होम /न्यूज /bhojpuri-news /

Bhojpuri: तृणमूल कांग्रेस के नेता के मेहरारू-बेटा के जनता पीट-पीट के बेहाल क दिहलस

Bhojpuri: तृणमूल कांग्रेस के नेता के मेहरारू-बेटा के जनता पीट-पीट के बेहाल क दिहलस

.

.

पश्चिम बंगाल में लोग सत्तारूढ़ दल के भ्रष्ट नेतन के प्रति अचानके हिंसक हो गइल बा. हाल के घटना सुनीं. पूर्व मेदिनीपुर के भगवानपुर के घटना. पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी के नजदीकी तृणमूल कांग्रेस के नेता शिव शंकर नाइक पर नोकरी दियवावे के नांव पर कई लोगन से लाखों रुपया लेके आ धोखाधड़ी करेके आरोप लागल बा.

अधिक पढ़ें ...

भगवानपुर विधानसभा क्षेत्र के कोटबा ग्राम पंचायत क्षेत्र के एगो बिजली बिभाग के रिटायर अधिकारी शिव शंकर नाइक के खिलाफ गांव वाला एकजुट होके उनका घरे पहुंचले सन आ उनकरा पर मास्टर के नोकरी लगवाले के नाम घूस के रूप में दियाइल रुपया खा गइला के आरोप लगा के बहुत बुरा- भला कहले सन. गांव वालन के खीस बढ़त गइल. ओकनी के शिवशंकर नाइक के पत्नी मलीना नाइक आ उनका बेटा आ बेटी को घसीट के घर से बाहरा निकलले सन आ बड़ी मार मरले सन. अब शिव शंकर नाइक के बेटा के हाल सुनी. बेटा के एगो फेड़ (पेड़) से बान्हि के खूब पिटले ह सन. पिटाई के दृश्य देख के रोंगटा खड़ा हो जाता. पहिले तृणमूल कांग्रेस के नेता से लोग डेरात रहल ह. बाकिर अर्पिता मुखर्जी का घरे 50 करोड़ रुपया के पहाड़ देखला का बाद सत्तारूढ़ दल के नेतन से केहू डेरात नइखे. ई एगो बहुते बड़ परिवर्तन लउकता. इलाका में बड़ा तनाव बा. गांव के लोग सन 2016- 17 में कर्जा लेके, खेत बेच के अध्यापक बने खातिर घूस का रूप में रुपया दिहले. सब जानत रहे कि नाइक, पार्थ चटर्जी के नजदीकी बाड़े त नोकरी मिलिए जाई. रुपया देबे में कौनो हर्जा नइखे. बाकिर केहू के नोकरी ना लागल आ रुपयो ना लौटल. शिव शंकर नाइक के मेहरारू- बेटा के पिटाई करेके आरोप में पांच लोग गिरफ्तार भइल बाड़े. अउरुओ कुछ लोग गिरफ्तार हो सकेले. बाकिर घूस देके नोकरी ना पावे वालन के गुस्सा आसमान पर बा. ऊ गारी आ मारपीट पर उतारू बा लोग. पार्थ चटर्जी के करीबी अर्पिता मुखर्जी का घरे रुपया के पहाड़ का मिलल, लोगन के खीस चरम पर बा.

एकरा पहिले रउरा सब जानते बानी कि खीस में आके एगो महिला पार्थ चटर्जी पर चप्पल फेंकि चुकल बिया. रुपया के पहाड़ मिलला का बाद समूचा पश्चिम बंगाल के लोगन के सत्तारूढ़ दल से बिसवास उठि गइल बा. लोगन के लागता कि आम जनता का संगे धोखाधड़ी हो रहल बा. अब पार्थ चटर्जी आ अर्पिता मुखर्जी के बारे में सुनीं. पहिले ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) के पता चलल रहल ह कि पार्थ आ अर्पिता के कई गो ज्वाइंट घर आ फ्लैट बा संगे- संगे कई गो फर्जी कंपनियो बाड़ी सन. ईडी के अधिकारियन के पता चलल बा कि पार्थ आ अर्पिता के करीब 50 गो बैंक खाता बाड़े सन. एह कुल बैंक खातन के डिटेल निकालल जा रहल बा. अभी ले ईडी पार्थ, अर्पिता के आठ गो बैंक खाता जब्त कइले रहल ह. एह आठ गो बैंक खाता में आठ करोड़ रुपया मिल चुकल बा. फर्जी कंपनियन के जरिए बहुते अवैध लेन- देन भइल बा. बैंक स्टेटमेंट के छानबीन कइला का बाद ईडी अधिकारी एकरा पर एक्शन लिहें सन. ईडी के वकील कहता कि जइसे पियाज के छिलका उतरेला, ओहीतरे पार्थ आ अर्पिता के अवैध कारोबार के धीरे- धीरे पता चलता. पार्थ आ अर्पिता अभी अदालत का कस्टडी में जेल में बा लोग. पहिलहीं छापा में अर्पिता का घर से ईडी, 11 गो सोना के चूड़ी, 9 गो छोटे- छोटे हार, 4 गो बड़े- बड़े हार, 5 गो भारी अंगूठी, एगो सोना के कलम, 7 गो सोना के चेन, 6 गो सोना के मोतीदाना बरामद कइले बा. ईडी बतवले बिया कि एकएक गो बाला के वजन 500 ग्राम बा, माने हर बाला आधा किलो के बा. एतना भारी बाला पहिरे वाला वीर बा. एक कान में आधा किलो आ दोसरका कान में आधा किलो. काने में एक किलो सोना हो गइल. ईडी के आफिसर पता लगावतारे सन कि ई कुल गहना एगो दोकान के किनाइल बा कि अलग- अलग दोकान से. आ कहां- कहां से ई गहना किनाइल बाड़े सन. कहां से एकरा के कीने के धन आइल रहल ह. ओने पश्चिम बंगाल में विधानसभा में विरोधी दल नेता (भाजपा) शुभेंदु अधिकारी तृणमूल कांग्रेस पर आरोप लगवले बाड़े कि सत्तारूढ़ पार्टी के कुछ नेता केंद्रीय परियोजना में भ्रष्टाचार कर रहल बा लोग. बहुत भारी घोटाला हो रहल बा. ऊ कहतारे कि केंद्र सरकार जौन लोक कल्याण खातिर योजना बनवले बिया ओकरा नांव पर धन के हेराफेरी हो रहल बा. कहतारे कि मनरेगा के नांव पर बिना काम कइले फर्जी पेमेंट क दिहल जाता. ई कुल शुभेंदु अधिकारी के ट्विट पढ़ि के जानल जा सकेला. अब लोग कहता कि पार्थ चटर्जी त 22 साल से विधायक बाड़े आ 11 साल से मंत्री बाड़े त का जाने कतना रुपया बटोरले होइहें आ कहां- कहां धइले होइहें. एह बीच पार्थ चटर्जी कहतारे कि ऊ अर्पिता मुखर्जी के जानते नइखन. ईडी जेल अधिकारियन के कहले बिया कि अर्पिता मुखर्जी के खाना टेस्ट कके तब दिहल जाउ. उनकर हत्या के प्रयास कइल जा सकेला.

भाजपा नेता के भाई के हत्याः आरोप बा कि गोल्फग्रीन थाना के आजादगढ़ के भाजपा नेता राजीव साहा के भाई दीपांकर साहा के पुलिस पिछला 31 जुलाई के ध ले गइल रहे आ थाना में बड़ी मार मरले रहे. थाना में दीपांकर के बुरी तरह पीट के पुलिस रात उनका के अधमरा हालत में रात के नौ बजे सड़क पर छोड़ दिहलस. ज्योंही एह बात के पता चलल, घर के लोग दीपांकर के अस्पताल में ले गइल. बाकिर गंभीर पिटाई के कारन दीपंकर के हालत खराब होत चलि गइल आ ऊ मरि गइले. दीपांकर के लाश के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बा कि उनका चूतड़ (नितंब) पर आ दूनों बांह पर बहुत गंभीर चोट लागल बा. पुलिस कवना आरोप में दीपांकर के गिरफ्तार कइले रहल ह, एकर जबाब पुलिस तत्काल ना दे पवलस. पश्चिम बंगाल सरकार तुरंत एक्शन लेके गोल्फग्रीन थाना के तीन गो पुलिसकर्मी लोगन के “क्लोज” क देले बिया. माने बइठा देले बिया. एकरा से ओह पुलिसकर्मी लोगन के सर्विस रेकार्ड पर असर परी. पहिले राज्य सरकार पुलिस पर एक्शन लेबे में एतना तत्पर ना रहत रहलि ह बाकिर पार्थ, अर्पिता कांड का बाद पुलिस के खिलाफ एतना जल्दी कार्रवाई भइल बा.

(विनय बिहारी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं, आलेख में लिखे विचार उनके निजी हैं.)

Tags: Article in Bhojpuri, Bhojpuri, TMC Leader

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर