Home /News /bhojpuri-news /

Bhojpuri: पंत जी के पहिले यूपी के अगुआ रहले नवाब साहब

Bhojpuri: पंत जी के पहिले यूपी के अगुआ रहले नवाब साहब

.

.

देश दुनिया खूब ठीक से जाने ला कि उत्तर प्रदेश के पहिला मुख्यमंत्री गोविंद बल्लभ पंत रहलें. पहिला मुख्यमंत्री के खूब बड़का मूर्ति लखनऊ में विधानसभा भवन के सामने लागले बा. अइसे त दिल्ली में, नैनीताल में के संगे उत्तर प्रदेश के कई जगहा पर उनके मूर्ति बा, लेकिन लखनऊ में तो उत्तर प्रदेश के पहिला सीएम के रूप में ही मूर्ति लगावल गईल बा.

अधिक पढ़ें ...

एह स्थिति में जब ई बतावल जाई कि पंत जी के पहिले भी एगो यूपी के मुख्यमंत्री रहलें, त एह पर खास ध्यान जाई. त पंत जी के पहिले के भी वोह मुख्य मंत्री के नवाब छतारी के नाव से जानल जाला. उनकर पूरा नाव रहे नवाब मुहम्मद अहमद सैयद खान छतारी. उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर अउर अलीगढ़ के बीच छतारी एगो रियासत रहे. ऊ रियासत मुस्लिम राजपूत यानी कि लालखानी मुसलमान लोग के रहे. पहिले ऊ छोट रहे अउर ओकर करे धरे वाला कुंवर कहात रहले. वक्त के संगे रियासत बड़ भईल अउर कुंवर साहब नवाब कहावे लगले. त नवाब छतारी यानी कि नवाब मुहम्मद अहमद सैयद खान के समय आवत- आवत जमाना बदले लागल रहे. नवाब साहब वक्त के पहचान लिहले. जरूरत भरि के आजादी के सेनानी लोगल के संगे भी रहे लगले.

हालांकि ढेर समय ते उनकर अंगरेज हुक्मरानन के संगे ही बीतत रहे. उनकरा पहिले त हाल ई रहे कि उनकर दादा मुहम्मद अली 1857 के क्रांति के बाद एहिजा रहहिं के ना चाहत रहले. भारत छोड़ि के ऊ सऊदी अरब चलि भी गईल रहले. वक्त देखीं कि अपना बेटा-बहू, मतलब सैयद खान के अब्बा हुजूर अऊर अम्मी के इंतकाल के बाद पोता सैयद खान के संगे भारत लौटे के परल. एहि बीचे ताबेदार लोगन के बूता पर रियासत बचल रहे. बाकिर भारत अइला पर सैयद अहमद के दादा के भी इंतकाल हो गईल. तब सैयद खान के उमिर आठे साल के रहे. रियासत रहबे कईल, ताबेदार अउर रिश्तेदार लोगन के देखरेख में बड़ भइले. अंगरेजी शिक्षा-दीक्षा भईल रहे. तनी वक्त के साथे चलते रहले. नवाबी के संगे कल-कारखाना भी लगावे लगले. अंगरेजी शिक्षा अउरी अंगरेजी संग-साथ के फायदा होखे लागल.

साल 1919 में गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट लागू भईल, त अंगरेजी राज में भारतीय लोग के भी शामिल कईल शुरू भईल. एकरा पहिले साल 1902 में प्रदेश के नाम यूनाइटेड प्रोविंसेज ऑफ आगरा और अवध हो चूकल रहे. सैयद खान 1921 में डिस्ट्रिक्ट बोर्ड के चेयरमैन बनावल गईले. एक साल पहिले 1920 में राजधानी इलाहाबाद से लखनऊ आ गईल रहे. नवाब साहब यूपी यानी यूनाइटेड प्राविंस लेजिस्लेटिव काउंसिल में जमींदार लोगन के ओर से नॉमिनेट कईल गइले. तब विधानसभा के पहिले लेजिस्लेटिव काउंसिले रहे. फेरु उनकरा के 1925 में होम मेंबर बनावल गईल. ई होम मेंबर मंत्री अइसन पद रहे, बाकिर फैसला लेबे के अधिकार ना रहे. होम मेंबर लोग खाली सुझाव देत रहले. होम मेंबर के रूप में नवाब साहब लगे उद्योग मंत्रालय रहे.

नवाब छतारी के उद्योग धंधा में मन लगबे करत रहे. होम मेंबर के हैसियत से भी प्रदेश में चीनी मिल अऊर आटा मिल लगववले. एहि टाइम से 1926 के आसपास नियुक्ति के जगहा पर क्लर्क लोगन खातिर परीक्षा शुरू भईल. तब अहीर-कुर्मी अइसन जाति के लोग भी अंगरेजन के नजर में बागी रहले. एहि जाति के लोगन के नौकरी ना मिलत रहे. नवाह छतारी के अंगरेजन के संगे रिश्ता के लाभ में इहो भईल कि एहि जाति के लोगन के नौकरी मिले लागल. नवाब साहब के 1931 में कृषि विभाग भी मिलल रहे.

अंगरेज सरकार के नवाब साहब के काम एसे पसंद आवे लागल रहे कि उद्योग-धंधा से विदेशी सरकार के भी फायदा रहे. ऊ समय अइसन रहे कि 1919 में गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट लागू होखला के बाद देशभक्त लोग भी सरकार के तौर -तरीका देखत रहे. फेरु 1935 में गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट आइल. एकरा पहिले 1931 के बाद नवाब छतारी के गवर्नर बना दिहल रहे. एहि रूप में सी. राजगोपालाचारी के पहिला भारतीय गवर्नर जनरल बने के पहिले नवाब छतारी पहिला भारतीय गवर्नर भी बनावल गईल रहले.

त 1935 में गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट आइल अउर प्रदेश के नाव एक नवंबर 1937 के यूनाइटेड प्रोविंसेज रखाईल. एहि साले 1937 में नवाब छतारी चीफ मिनिस्टर बनावल गईले. ध्यान रखला के काम बा कि ओहि घरी चीफ मिनिस्टर के प्रीमियर, यानी प्रधानमंत्री कहल जात रहे. पूरी तरह से भारतीय संवैधानिक व्यस्था तक इहे पद रहे. नवाब साहब के चीफ मिनिस्टर यानी प्रीमियर बने के हाल कुछ समय खातिर ही रहल. अंग्रेजी राज में 1937 में लेजिस्लेटिव कौंसिल के चुनाव भईल त कांग्रेस के तरफ से पंडित गोविंद बल्लभ पंत मुख्यमंत्री, यानी प्रीमियर बनलें. ईहो जरूर भईल कि नवाब साहब चीफ मिन्सटरी छोड़िके गृहमंत्री बनि गईले. त ई बा नूं रोचक बात कि पंडित गोविंद बल्लभ पंत के पहिले नवाब छतारी यानी नवाब मुहम्मद अहमद सैयद खान छतारी यू पी के चीफ मिनिस्टर रहले. इ अलग बात बा कि पंत जी दूनों यूपी, यानी यूनाइटेड प्राविंस अउर उत्तर प्रदेश के अगुआ रहले. नाब साहब यूनाइटेड प्राविंस के.

Tags: Bhojpuri News, UP Election, UP Election 2022

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर