लाइव टीवी

औरंगाबादः पेपर लीक के आरोपी को बनाया इलेक्शन-आईकॉन, अब डीएम करेंगे जांच

Sanjay Sinha | News18 Bihar
Updated: November 21, 2019, 9:34 PM IST
औरंगाबादः पेपर लीक के आरोपी को बनाया इलेक्शन-आईकॉन, अब डीएम करेंगे जांच
औरंगाबाद जिला निर्वाचन कोषांग ने पेपर लीक मामले के आरोपी सतीश रंजन को बनाया दिव्यांग वोटरों का आईकॉन.

औरंगाबाद (Aurangabad) की जिला निर्वाचन शाखा (District Election Branch) ने इंटर का प्रश्नपत्र लीक (Paper Leak Case) करने के आरोप में जेल की हवा खा चुके कोचिंग संचालक को बनाया दिव्यांग मतदाताओं का इलेक्शन-आईकॉन (Election-icon). मामले ने पकड़ा तूल तो डीएम ने दिए जांच के आदेश.

  • Share this:
औरंगाबाद. मतदाताओं को जागरूक (Voter Awareness) करने के लिए निर्वाचन आयोग या विभिन्न राज्यों के जिलों में कार्यरत निर्वाचन कोषांग समाज की जानी-मानी और बेदाग शख्सियतों को वोटर-आईकॉन (Voter-Icon) बनाती है. इसके पीछे मकसद यह होता है कि वह शख्स मतदाताओं को वोट देने के लिए जागरूक करेगा. लेकिन बिहार (Bihar) के औरंगाबाद (Aurangabad) जिले में एक ऐसे शख्स को वोटर-आईकॉन बना दिया गया है, जो कई आपराधिक मामलों का आरोपी रह चुका है. जी हां, औरंगाबाद जिले के निर्वाचन कोषांग (District Election Branch) ने सतीश रंजन नाम के कोचिंग संचालक को दिव्यांग मतदाताओं का आइकॉन बना दिया है. सतीश रंजन न सिर्फ आईपीसी की धारा 420 और 120 का आरोपी है, बल्कि इन मामलों में वह जेल भी जा चुका है. यही नहीं, 2017 में इंटर की परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक (Intermediate Paper Leak Case) करने के मामले में भी वह अपने सहयोगियों के साथ जेल जा चुका है. इस मामले के सुर्खियों में आने के बाद अब औरंगाबाद के डीएम ने मामले की जांच का आदेश दिया है.

जिला प्रशासन की गलती पर हैरानी
कोचिंग संचालक सतीश रंजन की कारस्तानियों को लेकर औरंगाबाद के पूर्व जिलाधिकारी कंवल तनुज ने कार्रवाई की थी. इंटर पेपर लीक मामले के सामने आने के बाद आम लोगों ने एक शिक्षक की ऐसी शर्मनाक करतूत की तीखी निंदा की थी. लेकिन गुरुवार को जब इसी सतीश को वोटर-आईकॉन बनाने की बात सामने आई, तो जिले के लोग हैरान रह गए. लोगों ने तत्काल जिला प्रशासन के फैसले का विरोध किया. साथ ही अन्य मामलों में भी ऐसी गड़बड़ियों की जांच की बात उठाई. तब जाकर डीएम राहुल रंजन महिवाल ने गलती मानते हुए सदर एसडीओ डॉ. प्रदीप कुमार को जल्द से जल्द भूल सुधारने का निर्देश दिया.

राज्य निर्वाचन आयोग ने भी लिया संज्ञान

औरंगाबाद जिला निर्वाचन कोषांग की यह गलती, राज्य मुख्यालय से भी छिपी नहीं रह सकी है. राज्य निर्वाचन आयोग ने इस मामले में स्वतः संज्ञान लिया है. साथ ही जिला प्रशासन को इसकी जांच कर आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश भी दिया है. आपको यह भी बता दें कि कोचिंग संचालक सतीश रंजन को वोटर-आईकॉन बनाने का मामला सामने आने के बाद एक और खुलासा हुआ. पता चला है कि प्रशासन में अपनी पहुंच के दम पर सतीश पीडब्ल्यूडी का भी ब्रांड एंबेसडर बना बैठा है. अब दिव्यांग वोटरों के आईकॉन बनने की जांच के साथ इस मामले की भी जांच कराई जा सकती है.

ये भी पढ़ें -

कोचिंग से लौट रहे दोस्तों को टैंकर ने रौंदा, हादसे में चार की दर्दनाक मौत
Loading...

औरंगाबाद में ईंट व्यवसाई की गोली मारकर हत्या, ग्राहक बनकर आए थे अपराधी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए औरंगाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 9:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...