सिपाही अशोक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर परिजनों ने उठाए सवाल, CBI जांच की मांग

परिजनों का कहना है कि एक तो मौत के 16 दिन बाद पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई है, इससे संदेह होता है. वहीं, जब अशोक का शव बरामद हुआ था तब मृतक के चेहरे पर चोट और खून के दाग थे, लेकिन रिपोर्ट में इसका जिक्र नहीं है.

News18 Bihar
Updated: August 3, 2019, 9:54 AM IST
सिपाही अशोक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर परिजनों ने उठाए सवाल, CBI जांच की मांग
पटना पुलिस के सिपाही अशोक पासवान की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर परिजनों ने सवाल उठाए हैं.
News18 Bihar
Updated: August 3, 2019, 9:54 AM IST
पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पटना पुलिस के सिपाही अशोक पासवान की मौत की गुत्थी और उलझ गई है. दरअसल इस रिपोर्ट में कहा गया है कि उसकी मौत फेफड़े में संक्रमण के कारण हुई है. जबकि मृतक के परिजनों ने इस रिपोर्ट पर सवाल उठाए हैं. उनका कहना है कि मौत के 15 दिन बाद रिपोर्ट मिली है वहीं, मृतक के चेहरे पर चोट और खून के दाग थे, जिसका इस पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जिक्र तक नहीं है.

'खून के दाग और चोट के निशान का जिक्र नहीं'
मृतक के भाई शिवानन्द पासवान और मुन्ना पासवान का कहना है कि एक तो मौत के 16 दिन बाद पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई है इससे संदेह होता है. वहीं, जब अशोक का शव बरामद हुआ था तब मृतक के चेहरे पर चोट और खून के दाग थे, लेकिन रिपोर्ट में इसका जिक्र नहीं है. यही नहीं अभी भी इस रिपोर्ट में अशोक पासवान का नाम तक नहीं है. अज्ञात बोलकर पोस्टमार्टम कराया गया है.

लीपापोती की साजिश तो नहीं- परिजन

पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर सवाल खड़ा करते हुए परिजनों ने आशंका व्यक्त की है कि कहीं इस मामले की लीपापोती करने की साजिश तो नहीं है. परिजन इस मामले की सीबीआई से जांच करवाने की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि जब पुलिसवाले का ही इंसाफ नहीं हो सकेगा तो आम आदमी के साथ क्या होगा?

बिना शिनाख्त के कर दिया दाह संस्कार
परिजन सवाल उठा रहे हैं कि आखिर पटना पुलिस अपने हीं पुलिस को क्यों नहीं पहचान सकी जबकि अशोक पासवान के हाथ पर ए.के.पासवान के नाम का गोदना भी गोदाया हुआ था. बता दें कि बुधवार को खबर आई कि एक लापता पुलिसकर्मी के शव की शिनाख्त किए बिना ही पटना पुलिस ने लावारिस समझकर उसका दाह संस्कार कर दिया.
Loading...

araraia
मृतक के परिजनों ने मांग की है कि मामले की सीबीआई से जांच करवाई जाए.


बिना शव के किया अंतिम संस्कार
जाहिर है पटना पुलिस के इस कारनामे के कारण एक पत्नी को उसके मृत पति के अंतिम दर्शन भी नसीब नहीं हो सका. ऐसे में मृतक जवान का शव नहीं होने के कारण हिंदू मान्यताओं के अनुसार परिजनों ने शुक्रवार को सांकेतिक रूप में बिना शव के ही अर्थी निकाली और प्रतीकात्मक रूप से अंतिम संस्कार किया.

रिपोर्ट- सतीश कुमार

ये भी पढ़ें-

पुलिस हेडक्वार्टर में घूमता रहा मोस्ट वांटेड पर नहीं पहचान पाई पटना पुलिस

युवक को हुआ प्यार तो युवती के घरवालों ने बोल दिया धावा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अररिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 3, 2019, 9:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...