• Home
  • »
  • News
  • »
  • bhojpuri-news
  • »
  • Bhojpuri Spl: जब बरफ के करेजा फाटल तs आ गइल परलय, अउर मच गइल तबाही!

Bhojpuri Spl: जब बरफ के करेजा फाटल तs आ गइल परलय, अउर मच गइल तबाही!

.

.

सात साल के बाद उत्तराखंड (Uttarakhand) में एक बेर फेर आफत के पहाड़ टूट गइल. उहवां ग्लेशियर फटला (Glacier Burst) से जल प्रलय आ गइल अउप एह घटना में अब तक सैकड़ों लोग लापता बाड़ें.

  • Share this:

छपरा के गुदरी बजार. सउदा सुलुफ लेला के बाद हरेनदर आगा बढ़ले तs बिकरमा से मोलकात हो गइल. दूनो जना बतिवते लखन चाय दोकान पहुंचले. असपेसल चाह के औडर देके अभी बेंच पs बइठले रहन लोग कि रेडियो पs समाचार आवे लागल. उत्तराखंड में जल के परलय के खबर सुन के बिकरमा बेंच से उठ के रेडियो भिरी पहुंच गइले. उहां कुछ अदिमी अउर जमा हो गइले. खबर में ग्लेसियर फटला (Glacier Burst) से तबाही के हाल सुनावल जात रहे. सैक़ड़ों अदिमी के लपाता होखे के खबर से सबके चेहरा पs चिंता के भाव आ गइल. हरेनदर कहले, कुदरत के कोप कब काल बन के टूट जाई, केहू नइखे जानत. सात साल के बाद उत्तराखंड में एक बेर फेर आफत के पहाड़ टूट गइल. बिकरमा इशारा से हरेनदर के चुप रहे के कहले. सभे कोई तनमयता से समाचार सुने लागल. समाचार खतम भइल तs लखन चुक्कड़ में चाह सजा के ले अइले.

सात साल पहिले भी भइल रहे जलपरलय
बिकरमा चाह के चुस्की लेके के कहले, ई खबर सुन के हमरा 2013 के घटना ईयाद आवे लागल. ओह घरी बादल फटला से केदारनाथ में जवन परलय भइल रहे ओकरा में छपरा गोपालगंज के 72 अदिमी फंसल रहन. हमार गांव गोपालपुर से लोग तिरिथ कमाये खातिर लोग रिजरब बस से बदरीनाथ धाम गइल रहे. ओह लोग के बस जब चांचर पहुंचल तs बाढ़ अउर चट्टान खिसकला से सब रास्ता बंद हो गइल रहे. न खाये के ठेकान न पिये के ठेकान. बरखा के पानी पी के लोग समय गुजरले रहे. शकुंतला चाती जब ओह अफतरा के कहानी सुनावे ली तs रोआं खाडा हो जाला. बिकरमा के भिरिये एगो अदिमी बइठल रहन. कलफ लागल धोती कुर्ता पेन्हले बुझाये कि कवनो नेता होखस. बिकरमा देने देख के कहले, गोपालगंज के भोरे के लोग भी बस से केदारनाथ के जतरा पs गइल रहे. जब ऊ लोग गंगोतरी अउर जमनोतरी के दरसन कइला के बाद केदारनाथ जाए लागल तs उनका लोग के बस रस्ता खारब भइला से चांचर में फंस गइल रहे. पहाड़ के धंसला से सभ रस्ता जाम हो गइल रहे. ओह घरी हेलीकॉप्टर से लोग के निकाले पड़ल रहे.

काहे भइल दुखदायी घटना?
जोशीमठ में ग्लेसियर फाटे की बतकही चलते रहे कि लखन, रोड देने देख के कहले, आईं गुरुजी, चाह पिहीं. शशिकांत जी हाईस्कूल में पढ़ावत रहीं. अगल बगल के लोग उहां के गुरु जी कहत रहे. शशिकांत जी दोकान में अइले तs लखन कहले, रेडियो पs तs बड़ा दुखदायी खबर आइल हs. रउआ तs जानते होखब. का, उत्तराखंड के बात होत बा का ? अरे का कहीं, खबर सुन के मन में बड़ा कचोट लागल. बिकरमा जब जनले कि शशिकांत जी शिक्षक हईं तs ऊ पूछले, अच्छा बताईं कि ई घटना भइल कइसे ? शशिकांत जी कहले, अइसे तs ई घटना के सही कारण अफसर लोग ही बताई लेकिन एक बात तs कहल जा सकेला कि परकिरती से छेड़छाड़ के नतीजा अब सामने आ रहल बा. बाताबरन में अतना गरमी में बढ़ रहल बा कि ओकर फल तs भोगही के पड़ी. 2019 में बैज्ञानिक लोग कहले रहे कि बातावरन में गर्मी बढ़े से हिमालय के ग्लेसियर (हिमखंड) दोगिना तेजी से पिघल रहल बा. भारत के हिमालय क्षेत्र में ग्लेसियर के मिजाज से समझे बूझे खातिर बैज्ञानिक लोग के लगातार नजर राखल चाहत रहे. गर्मी में बर्फ के दबाव से ग्लेसियर तs फाटर रहे लेकिन जाड़ा में अइसन पहिला बेर भइल बा. ढलान पs बांध बनावे के बारे में भी दोबारा सोचे के पड़ी.

परकिरती से छेड़छाड़ के फल भोगी के पड़ी
शशिकांत गुरुजी के बात सभे ध्यान से सुनत रहे. उहां के कहनी, 2013 में भी उत्तराखंड में जवन घटना भइल रहे ओकरा के टारल जात सकत रहे चाहे तबाही कम कइल जा सकत रहे. केदारनाथ मंदिर के ठीक ऊपरे छह किलोमीटर के चढ़ाई पs चैराबाड़ी ग्लेसियर रहे. 2004 में चैराबाड़ी ग्लेसियर के बरफ पिघल के छोटहन झील बन गइल रहे. ओघ घरी झील के गहराई मोटामोटी चार मीटर रहे. एगो भूवैज्ञानिक कहले रहन कि अगर चैराबाड़ी ग्लेसियर के झील में दस-एगारह मीटर पानी जमा हो जाई तs भारी तबाही मच सकेला. अगर ई झील उफना के टूट जाई तs केदारनाथ मंदिर के बहुत नोकसान हो सकेला. लेकिन ई बैज्ञानिक के बात पs केहू धेयान ना देलस. एकर नतीजा ई भइल कि 2013 में केदारनाथ मंदिर अउर अगल में त्राही-त्राही मच गइल. ई घटना के बाद चैराबाड़ी झील सपाट मैदान बन गइल रहे. सब बरफ परलय के पानी बन के नीचे बह गइल रहे. सात साल पहिले करीब चार हजार लोग मारल गइल रहन. भगवान के इहे बिनती बा कि अबकी कम से कम जान मान के नोकसान होखे. सभी गुरु जी के बात पs मुड़ी उपरे कर के देवता से इहे मनौती मांगे लागल. (लेखक अशोक कुमार शर्मा वरिष्ठ स्तंभकार हैं.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज