Bhojpuri Spl: बंगाल में चौंका देबे वाली चुनावी घटना आ राजनीतिक घमासान

चुनाव आयोग (Election Commission) स्पष्ट रूप से घोषणा क दिहलस कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के गोड़ में नंदीग्राम में जौन चोट लागल ऊ एगो हादसा रहल ह. चुनाव आयोग के दूनो पर्यवेक्षक दीदी पर हमला के सिलसिला में आपन अलग-अलग रिपोर्ट सनीचर के जमा क देले रहुए लोग.

  • Share this:
बंगाल में दू दिन का भीतर समाचार विश्लेषण के परिदृश्य बदलि गइल बा. रउरा सब के कई गो बात एके संगे बतावे के परी. चोट लगला के चारे दिन बाद 14 अप्रैल के ममता बनर्जी चुनावी मैदान में फेर उतरि गउवी. ऊ व्हीलचेयर पर बइठि के रोड शो करतारी. ममता बनर्जी के ई रोड शो 5 किलोमीटर लंबा रहुए जौन पार्क स्ट्रीट से शुरू भउवे. चुनाव आयोग राज्य के मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय आ खुद चुनाव आयोग के दू गो पर्यवेक्षक लोगन के अलग-अलग रिपोर्ट के आधार पर घोषणा कइले बा कि ममता बनर्जी पर केहू हमला नइखे कइले. हमला के कौनो सबूत नइखे मिलल.

चुनाव आयोग स्पष्ट रूप से घोषणा क दिहलस कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के गोड़ में नंदीग्राम में जौन चोट लागल ऊ एगो हादसा रहल ह. चुनाव आयोग के दूनो पर्यवेक्षक दीदी पर हमला के सिलसिला में आपन अलग-अलग रिपोर्ट सनीचर के जमा क देले रहुए लोग. रिपोर्ट में बा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के घायल भइल महज एगो दुर्घटना रहल ह ना कि सोचल समझल हमला भा साजिश. विशेष पुलिस पर्यवेक्षक विवेक दुबे आ विशेष पर्यवेक्षक अजय नायक निर्वाचन आयोग के सनीचर के सांझि खान आपन- आपन रिपोर्ट दे जमा क देले बा लोग.

ओने ममता बनर्जी के चोट लगला के बारे में राज्य के मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय जौन पहिला रिपोर्ट चुनाव आयोग के लगे जमा करुअन, ओसे चुनाव आयोग संतुष्ट ना रहुए. ओमें कइ गो जानकारी स्पष्ट ना रहे. मुख्य सचिव भीड़ के दबाव, तंग सड़क, सड़क के एकदम किनारे लोहा के खंभा, दरवाजा के झटका से बंद भइल, ममता बनर्जी के बाहर निकलल गोड़ के घायल भइल जइसन कई गो अइसन बात लिखले रहले कि जौना से कौनो निर्णय पर पहुंचल बहुत मुश्किल रहुए. मुख्य सचिव के रिपोर्ट से ईहो पता ना चलत रहुए कि नंदीग्राम में ममता बनर्जी के पैर में लागल चोट हादसा रहुए कि हमला.

पुलिस रिपोर्ट के आधार पर मुख्य सचिव, निर्वाचन आयोग के जौन रिपोर्ट देले बाड़े ओमें प्रत्यक्षदर्शियन के बयान भी अलग-अलग तरह के रहुए. ओसे कुछ समझे में नइखे आवत. ए बारे में भी स्पष्ट सबूत नइखे कि कार के दरवाजे के धक्का मारल बा. एह तरह के कौनो वीडियो चुनाव आयोग के नइखे मिलल. चुनाव आयोग मुख्य सचिव के पहिला रिपोर्ट के खारिज क दिहुए. त राज्य के मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय आपन रिपोर्ट दोबारा जमा करुअन. तब जाके चुनाव आयोग मुख्यमंत्री के चोट लगला के बारे में आपन फैसला सुनउवे. चुनाव आयोग एगो अउरी काम कइले बा- राज्य के सुरक्षा व्यवस्था के डॉयरेक्टर विवेक सहाय आ पूर्व मेदिनीपुर के पुलिस सुपरिंटेंडेंट (एसपी) प्रवीण प्रकाश के पद से हटा के एह दूनों जाना के सस्पेंड क देले बा. विवेक सहाय पर चुनाव आयोग कारवाई करेके कहले बा. कहले बा कि मुख्यमंत्री के जेड प्लस सुरक्षा में रहते हुए चोट कइसे लागि गइल.

तृणमूल कांग्रेस के समर्पित कार्यकर्ता कहतारन स कि घायल शेरनी ज्यादा खतरनाक होले, दीदी के ललकार दूर तक जाई l घायल भइला का दू दिन बादे चुनाव के गंभीरता देखि के दीदी डाक्टरन पर दबाव डालि के अस्पताल से व्हील चेयर पर निकलुई. चुनाव प्रचार ह्वील चेयरे पर बइठि के कर रहल बाड़ी. ममता बनर्जी पदयात्रा के पहिले कहुई कि हमार पार्टी आपन लड़ाई जारी राखी, हमनी का निडर होके लड़बि जा, अबहियों हमरा काफी दर्द होता. बाकिर हम बंगाल के लोगन के दर्द ज्यादा महसूस करतानी. हम अपना जमीन के एह लड़ाई में बहुते नोकसान उठवले बानी आ हम अउरी अधिका पीड़ित होखबि, तबो हम लड़बि. हम डरपोक लोगन के सामने कभी ना झुकबि.

एने अवैध कोयला खदान के खोदाई के मामला में सनीचरे के सीबीआई मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजा अभिषेक बनर्जी के साढू भाई अंकुश अरोड़ा, साली माने अंकुश के पत्नी मेनका गंभीर आ ससुर पवन अरोड़ा के पूछताछ खातिर बोलवले बिया. कुछे दिन पहिले अभिषेक के पत्नी रुजिरा नरुला बनर्जी आ साली मेनका गंभीर से सीबीआई पूछताछ क चुकल बिया. अभिषेक बनर्जी डायमंड हार्बर लोकसभा सीट से लोकसभा सांसद हउवन. सीबीआई, चिटफंड घोटाला में तृणमूल कांग्रेस के राज्य सभा सांसद मानस भुंइया से पूछताछ के बाद शुक का दिने बंगाल के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी के बोलउवे. ओने प्रवर्तन निदेशालय तृणमूल के नेता मदन मित्र के पूछताछ खातिर बोलउवे. तृणमूल कहतिया कि ई बदला के राजनीति ह. सीबीआई तृणमूल कांग्रेस के एह नेता लोगन से कहले बिया कि ऊ लोग सीजीओ कांप्लेक्स स्थित ओकरा कार्यालय में आवसु लोग आ आई कोर चिटफंड घोटाला का संबंध में पूछताछ के जबाब देसु लोग.

आरोप बा कि सन 2011 में आई कोर नामक चिटफंड कंपनी के एगो कार्यक्रम में पार्थ चटर्जी एगो कार्यक्रम में मंच पर मानस भुइयां का संगे बइठल रहले आ आई कोर कंपनी के प्रशंसा कइले रहले. पार्थ चटर्जी ओह घरी उद्योग मंत्री रहले आ भुइयां सिंचाई मंत्री. तृणमूल कांग्रेस के ई दूनो नेता कहता लोग कि कौनो कार्यक्रम में शामिल भइला से केहू घोटाला में शामिल ना हो जाला. आई कोर चिट कंपनी पर सेबी के नजर परल त ओकरा शक भइल. सेबी तुरंते आदेस दिहलस कि आई कोर ग्रुप लोगन से पइसा जमा कइल तत्काल बंद करो. सेबी आई कोर के बंद क दिहलस. कांग्रेस नेता सचिन पाइलट आई कोर ग्रुप के बात संसद में उठवले रहले.

