लाइव टीवी

मां-बाप के बाहर जाते ही घर में घुस आता था फुफेरा चाचा, नाबालिग को बना डाला कुंवारी मां

News18 Bihar
Updated: January 15, 2020, 1:20 PM IST
मां-बाप के बाहर जाते ही घर में घुस आता था फुफेरा चाचा, नाबालिग को बना डाला कुंवारी मां
पटना में एक और नाबालिग बनी हवस की शिकार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पीड़िता के परिजनों ने बताया कि रिश्ते में फुफेरा चाचा लगनेवाला गांव का ही योगेंद्र राम रिश्तेदारी की आड़ में अक्सर उसके घर आता जाता था. मगर उन्हें क्या पता था कि उस हैवान की नज़र उसकी नाबालिग बेटी पर है.

  • Share this:
औरंगाबाद. पारिवारिक रिश्तों को उस वक़्त एक बार फिर कलंकित होना पड़ गया जब रिश्ते के फुफेरे चाचा ने नाबालिग भतीजी से जान से मार डालने की धमकी देकर न सिर्फ चार महीने तक उसके साथ यौनाचार किया बल्कि उसे बिन ब्याही मां भी बना डाला. मामला फेसर थाना क्षेत्र का है. पीड़िता के परिजनों ने इस मामले की एक प्राथमिकी दर्ज़ करा दी है और पुलिस से न्याय की मांग की है.

घटना के बारे में बताया जा रहा है कि पीड़िता के परिजनों ने बताया कि रिश्ते में फुफेरा चाचा लगनेवाला गांव का ही योगेंद्र राम रिश्तेदारी की आड़ में अक्सर उसके घर आता जाता था. मगर उन्हें क्या पता था कि उस हैवान की नज़र उसकी नाबालिग बेटी पर है, जिसे वह हर हाल में अपनी हवस का शिकार बनाना चाहता था.

उन्होंने बताया कि आरोपी योगेंद्र तब उसके घर में आता था जब पूरा परिवार मज़दूरी करने चला जाता था. घर में अकेली पाकर एक रोज़ उसने उसे अपनी हवस का शिकार बनाया और फिर किसी को नहीं बताने का दबाव डाला. नाबालिग को जान से मार डालने की धमकी देकर यह सिलसिला लगातार चार महीनों तक तब तक चलता रहा जब तक कि योगेंद्र को उसके गर्भवती हो जाने का पता नहीं चल गया.


इस बात का खुलासा तो तब हुआ जब एक रोज़ घर में अकेली पीड़िता पेट दर्द से कराह रही थी. परिजनों ने जब पूछा तब उसने बताया कि उसके चाचा ने ही उसके साथ यह गंदा खेल खेला है. हद तो तब हो गयी जब जानकारी मिलने के बाद उसके परिजन आरोपी योगेंद्र के घर गए और उससे पूछताछ की.


परिजन बताते हैं कि उल्टे योगेंद्र और उसके परिवारवालों ने उन पर हमला बोल दिया और झूठा इलज़ाम लगाने का आरोप लगाते हुए घर से भगा दिया. बाद में पीड़िता के परिजनों ने इस आशय की एक प्राथमिकी फेसर थाने में दर्ज़ करा दी. हालांकि पुलिस ने  इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की.

आखिरकार मंगलवार को पीड़िता को प्रसव पीड़ा हुई जिसके बाद परिजन उसे थाने लेकर आये मगर थानाध्यक्ष ने इस मामले में खुद कोई पहल करने की बजाय अपने बूते परिजनों को सदर अस्पताल ले जाने की सलाह दे दी. इधर पीड़िता ने एक बच्चे को जन्म दिया जिसके बाद इस मामले ने एक बार फिर से तूल पकड़ लिया और परिजन आरोपी की गिरफ्तारी के साथ ही साथ न्याय की मांग कर रहे हैं.




ये भी पढ़ें



News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए औरंगाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 9:51 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर