VIDEO: दर्दनाक तरीके से हुई थी मां-बेटे की मौत, 80 हजार घूस देने पर मिला मुआवजा

कहते है कि बाढ़ की तबाही सरकारी कर्मियों और दलालों के लिए किसी सेलेब्रेशन से कम नहीं होता है.अररिया में बाढ़ में बहकर मां- बेटी की मौत की घटना के चार महीने बाद भी पीड़ित परिवार मुआवजे के लिए दर दर की ठोकरें खा रहा है.

SATISH KUMAR | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: January 9, 2018, 6:43 PM IST
SATISH KUMAR | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: January 9, 2018, 6:43 PM IST
कहते हैं कि बाढ़ की तबाही सरकारी कर्मियों और दलालों के लिए किसी सेलेब्रेशन से कम नहीं होती है. अररिया में बाढ़ में बहकर मां- बेटी की मौत की घटना के 4 महीने बाद भी पीड़ित परिवार मुआवजे के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा है.

इससे भी बड़ी बात यह है कि एक मृतक के परिजन ने 4 लाख रुपये मुआवजे के एवज में अररिया सीओ अशोक कुमार सिंह पर रुपये लेने का गंभीर आरोप लगाया है.

मृतक जहां आरा की रिश्तेदार मेहरून निशां ने ईटीवी/News18 को बताया कि मुआवजे के चक्कर में अररिया सीओ कार्यालय के आजाद को 20 हजार रुपये और अररिया सीओ को 60 हजार नगद भुगतान के बाद ही यह मुआवजा नसीब हुआ. हालांकि जब हमने इस बावत अररिया सीओ अशोक कुमार सिंह से बात करनी चाही तो उनका मोबाइल लगातार स्विच ऑफ आ रहा है.

इस संबंध में अररिया जिला आपदा पदाधिकारी शंभू कुमार ने बताया कि ऐसी कोई शिकायत हमें नहीं मिली है. अगर शिकायत मिलती है तो कार्रवाई जरूर की जाएगी.

दरअसल, अररिया प्रखंड के बेलवा पंचायत की जहां आरा और शाइक रेज़ा की मौत उस वक्त हुई थी जब बाढ़ से बचने के लिए वो अपने बच्चे के साथ शहर आना चाह रही थी. उसी दौरान पुल और एप्रोच पथ बाढ़ में बह गया जिसकी वजह से जहां आरा और उसके बच्चे की मौत हो गयी थी.

इस हादसे का वीडियो राष्ट्रीय स्तर पर वायरल हुआ था. यह घटना बाढ़ के दौरान 13 अगस्त की है. अब पीड़ित के परिजनों को एक मौत का तो मुआवजा मिला लेकिन उसके लिए भी कीमत चुकानी पड़ी. वहीं बच्चे की मौत की बात से प्रशासन लगातार इनकार कर रहा है.

मृतक के पिता मोहम्मद नसीम ने बताया कि खुद के बच्चे की मौत का सर्टिफिकेट बनाना है लेकिन बाबू लोग मानने को तैयार नहीं है. वहीं स्थानीय एक मददगार ने नाम न लिखने के शर्त पर बताया कि ऐसा है कि हर सरकारी टेबल पर प्रसाद चढ़ाने के बाद ही कोई काम हो रहा है.
Loading...

बता दें कि बाढ़ ने अररिया में तबाही मचाई थी. केवल अररिया में ही 100 से अधिक लोगों की मौत हुई थी. कई अभी भी लापता हैं. इस वीडियो में साफ है कि मां- बेटे इस बाढ़ में बह गए थे.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर