बिहार में बाढ़ का कहर, 123 लोगों की मौत, 81 लाख प्रभावित

बाढ़ से प्रभावित 12 जिलों में करीब 42 राहत शिविर चलाए जा रहे हैं, इनमें 22400 लोग शरण लिए हुए हैं. इन सभी लोगों के खाने की व्यवस्‍था के लिए 835 सामूहिक रसोई चलाई जा रही हैं.

News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 12:48 PM IST
बिहार में बाढ़ का कहर, 123 लोगों की मौत, 81 लाख प्रभावित
बिहार के बाढ़ प्रभावित जिलों में बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 26 टीम काम कर रही हैं.
News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 12:48 PM IST
बिहार में भारी बारिश के बाद बाढ़ का कहर जारी है. अब तक सूबे के 12 जिलों में करीब 123 लोगों की मौत हो गई है. वहीं 81.57 लाख लोग बाढ़ के चलते प्रभावित हैं. आपदा प्रबंधन विभाग ने बुधवार को जानकारी दी कि शिवहर, सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, दरभंगा, सहरसा, सुपौल, किशनगंज, अररिया, पूर्णिया और कटिहार सबसे ज्यादा प्रभावित जिले हैं.

इन जिलों में हुईं मौत
बिहार में बाढ से मरने वाले 123 लोगों में सीतामढी के 37, मधुबनी के 30, अररिया के 12, शिवहर एवं दरभंगा के 10—10, पूर्णिया के 9, किशनगंज के 5, मुजफ्फरपुर के 4, सुपौल के 3, पूर्वी चंपारण के 2 और सहरसा का एक व्यक्ति शामिल है. बताया जा रहा है कि इन जिलों में करीब 42 राहत शिविर चलाए जा रहे हैं, इनमें 22400 लोग शरण लिए हुए हैं. इन सभी लोगों के खाने की व्यवस्‍था के लिए 835 सामूहिक रसोई चलाई जा रही हैं.

26 टीम कर रही हैं बचाव

जानकारी के अनुसार बिहार के बाढ़ प्रभावित जिलों में बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 26 टीम काम कर रही हैं. इनमें टीमों में बचाव दल के करीब 796 कर्मचारी रात दिन काम कर रहे हैं. साथ ही 125 मोटरबोट का इस्तेमाल लोगों को बचाने में किया जा रहा है.

7 नदियां खतरे के निशान से ऊपर
बिहार में मौजूद बढ़ी गंडक, बागमती, अधवारा समूह, कमला बलान, कोसी, महानंदा और परमान नदी कई जगहों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रहीं थीं, इसके चलते कई इलाके पानी में डूबे हुए हैं. वहीं अभी भी मौसम विभाग ने यह जानकारी दी है कि इन प्रभावित इलाकों में गुरुवार को बारिश होने की संभावना है.
Loading...

ये भी पढ़ेंः दिल्‍ली में बाइक सवारों ने एक शख्‍स की गोली मारकर हत्‍या की

दिल्‍ली के नबी करीम में चार मंजिला इमारत गिरी, तीन भाई जख्‍मी
First published: July 25, 2019, 10:46 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...