ओने दू दिन पहिले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रत्याशी शुभेंदु अधिकारी के नंदीग्राम विधानसभा सीट खातिर नामांकन के पर्चा भरला का बाद राजनीतिक सरगर्मी अउरी तेज होखल जाता. उनुका साथे तीन गो केंद्रीय मंत्री- स्मृति इरानी, बाबुल सुप्रियो आ धर्मेद्र प्रधान मौजूद रहुए लोग. स्मृति इरानी भाजपा के अग्नि कन्या मानल जाली. अमेठी से राहुल गांधी के हरावला का बाद उनुकर महत्व अउरी बढ़ि गइल. बंगाल में ममता बनर्जी के खिलाफ उनुकर तेवर भाजपा के पसंद परेला. भाजपा मानतिया कि नंदीग्राम में उनुकर उपस्थिति फेर एगो कौंध पैदा करी.

नंदीग्राम में एगो जनसभा में स्मृति इरानी कहुई कि हम दीदी (ममता बनर्जी) से पूछे आइल बानी कि कौना बेटी के वोट देबे के बा? 80 साल के बुजुर्ग महिला के के पिटले बा? भाजपा कार्यकर्ता लोगन के हत्या के कइले बा? दुर्गा माता के मूर्ति विसर्जन आ सरस्वती पूजा के अनुमति के ना देला? जब दीदी नंदीग्राम आके “खेला होबे” कहेली त एकर माने का भइल? स्मृति इरानी सवालन के झड़ी लगा दिहुई. एकरा पहिले 10 मार्च के एह सीट से तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रत्याशी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नामांकन कइए चुकल बाड़ी. पत्रकारन से शुभेंदु कहुअन कि विकास के नांव पर चुनाव होई आ भगवान उनकरा संगे बाड़न. सुरुए से शुभेंदु अधिकारी अपना के भूमिपुत्र कहतारे. त लड़ाई रोचक मोड़ पर आ गइल बिया. नंदीग्राम में मतदान एक अप्रैल के बा. माने 15 दिन बादे नंदीग्राम में वोट परी.

ओने चुनाव आयोग ममता बनर्जी के जख्मी भइला पर तृणमूल कांग्रेस के आरोप के बहुत कड़ा जबाब देले बा. तृणमूल कांग्रेस चुनाव आयोग पर आरोप लगउवे कि ऊ चुनाव का नांव पर कानून व्यवस्था अपना हाथ में लेले बा आ पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) आ एडीजी माने अतिरिक्त महानिदेशक (कानून व्यवस्था) के ट्रांसफर क देले बा. एही से ममता बनर्जी पर हमला भइल ह. चुनाव आयोग जबाब देले बा कि ई त चुनाव आयोग के गठन आ कार्यकलाप पर सवाल उठावल भइल. नंदीग्राम में मुख्यमंत्री के चोट लागल निश्चिते दुर्भाग्यपूर्ण बा आ एकर जांच होता. बाकिर ई कहल कि चुनाव आयोग पूरा कानून व्यवस्था अपना हाथ में ले लेले बा, गलत बा. चुनाव आयोग चुनाव का समय रोजमर्रा के रूटीन कानून व्यवस्था ना देखेला. चुनाव आयोग ओह कानून के ना बदलेला जौन मुख्यमंत्री एप्रूव कइले बाड़ी, आदेश देले बाड़ी.

आ ई कहल कि एगो खास राजनीतिक पार्टी के निर्देश पर चुनाव आयोग तबादला कइले बा, गलत बा. संविधान के अनुच्छेद 324 में चुनाव आयोग के अधिकार के बारे में स्पष्ट बतावल बा कि चुनाव आयोग चुनाव व्यवस्था के देख-रेख, नियंत्रण आ निर्देश दी. ई भारतीय संविधान के मूलभूत आधार आ ताना- बाना ह. चुनाव आयोग आगे कहता कि आयोग के विशेष पर्यवेक्षक अजय नायक आ विवेक दूबे के निर्देश पर ही डीजीपी आ एडीजी (लॉ एंड आर्डर) के ट्रांसफर कइल गइल बा. एह आरोप पर कि चुनाव आयोग ट्रांसफर का पहिले राज्य सरकार से ना पुछलसिह, चुनाव आयोग लिखले बा कि ई चुनाव आयोग के कानूनी बाध्यता नइखे. चुनाव आयोग कहले बा कि ई आरोप कि चुनाव आयोग एगो खास पार्टी के दिशा निर्देश पर चलता, दुर्भाग्यपूर्ण बा.

ओने नंदीग्राम में ओइजा के नागरिक दीप शंकर दास कहतारे कि ममता बनर्जी के जब चोट लगुए त ऊ अपना फेसबुक पर ऊ लाइव प्रसारण करत रहुअन. उनुका आंखी के सोझा दीदी गाड़ी के दरवाजा खोलुई दरवाजा जाके एगो साढ़े तीन फुट से तनी कम ऊंट खंभा से टकरउवे आ वापस जोर से ममता बनर्जी के गोड़ पर चोट करुए. एही से उनका बांया पैर के हड्डी में गंभीर चोट आइल बा. केहू हमला नइखे कइले. ओह समय सेक्युरिटी के लोग मौजूद रहुए. दीप शंकर दास 34 मिनट के वीडियो बनवले बाड़े. लेकिन ममता बनर्जी के आरोप बा कि उनुका पर हमला भइल बा. ममता बनर्जी अब धीरे- धीरे स्वस्थ होतारी. बाकिर पूरी तरह स्वस्थ होखे में उनुका समय लागी.

यशवंत सिन्हा तृणमूल कांग्रेस में, उनकर कौनो असर नइखे

अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वित्त आ विदेश मंत्री रहि चुकल यशवंत सिन्हा 13 मार्च के कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गउवन. सन 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनला का बाद से यशवंत सिन्हा भाजपा से नाराज़ चलतारे. एही नाराज़गी के दौरान ऊ पार्टी छोड़ले रहले. यशवंत सिन्हा के बेटा जयंत सिन्हा अबहियों भाजपा में बाड़े आ झारखंड के हजारीबाग लोकसभा सीट से सांसद बाड़े. मोदी सरकार के पहिला कार्यकाल में ऊ मंत्री भी रहले. यशवंत सिन्हा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगातार हमला बोलत रहले ह. अब तक अइसन नइखे लागत कि उनकरा तृणमूल कांग्रेस में शामिल भइला से बंगाल विधानसभा चुनाव में कवनो असर पड़ी. अइसहूं यशवंत सिन्हा आउट डेटेज नेता बाड़े. तृणमूल कांग्रेस में शामिल होखे से पहिले यशवंत सिन्हा ममता बनर्जी से उनका घरे भेंट करुअन. मुलाक़ात के बाद सिन्हा केंद्र सरकार पर हमलावर बयान दिहुअन.

बंगाल में संयुक्त किसान मोर्चा के इंट्री

दिल्ली के किसान आंदोलन में बंगाल के किसानन के हिस्सेदारी ना रहल ह. वजहें ई बा कि एइजा न्यूनतम समर्थन मूल्य कौनो मुद्दा ना रहल ह. एकरा अलावा एइजा बड़ किसान नइखे लोग. एह परिस्थिति में नंदीग्राम में संयुक्त किसान मोर्चा के सभा के पूरा जिम्मेदारी सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पर बा. बंगाल के सबसे प्रमुख आंदोलनन में से पहिला नंदीग्राम आ दूसरा सिंगूर रहि चुकल बा. किसानन के जमीन अधिग्रहण के खिलाफ एही दूनों जगहन पर आंदोलन जोर पकड़ले रहे. नंदीग्राम में संयुक्त किसान मोर्चा के महापंचायत भइल ह. राकेश टिकैत भाषण दिहले ह आ कहले ह कि किसान आंदोलन के केहू ना रोक सकेला. आंदोलन के जगह पर पक्का मकान बनाइब जा ताकि आंदोलनकारी ओइजा रहि सक सन. (लेखक विनय बिहारी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.