लाइव टीवी

यूरिया की कालाबाजारी रोकने के लिए नीतीश सरकार सख्‍त, उठाया ये कदम
Patna News in Hindi

RaviS Narayan | News18 Bihar
Updated: January 22, 2020, 4:57 PM IST
यूरिया की कालाबाजारी रोकने के लिए नीतीश सरकार सख्‍त, उठाया ये कदम
यूरिया की कालाबाजारी रोकने के लिए सरकार ने उठाया कदम.

बिहार में यूरिया (Urea) की कालाबाजारी से किसान परेशान थे और कई जिलों में 266 रुपए के सरकारी रेट की जगह व्यापारी 320 से 400 रुपये तक किसानों से वसूल रहे हैं. अब नीतीश सरकार (Nitish Government) एक्‍शन में आ गई है.

  • Share this:
पटना. बिहार में यूरिया (Urea) की कालाबाजारी से किसान परेशान थे और इस खबर को न्यूज़ 18 ने प्रमुखता के साथ दिखाया था. इस दौरान खुलासा हुआ कि कई जिलों में 266 रुपए के सरकारी रेट की जगह व्यापारी 320 से 400 रुपये तक किसानों से वसूल रहे हैं. यही नहीं, न्यूज़ 18 ने मधुबनी में व्यापारी की दुकान का स्टिंग ऑपरेशन भी किया था. अब यूरिया की कालाबाजारी को लेकर नीतीश सरकार (Nitish Government) सख्‍त हो चली है और कृषि मंत्री प्रेम कुमार (Agriculture Minister Prem Kumar) ने कई अहम निर्देश जारी किए हैं.

 
कृषि मंत्री ने लिया एक्शन
यूरिया की कालाबाजारी को लेकर कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने एक्शन लेते हुए सभी जिलों के कृषि निगरानी अधिकारियों की बैठक ली. इस बैठक में कालाबाजारी कर रहे व्यापारियों की दुकानों में छापामारी करने के निर्देश जारी किए हैं. यही नहीं, पंचायत स्तर के कृषि अधिकारियों को यूरिया की दुकानों में जाकर हर दिन की रिपोर्ट देने का निर्देश भी जारी किया है.

किसानों के लिए टोल फ्री नम्बर भी किया जारी
यूरिया की कालाबाजारी रोकने के लिए कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने टॉल फ्री नंबर जारी किया. टॉल फ्री नंबर जारी करते हुए कृषि मंत्री ने कहा कि जहां भी कालाबाजारी हो रही है उसकी सूचना लोग सीधे विभाग को दे सकते हैं. साफ है कि अब 9471002646 नंबर पर कोई भी किसान सीधे विभाग को जानकारी दे सकता है.

ये भी पढ़ें-बिहार सरकार की 'लेटलतीफी' से टूट सकता है स्‍मार्ट सिटी का सपना!

 

100 साल पुराने पटना म्यूजियम का होगा मॉडिफिकेशन, नीतीश ने पास किए 7 प्रस्‍ताव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 4:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर