लाइव टीवी

VIDEO: यहां लगता है भूतों का मेला, होता है शर्तियां इलाज

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 28, 2017, 12:38 PM IST

दुनिया चांद तक जा पहुंची है लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं.जो भूत और जिन्न के नाम पर ओझा के चक्कर में अपनी गाढ़ी कमाई गवां रहे हैं. ये कहना है यहां आने वाले एक व्यक्ति का जो हर साल यहां मरीजों को देखने आता है.

  • Share this:
दुनिया चांद तक जा पहुंची है लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं.जो भूत और जिन्न के नाम पर ओझा के चक्कर में अपनी गाढ़ी कमाई गवां रहे हैं. ये कहना है यहां आने वाले एक व्यक्ति का जो हर साल यहां मरीजों को देखने आता है.

हम बात कर रहे हैं औरंगाबाद जिले के अमझर शरीफ की जहां हर साल नवरात्रि के मौके पर ओझा भूतो का मेला लगाते हैं. हसपुरा प्रखंड मुख्यालय से सटे अमझर शरीफ में हर साल नवरात्र में ओझा भूतों का मेला लगाते हैं.

मानसिक बीमारियों से पीड़ित अनपढ़ और अंधविश्वासी मेले में लोगों से इलाज के नाम पर वे मोटी रकम उगाहते हैं. उनका दावा है कि पीड़ितों पर भूतों का साया होता है. जिसे वे दूर कर चंगा कर देते हैं. ये ओझा भूत भगाने के नाम पर लोगों को जमकर प्रताड़ित करते हैं. कड़ी धूप में मोटी चादर डालकर जंजीर में जकड़कर घंटो छोड़ देते हैं. तो कहीं लोहे की चेन से पीटते हैं.

इलाज के नाम पर रुपये, अनाज, मुर्गा, कपड़े आदि वसूलते हैं. इस उत्पीड़न और शोषण पर आज तक स्थानीय प्रशासन से लेकर मानवाधिकार संगठन तक चुप रहते हैं. यहां आने वाले पीड़ितों में तकरीबन सभी गरीब और अशिक्षित तबके के होते हैं. ऐसे लोग अज्ञानता के कारण अंधविश्वास के शिकार हो जाते हैं.

तमाम जागरूक लोग स्वीकार करते हैं कि यह भूत के बजाय मानसिक रोग और अवसाद का मामला है.वहीं पीड़ित महिलाएं आस्था मानते हुए चंगा होने की बात कहती हैं. कानून को ताक पर रखकर भूतो का मेला बदस्तूर जारी है. यह बताता है कि समाज का एक हिस्सा आज भी विज्ञान, शिक्षा और विकास से कोसों दूर है. देखना होगा कि समाज के इस कलंक पर कब तक रोक लग पाती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए औरंगाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 28, 2017, 12:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर