बिहार में बाढ़ से और बिगड़ सकते हैं हालात, अब तक 127 की मौत

आपदा प्रबंधन विभाग के आंकड़ों के अनुसार अब तक 127 लोगों की मौत हो चुकी है. सबसे अधिक 37 लोगों ने की मौत सीतामढ़ी में हुई है.

News18 Bihar
Updated: July 27, 2019, 10:31 AM IST
बिहार में बाढ़ से और बिगड़ सकते हैं हालात, अब तक 127 की मौत
बिहार के 12 जिले बाढ़ से प्रभावित
News18 Bihar
Updated: July 27, 2019, 10:31 AM IST
बिहार में बाढ़ प्रभावित जिलों में स्थिति और बिगड़ती जा रही है. बाढ़ से बिहार के 12 जिलों में स्थिति गंभीर है. इन जिलों के 105 प्रखंडों के 1240 पंचायत बाढ़ की चपेट में हैं. पूर्वी चम्पारण, सीतामढ़ी, मधुबनी और दरभंगा जिले में बाढ़ से लाखों लोग बुरी तरह प्रभावित हैं. दूसरी ओर कोसी-सीमांचल की नदियों के जलस्तर में उतार-चढ़ाव जारी है. पूरे बिहार में बादल उमड़-घुमड़ रहे हैं और कई जगहों पर बारिश भी हो रही है. जाहिर है बाढ़ की समस्या और विकराल हो सकती है.

अबतक 127 लोगों की मौत
आपदा प्रबंधन विभाग के आंकड़ों के अनुसार अब तक 127 लोगों की मौत हो चुकी है. सबसे अधिक 37 लोगों ने की मौत सीतामढ़ी में हुई है. जबकि मधुबनी में 30 लोगों ने अपनी जान गंवाई है. बता दें कि 10 राहत शिविरों में रह रहे 6400 लोगों ने शरण ले रखी है.

नेपाल से फिर छोड़ा गया पानी

नेपाल से फिर पानी छोड़ा  गया है जिससे बागमती नदी के साथ कमला नदी में फिर से जलस्तर बढ़ने की आशंका है. इसको लेकर दरभंगा के जिलाधिकारी ने स्थिति क्रिटिकल मानते हुए सभी निजी स्कूल के साथ सरकारी स्कूल को बंद करने का आदेश दिया है.

बिहार में बाढ़ से 69.27 लाख लोग प्रभावित हैं और उनके लिए सरकार राहत शिविर चला रही है. हालांकि लोगों की शिकायतें हैं कि उन्हें राहत नहीं मिल रही.


समस्तीपुर में बाढ़ का कहर
Loading...

समस्तीपुर जिले में बूढ़ी गंडक, करेह, बागमती  कहर बरपा रही है . यह तीनों नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. कल्याणपुर प्रखंड के करीब आधा दर्जन गांव बाढ़ के चपेट में है. हजारों एकड़ में लगी फसल बर्बाद हो गई है. विथान प्रखंड के भी कई गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं. वहीं बूढ़ी गंडक के लगातार बढ़ते जलस्तर के कारण निचले इलाके में फंसे करीब 300 से अधिक परिवारों ने बांध पर शरण ले रखी है.

अररिया में बिगड़ रहे हालात
नेपाल की पहाडियों से निकली बकरा नदी ने अररिया के सिकटी प्रखंड में तबाही मचा रखी है. कौआकोह पंचायत का पररिया गांव अब झील में तब्दील हो गया है. लोग ऊंचे स्थलों पर पलायन करने को मजबू हैं.

NDRF और SDRF की 26 कंपनियां तैनात
बाढ़ग्रस्त 12 जिलों में 42 राहत शिविर में करीब 22400 लोग शरण लिए हुए हैं जबकि पीड़ितों के लिए 835 कम्युनिटी किचन में खाना बन रहा है. वहीं, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 26 कंपनियां बाढ़ पीड़ितों के राहत और बचाव में जुटी हुई हैं.

नेपाल में बारिश से अलर्ट
नेपाल में भारी बारिश के कारण कई जिलों में अलर्ट घोषित किया गया है. रुक-रुककर हो रही बारिश के कारण नदियों के पास बसे ग्रामीण भयभीत हैं. अगले दो दिनों में अधिक बारिश की आशंका व्यक्त की जा रही है.

इनपुट- कुलभूषण

ये भी पढ़ें-
First published: July 27, 2019, 10:29 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...