैयां लेले, मिठाई खियावेले, भाई से समरथ के अनुसार नेग ले ले; बदले में भाई ओकर रक्षा खातिर प्रण ले लें, ओकरा के वादा करेलें. एगो बड़ा ही सुंदर रस्म बा एह त्योहार से जुड़ल. रउआ कहब कि हम एह में नया का बतsवनी ह, ई त सभे जानत बा अउरी करबो करेला. बाकिर हम ई सब एह से बतवनी हँ काहें कि एह त्योहार के रस्म में बहुत उत्साह बा, सुंदरता बा, दर्शनीय घटक बा. आ फिल्म, वीडियो, सीरियल त उहे चीज देखावेला जवन देखावे में आकर्षक लागे, सुंदर लागे. इहे कारण बा कि सिनेमा के शुरुआत से अब ले भारत के हर भाषा के अधिकांश फिल्मन में रक्षा बंधन के त्योहार जरूर देखावल जाला. अउर, तब त राखी के त्योहार के सीन के स्कोप आउर बढ़ जाला जब फिल्म देशभक्ति होखे या फिल्म में मुख्य किरदार के बहिन होखे. भोजपुरी सिनेमा में भी भाई-बहिन के राखी त्योहार के बहुत गहराई आ खूबसूरती से शुरूआती दौर से ही देखावल गइल बा.

भोजपुरी के दुसरके फिलिम ‘लागी नाहीं छूटे रामा’ में भारत के स्वर-कोकिला लता मंगेशकर के आवाज में एगो अइसन अद्भुत गीत बा जवन राखी पर आजो भोजपुरिया इलाका में गूँजत रहेला. अइसन बुझाला जइसे लता जी हर भोजपुरिया बहिन के तरफ से भाई लोग से कहsतारी, ‘रखिया बन्हा ल भइया, सावन आइल, जीयs तू लाख बरिस हो’. मजरुह सुल्तानपुरी के गीत आ चित्रगुप्त जी के संगीत पर लता दीदी के तरफ से भोजपुरिया लोग के रक्षा बंधन पर सौगात बा ई क्लासिक आ कालजयी गीत.

राखी पर एगो अउर गीत हमरा दिल के बहुत करीब बा. गीत के बोल बा, ‘राखी हर साल कहेले सवनवा में, भइया बहिनी के हरदम रखिहs मनवा में / बहिनी बसेलू तू हमरा परनवा में, तोहरी मनसा पुराइब हर जनमवा में’. राखी पर एह से बढ़िया गीत का हो सकत बा? ब्रजकिशोर दूबे जी के लिखल एह हृदयस्पर्शी गीत में ई ताकत बा कि कवनो कारण से भाई-बहिन में रूसा-फूली भइल होखे भा बोलचाल बंद होखे त गीत मन के मइल आँख के लोर से धोके रिश्ता के टूटल तार फेर से जोड़ सकेला. चित्रगुप्त जी के संगीत पर, अलका याज्ञनिक आ मनहर उदास के आवाज में, दूबे जी के संवेदना से भरल बोल आ भाव जादू करत बा. शत्रुघ्न सिन्हा आ शकीला मजीद पर फिल्मावल फिल्म ‘बिहारी बाबू’ के ई गीत एगो अमर गीत बा.

भोजपुरी में भाई-बहिन खातिर खासतौर पर बनल रहे एगो फ़िल्म

‘भैया दूज’ नाम के एगो फिल्म बनल साल 1984 में. ई फिलिम सुजीत कुमार, पद्मा खन्ना, राकेश पांडेय अउर गौरी खुराना जइसन सितारन से सजल रहे. एह फिलिम के एगो गाना रहे-राम भइया चलेले अहेरिया, बेला बहिना देली आशीष. लक्ष्मण शाहाबादी के बोल अउर चित्रगुप्त जी के संगीत पर करेजा के चीर देवे वाला ई गीत भोजपुरिया इलाका में भाई-बहिन के जवन कनेक्शन बा, जवन एक-दूसरा खातिर चिंता अउर समर्पण बा, ओकरा के परिभाषित करत बा. हमनी किहाँ बड़ बहिन महतारी लेखाँ आ छोट बहिन बेटी लेखाँ होले, ओह आत्मीयता के परिभाषित करत बा. एही तरे भाई-बहिन के त्योहार गोधना पर एगो पारंपरिक गीत गावल जाला, ‘गोधन बाबा चले लें अहेरिया, खिड़लिचा बहिना देली आसीस हो ना’.

अभी ले राखी पर पुरनका फिल्मन से तीन गो गीत के बात कइनी. तीनों के संगीत चित्रगुप्त जी के बा. चित्रगुप्त जी भोजपुरी के का दे देले बानी, ई सिर्फ महसूस करे के चीज बा. मजरूह सुल्तानपुरी, ब्रज किशोर दूबे आ लक्ष्मण शाहाबादी के गीत-संगीत के ज्ञान के बारे में कुछ कहहीं के नइखे. सामजिक सरोकार आ समाज के प्रति जवाबदेही, साथ हीं मन-मिजाज अइसन रहल कि हइसन कालजयी आ हृदयस्पर्शी गीत बनल. आज एह ऊँचाई के गीत नइखे बनत त बतावे के जरुरत नइखे कि काहे नइखे बनत. एह तीनों गीत के उदहारण से समझ में आ गइल होई.

निरहुआ के हिट सीरीज ‘निरहुआ चलल ससुराल’ के दूसर फिलिम ‘निरहुआ चलल ससुराल-2’ के गाना ‘मेरी बहना रे’ के लिरिक्स बहुत बढ़िया बा. प्यारे लाल यादव कवि जी के लिखल ह. ऊ खाँटी माटी के हउवन. लेकिन एक बात नइखे बुझात कि ऊ भोजपुरी के एतना सुन्दर गीत में हई हिंदी के पोंछ ‘मेरी बहना रे’ काहे घुसइले बाड़न? ओम झा के संगीत पर कल्पना अउर उदित नारायण के स्वर में सुशील सिंह अउर आम्रपाली दूबे पर फिल्मावल ई गीत अच्छा बन पड़ल बा.

निरहुआ के ही एगो अउर फिलिम ‘जिगर’ में भी एगो रक्षा-बंधन के गाना बा ‘प्यारी बहिनिया’. गाना के बोल बहुते सुन्दर बा. सुशील सिंह अउर रितु सिंह पर फिल्मावल गइल बा.प्यारेलाल यादव लिखले बाड़े अउर संगीत देले बाड़े अविनाश झा. ए गाना के बाद सुशील सिंह भाई के रोल में कई गो फिलिम में देखाई देले. उनका करियर के सबसे सफल फिलिम ‘निरहुआ रिक्शावाला’ में ऊ हीरोइन के विधायक भाई के रोल में रहलें. एह फिलिम में दर्शक लोग उनकर रोबीला अंदाज के बहुते सराहल. फिलिम ‘निरहुआ चलल ससुराल 2’ में भी ऊ एगो दबंग भाई के किरदार निभवले जे आपन बहिन के खुशी खातिर कुछुओ कर सकता.

हालांकि एह बेरा भोजपुरी में बहुत तेजी से नया म्यूजिक चैनल बनsता, म्यूजिक लेबल बनsता आ ओही तेजी गाना भी अउरी नया नया गायक भी मार्केट में आ रहल बा लोग. एहीसे स्वाभाविक बा कि हर त्योहार, हर मुद्दा पर एह लोग के गाना मार्केट में आवत बा, बाजत बा अउरी वॉच हिस्ट्री में नीचे दबा जाता. राखी पर भी हर साल खाँची भर गीत आवेला, सुने वाला अपना विवेक, पसंद आ आदत के हिसाब से गाना चुनेला अउरी सुनेला.

बाकी हमरा अभियो इंतज़ार बा राखी पर ओइसने गीत के जवन भोजपुरी सिनेमा के शुरुआती दौर में बनल.

फिलहाल सबका के राखी के शुभकामना.

( लेखक मनोज भावुक भोजपुरी सिनेमा व साहित्य के जानकार हैं. यह उनके निजी विचार हैं. )

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज