होम /न्यूज /बिहार /Bihar: दुर्गा पूजा मेला में मिठाई खाकर बीमार हुए 15 लोग, पिता-पुत्र समेत दो की मौत

Bihar: दुर्गा पूजा मेला में मिठाई खाकर बीमार हुए 15 लोग, पिता-पुत्र समेत दो की मौत

बिहार के अरवल जिला में दशहरा मेला में विषाक्त भोजन करने से दो लोगों की मौत हो गई

बिहार के अरवल जिला में दशहरा मेला में विषाक्त भोजन करने से दो लोगों की मौत हो गई

Arwal Food Poisoning: फूड प्वाइजनिंग का शिकार हुए सभी लोग नवमी के दिन दुर्गा पूजा का मेला घूमने गए थे. मेला घूमने के दौ ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

फूड प्वाइजनिंग की ये घटना अरवल की है
घटना के बाद बीमार लोगों का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है
सभी ने दुर्गा पूजा के दौरान ही मेला में मिठाई खाया था

अरवल. बिहार में दुर्गा पूजा के दौरान मेला में लगे दुकान से विषाक्त मिठाई खाने से 15 लोग अचानक बीमार हो गए. इस घटना में दो लोगों की मौत हो गई है. ग्रामीणों के सहयोग से सभी को सदर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया. घटना अरवल जिले के करपी थाना क्षेत्र अंतर्गत रोहाई गांव की है. बीमार सभी बच्चे करपी थाना क्षेत्र के केश्वर बिगहा, बाजीतपुर और बारा गांव के रहने वाले हैं. सभी बच्चे दुर्गा पूजा में मेला घूमने के लिए गए थे. इसी दौरान बाजार में लगी दुकान से सभी ने मिठाई और ब्रेड खाई थी.

मेला घूमकर सभी लोग घर चले गए थे. इसी दौरान अचानक रात्रि में उनकी तबीयत बिगड़ी जिसके बाद सभी बच्चों को इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया. डॉक्टरों द्वारा सभी बच्चों का इलाज किया जा रहा है. इस घटना में इटवा गांव निवासी बाबूलाल भीम और उनके पुत्र गौतम कुमार की फूड प्वाइजनिंग से मौत हो गई है. सदर अस्पताल में तैनात इलाज कर रहे चिकित्सक महेंद्र शर्मा के द्वारा बताया गया कि फूड प्वाइजन का शिकार होने के उपरांत सभी लोगों को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है जिसमें 9 छोटे-छोटे बच्चे हैं.

बीमार लोगों में कुछ महिला और पुरुष भी हैं जिनका इलाज किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि 24 घंटे के अंदर सभी को रिकवर कर लिया जाएगा. बाजार में इन दिनों अगर इस तरह से बेकार पड़े सामग्री का इस्तेमाल खाने पीने वाले चीजों में दुकानदार के द्वारा किया जाता है तो इससे बड़ी लापरवाही हो सकती है. पीड़ित बच्चों के परिजन अनिरुद्ध दास ने बताया कि बच्चे मेला घूमने के लिए गए थे. इसी दौरान उन्होंने एक ठेले पर ब्रेड और कुछ मिठाइयां खाई, जिसके बाद घर पहुंचते ही देर रात उल्टी शुरू हो गई.

उल्टी होने के बाद बच्चों को करपी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया. पीड़ित ने बताया कि बच्चों से जब पूछताछ की तो उसने बताया कि मेला में फूड सामाग्री खाने की वजह से उनकी तबीयत बिगड़ी है.

Tags: Bihar News

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें