लाइव टीवी

बिहार के इस जिले में लावारिस कुत्तों का आतंक, 15 दिनों में 244 को काटा
Arwal News in Hindi

News18 Bihar
Updated: January 17, 2020, 10:40 AM IST
बिहार के इस जिले में लावारिस कुत्तों का आतंक, 15 दिनों में 244 को काटा
बिहार के अरवल में हर दिन 30 से 40 लोगों को काट करे लावारिस कुत्ते (साकेतिक तस्वीर)

सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ रमन आर्यभट्ट बताया कि कुत्ते को जब मांस खाने की आदत लगती है या फिर उनके बच्चों को पकड़ने के लिए जब मनुष्य पहुंचता है, तो वह भय से उन्हें काट रहा है.

  • Share this:
अरवल. जिले में लावारिस कुत्ते लोगों के लिए खतरा बन गए हैं. हर रोज लोगों को काट रहे हैं जिस कारण लोगों में दहशत का माहौल बन गया है. शायद ही ऐसा दिन होगा जब  40 से अधिक मरीजों का इलाज शहर के विभिन्न अस्पतालों व क्लिनिक में नहीं हो रहा हो. सदर अस्पताल में पिछले 15 दिनों में ही ऐसे 244 भर्ती हो चुके हैं. चौक चौराहों से लेकर गली में एक घूमते लावारिस कुत्तों से इन दिनों लोग इतने भयभीत हो हैं कि बच्चों को  घर से बाहर निकलने नहीं देने में हिचकते हैं.

लावारिस हालत में घूम रहे एक कुत्ते कभी भी किसी को अपना निशाना बना कर लहूलुहान कर सकता है. इसके बावजूद यहां पर इन कुत्तों से बचने के लिए न तो सरकारी स्तर पर कोई व्यवस्था की गई है और न हीं कोई सामाजिक स्तर पर ही कोई सार्थक पहल हुए है.

इस मामले पर जब सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ रमन आर्यभट्ट से पूछा गया तो उन्होंने साफ तौर पर कहा कि कुत्ते को जब मांस खाने की आदत लगती है या फिर उनके बच्चों को पकड़ने के लिए जब मनुष्य पहुंचता है, तो वह भय से उन्हें काट रहा है.

हालांकि उन्होंने भी माना कि प्रत्येक दिन कुत्ता काटने के 30 से 40 मरीजों का इलाज हो रहा है. हालांकि उन्हों ने दावा किया कि कुत्ता के काटने से बचाव के लिए लगाए जाने वाला एंटी रेबीज सुई पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है. उन्होंने कहा कि ठंड  बीतने के बाद इसमें कमी आएगी.



रिपोर्ट- अनिरुद्ध

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अरवल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2020, 10:26 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर