निर्भया के दोषी अक्षय को बचाने की एक और चाल! कोर्ट में पेश नहीं हुई पत्नी
Aurangabad-Bihar News in Hindi

निर्भया के दोषी अक्षय को बचाने की एक और चाल! कोर्ट में पेश नहीं हुई पत्नी
निर्भया सामूहिक बलात्कार कांड के दोषी अक्षय ठाकुर (फाइल फोटो)

पुनीता देवी के वकील मुकेश कुमार सिंह ने कहा कि कानून में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि वादी न हो तो सुनवाई नहीं हो सकती है. हालांकि कोर्ट ने इस मामले में कहा कि चूंकि केस का पहला दिन है इसलिए उनकी उपस्थिति अनिवार्य है.

  • Share this:
औरंगाबाद. वर्ष 2012 में दिल्ली में हुए निर्भया गैंगरेप और हत्या (Nirbhaya Gang rape) मामले में दोषी अक्षय ठाकुर की पत्नी पुनीता देवी (Akshay Thakur's wife Punita Devi) अपने तलाक के केस में कोर्ट में उपस्थित नहीं हुईं. कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई अब 24 मार्च को निर्धारित की है. बता दें कि अक्षय की पत्नी पुनीता ने औरंगाबाद की एक फैमिली कोर्ट (Family Court) में तलाक की याचिका दायर की थी और कहा था कि वह विधवा के तौर पर नहीं रहना चाहती है. हालांकि पुनीता देवी के इस केस को दोषी अक्षय को बचाने की एक और कोशिश मानी जा रही थी. अब पुनीता देवी की अनुपस्थिति को भी इसी की अगली कड़ी माना जा रहा है.

24 मार्च को होगी सुनवाई
इस बीच पुनीता देवी के वकील मुकेश कुमार सिंह ने कहा कि कानून में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि वादी न हो तो सुनवाई नहीं हो सकती है. हालांकि कोर्ट ने इस मामले में कहा कि चूंकि केस का पहला दिन है इसलिए उनकी उपस्थिति अनिवार्य है. कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 24 मार्च तय कर दी है. गौरतलब है कि जब तक सुनवाई नहीं होगी तब तक कोर्ट अक्षय को समन नहीं कर सकता.





पति से मिलने गई पुनीता देवी
इस बीच मिली जानकारी के अनुसार पुनीता अपने पति अक्षय ठाकुर मिलने दिल्ली चली गई है. दरअसल पुनीता ने पहले ही इच्छा जाहिर की थी कि वह अपने पति से मिलना चाहती है. इसी को देखते हुए कोर्ट ने वारंट जारी कर रहा था कि मिलना है तो मिल लें.

फैमिली कोर्ट में दायर की थी अर्जी
गौरतलब है कि नवीनगर प्रखंड के लहंग कर्मा गांव के रहने वाले अक्षय ठाकुर की पत्नी पुनिता ने तलाक (Divorce) की अर्जी दाखिल की है. पुनिता ने यह अर्जी औरंगाबाद परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश रामलाल शर्मा की अदालत में दी है.

अक्षय की पत्नी ने दी थी दलील
अक्षय की पत्नी ने अपनी अर्जी में कहा है कि उनके पति को रेप (Rape) के मामले में दोषी ठहराया गया है और उन्हें फांसी दिया जाना है. हालांकि, वह निर्दोष हैं ऐसे में वह उनकी विधवा बन कर नहीं रहना चाहती. इसलिए उन्‍हें पति से तलाक चाहिए. इसी मामले में 19 मार्च को सुनवाई की तिथि तय की गई थी.

20 मार्च को दी जाएगी फांसी
गौरतलब है कि निर्भया कांड में जिन चार दोषियों को फांसी की सजा सुनाई गई है, उनमें अक्षय ठाकुर भी शामिल है. गौरतलब है कि निर्भया के सभी दोषियों विनय शर्मा, अक्षय सिंह ठाकुर, पवन गुप्ता और मुकेश को 20 मार्च की सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दी जानी है.

ये भी पढ़ें -


CAA के खिलाफ चल रहा था धरना, ऑटो से आए आरोपियों ने बरसाईं गोलियां




दुकान से घर लौट रहे व्यवसायियों पर बरसाईं गोलियां, एक की मौत दूसरा गंभीर

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading