Rafiganj Assembly Seat: विरोधियों को मात देकर तीसरी बार चुनावी रण जीत पाएगी JDU?

जेडीयू  के अशोक कुमार और कांग्रेस के प्रमोद सिंह चुनावी मैदान में उतर सकते हैं.
जेडीयू के अशोक कुमार और कांग्रेस के प्रमोद सिंह चुनावी मैदान में उतर सकते हैं.

Bihar Assembly Election 2020: मौजूदा विधायक अशोक कुमार (Ashok Kumar) फिर से अपनी किस्मत आजमाने मैदान में उतर सकते हैं. तो वहीं कांग्रेस (Congress) का दाम थाम चुके प्रमोद कुमार सिंह (Pramod Kumar Singh) सहित कई चेहरे अपनी दावेदारी पेश कर सकते हैं. 

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 21, 2020, 9:26 PM IST
  • Share this:
रफीगंज. भले ही बिहार विधानसभा चुनाव के तारीखों का ऐलान नहीं हुआ हो लेकिन सियासी तैयारियां परवान पर है. जाहिर है औरंगाबाद जिले के तहत आने वाले रफीगंज विधानसभा क्षेत्र में भी चुनावी हलचल तेज हो गई है. इस विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत रफीगंज (Rafiganj Seat) और मदनपुर प्रखण्ड शामिल है. राजनीतिक पृष्ठभूमि की बात करें तो रफीगंज जेडीयू (JDU) का गढ़ माना जाता है. 2010 तथा 2015 के विधानसभा चुनाव में जेडीयू ने इस सीट से जीत हासिल की है. इस क्षेत्र में मतदाताओं की संख्या 2,80,567 है जिनमें पुरूष मतदाताओं की संख्या 1,51,601 है, जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 1,28,955 है. पिछले चुनाव की बात करें तो इस विधानसभा सीट पर मतदान का प्रतिशत 52 रहा. इस सीट से जेडीयू के अशोक कुमार सिंह (Ashok Kumar Singh) मौजूदा विधायक हैं.

1990 के चुनाव में रफीगंज विधानसभा सीट पर कांग्रेस के विजय कुमार सिंह ने जीत हासिल  की थी और विधायक की कुर्सी पर काबिज हुए थे. इसके बाद 1995 में सीपीआई के रामचंद्र सिंह के सिर जीत का सेहरा सजा था. साल 2000 के चुनाव में फिर पासा पलटा और समता पार्टी के सुशील कुमार सिंह ने जीत हासिल कर ली. बाद में आरजेडी के मोहम्मद नेहालुद्दीन ने 2005 में इस सीट पर कब्जा जमाया था. 2010 और 2015 में हुए चुनाव में जीत हासिल कर जेडीयू ने इस सीट पर फिलहाल अपना कब्जा जमा रखा है.

ये भी पढ़ें: Kutumba Assembly Seat: एकजुट हुआ NDA का कुनबा, क्या कब्जा बरकरार रख पाएगी कांग्रेस?



क्या इस बार बदल जाएगा समीकरण?
रफीगंज सीट पर पिछले दो चुनावों से जेडीयू का कब्जा है. 2010 के चुनाव में जेडीयू के अशोक कुमार सिंह ने राजद के मो. नेहालुद्दीन को मात दी थी. अशोक कुमार सिंह को 58501 मिले थे, वहीं मो.नेहालुद्दीन को 34816 वोट हासिल हुए थे. इस चुनाव में हार का अंतर 23685 मतों का रहा था. वहीं 2015 के चुनाव में भी अशोक कुमार ने एक बार फिर बाजी मार ली. जेडीयू के अशोक कुमार सिंह ने एलजेपी के प्रमोद कुमार सिंह को करारी मात दी थी. अशोक कुमार को 62897 वोट मिले थे तो प्रमोद कुमार को 53372 वोट पर ही संतोष करना पड़ा था. अब इस बार के चुनाव में भी चर्चाओं का बाजार गर्म है. कयास लगाए जा रहे हैं कि मौजूदा विधायक अशोक कुमार फिर से अपनी किस्मत आजमाने मैदान में उतर सकते हैं. तो इस बार एलजेपी से कांग्रेस का दामन थाम चुके प्रमोद कुमार सिंह समेत कई और दावेदार भी मैदान में अपनी किस्मत आजमाने उतर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज