Home /News /bhojpuri-news /

why were the two chairman of bpsc arrested bhojpuri ashok kumar sharma

Bhojpuri: BPSC के 2 चेयरमैन काहे भइल रहन गिरफ्तार?

.

.

रमन राघव बीपीएससी के मारल रहन. नौकरी ना लागत तs चाउमिन के दोकान चलावत रहन. अमरकांत जब पेपर लीक के बात उठवले तs रमन राघव बीच्चे में रोक के कहले, आज बिहार लोक सेवा आयोग के बिहार लीक सेवा आयोग कहल जा रहल बा. लेकिन पहिले एकर का हाल रहे?

अधिक पढ़ें ...

एक से बढ़ के एक बिबाद भइल बा ईहां. जब राजद के सरकार रहे तब बीपीएससी के चेयरमैन अपना पोस्ट पs रहते गिरफतार भइल रहन. अब सोच लs कि बीपीएससी के कइसन दागदार कहानी रहल बा. अमरकांत अचरज से कहले, जब नौकरी खातिर सलेक्सन करे वला औफिस के हेड ही घपला-घोटला के आरोपी रही तs जोग्य लइकन के इंसाफ कइसे मिली ? अइसन लोग न जाने केतना होनहार लइकन के भभीस बरबाद कइ देले होइहें ! अमरकांत पूछले कि बीपीएससी के ई चेयरमैन के रहे अउर उनकर कइसे गिरफ्तारी भइल रहे ? तब रमन राघव सोच में डूब गइले जइसे कि कवनो पुरान बात इयाद कर रहल होखस.

बीपीएससी के चेयरमैन पद पs गिरफ्तार

रमन राघव कहले, 1997 में लालू जी बिहार के मुखमंतरी रहन. जनवरी 1997 में डॉ. लक्ष्मी राय के बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष बनावल गइल रहे. लक्ष्मी राय 1996 के इंजीनियरिंग एडमिशन घोटाला के आरोपी रहन. उनका खिलाफ जांच चलत रहे. एकरा बादो सरकार उनका के चेयरमैन बना देले रहे. बाद में इंजीनियरिंग एडमिशन घोटला के जांच सीबीआइ करे लागल. जांच के आंच बीपीएससी के चेयरमैन लक्षमी राय तक पहुंच गइल. नवम्बर 2000 में सीबीआइ उनका के पद पs रहते गिरफ्तार कर ले ले रहे. 1996 में जब इंजीनियरिंग इंट्रेस टेस्ट भइल रहे. तवना घरी लक्ष्मी राय जमशेदपुर रिजनल इंजीनियरिंग कौलेज के प्रिंसपल रहन. उनका कॉपी के कोडिंग के काम दिहल गइल रहे. आरोप रहे कि 245 लइकन के कॉपी बदल के गलत तरीका से पास करावल गइल रहे. एही केस के चलते लालू सरकार के मंतरी बिरिज बिहारी परसाद (अब दिवगंत) के पद से हटे पड़ल रहे. बाद में ऊ जेल भी गइल रहन. इंजीनियरिंग इंट्रेंस टेस्ट के मेरिट लिस्ट में घपला के आरोप रहे. कुछ लोग के फैदा पहुंचावे खातिर कौपी बदल के फर्जी मेरिट लिस्ट बनाव गइल रहे. एह मामला में सीबीआइ पहिले लक्ष्मी राय से पूछताछ कइलस. सीबीआइ के दावा रहे कि जब पूछताछ में घोटला के कुछ सबूत मिल गइल तब उनकर गिरफ्तारी भइल रहे. गिरफ्तारी के बाद लक्ष्मी राय के सीबीआइ के एसपेसल कोट में पेश कइल रहे. एकरा बाद कोट उनका के 15 दिन खातिर जेल भेज देले रहे. ऊ बेउर जेल के गोदावरी वार्ड में रहत रहन.

अदालत के आदेश से फेन बनले चेयरमैन

अमरकांत कहले, एकरा बाद का भइल ? तब रमन राधव कहले, सीबीआइ के एसपेसल कोट में लक्ष्मी राय के खिलाफ सुनवाई चलत रहे. फरवरी 2001 में उनकर जमानत अर्जी मंजूर भइल तब ऊ जेल से बाहरी निकलले. जेल जाये के चलते बीपीएससी चेयरमैन के अधिकार-कार्य से उनका वंचित कर दिहल गइल रहे. तब ऊ अदालत से आपन पद बहाल करे खातिर गोहार लगवले. उनकर पोस्ट बहाल करे के सुनवाई करीब चार महीना तक चलल. कोट के औडर से लक्ष्मी राय 2 जुलाई 2001 के दोबारा बीपीएससी के चेयरमैन पद पs बहाल हो गइले. एक बिबाद के चलते ऊ चार महीना 19 दिन अपना पोस्ट से बेदखल रहन. जनवरी 2003 में ऊ चेयरमैन पद से रिटायर हो गइल रहन. हालांकि रिटायर होखे से पहिले ऊ राज्यपाल अउर सरकार के मुख्य सचिव के एगो चिट्ठी लिख के कहले रहन कि उनका चार महीना 19 दिन के सेवा बिस्तार दिहल जाव ताकि सेवाअवधि के डेफसिट पूरा हो सके. लेकिन सरकार उनकर अनुरोध खारिज कर देले रहे.

एक अउर चेयरमैन भइल रहन गिरफ्तार

रमन राघव कहले, एकरा बाद भी बीपीएससी के रवैया में सुधार ना आइल लक्ष्मी राय के बाद डॉ. रजिया तब्बसुम बीपीएससी के कार्जवाहक अध्यक्ष बनल रही. उनका बाद डॉ. रामसिंहासन सिंह जुलाई 2004 में एह पोस्ट पs अइले. 2003 में बिहार के कनीय कर्मचारी के बिहार प्रशासनिक सेवा में अपग्रेड करे खातिर बीपीएससी के सीमित प्रतियोगिता परीक्षा भइल रहे. मई 2004 में परीक्षा के रिजल्ट निकलल. एकरा बाद आरोप लागल कि 184 कंडिडेट के गलत तरीके से बिहार प्रशासनिक सेवा में अपग्रेड कइल गइल बा. एह मामला में भारी रिश्वतखोरी के भी चर्चा रहे. मामला भिजलेंस में चल गइल. एही बीच नवम्बर 2005 में एनडीए के सरकार बनल. राजद सरकार के चुनाव हारे से बहुत कुछ बदल गइल. नया सरकार के आदेश पs निगरानी बिभाग एकर जांच शुरू कइलस. सबूत के खोज में बीपीएससी के औफिस में छापामारी भइल. लेकिन बीपीएससी के कर्मचारी जांच में रोकावट डाले लगले. तब निगरानी बिभाग बेरोकटोक काम करे खातिर अदालत से गोहार लगवस. अदालत के आदेश के बाद बीपीएससी जांच में सहजोग खातिर मजबूर भइल. जांच के आधार पs निगरानी के टीम दिसम्बर 2005 में बीपीएससी के चेयरमैन रामसिंहासन सिंह अउर 8 अन्य कर्मचारी के गिरफ्तार कर लेलस. ई लोग पs 184 कंडिडेट के गलत तरीका से बीपीएससी परीक्षा पास करावे के आरोप रहे. गिरफ्तारी के बाद ई लोग के निगरानी कोट में पेश कइल. जहां से ई लोग के जेल भेज दिहल गइल रहे. हालांकि रामसिंहासन आरोप लगवले रहन कि उनका साजिश के तहत फंसवाल गइल रहे. राजद राज में बीपीएससी के के कार्जकलाप बहुत बिबादास्पद रहे. रमन राघव के बात सुन के अमरकांत कहले, ई समय के फेर बा कि आज चलनी भी सूप पs हंस रहल बिया.

(अशोक कुमार शर्मा वरिष्ठ पत्रकार हैं, आलेख में लिखे विचार उनके निजी हैं.)

Tags: Article in Bhojpuri, Bhojpuri, BPSC

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर