केन्द्रीय विद्यालय के लिए जमीन की मांग और नीतीश के शिक्षा मॉडल के खिलाफ कुशवाहा का उपवास

केंद्र सरकार से देवकुंड में सेंट्रल स्कूल बनाने के लिए तीन साल पहले स्वीकृति मिली थी, लेकिन अभी तक इसके लिए जमीन नहीं मिली है. स्कूल के लिए जमीन उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की है. जमीन न मिलने के चलते स्कूल निर्माण का काम शुरू नहीं हुआ है.

News18 Bihar
Updated: December 8, 2018, 12:51 PM IST
केन्द्रीय विद्यालय के लिए जमीन की मांग और नीतीश के शिक्षा मॉडल के खिलाफ कुशवाहा का उपवास
औरंगाबाद में उपवास पर बैठे उपेन्द्र कुशवाहा
News18 Bihar
Updated: December 8, 2018, 12:51 PM IST
राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ विरोध जारी है. इसके लिए उन्होंने बिहार में बदहाल शिक्षा व्यवस्था को हथियार बनाया है. 4, 5 और 6 दिसंबर को लगातार नीतीश पर हमलावर रहे कुशवाहा आज से औरंगाबाद में उपवास पर बैठ गए हैं. जिले के देवकुंड में सेंट्रल स्कूल की जमीन न मिलने के विरोध में ये उपवास कर रहे हैं. वे रविवार को भी उपवास पर रहेंगे.

इस मौके पर कुशवाहा बिहार सरकार की नीतियों पर जमकर प्रहार किया और केंद्रीय विद्यालय की जमीन से संबंधित सभी मामलों के जल्द निबटाए जाने की मांग की.   दरअसल केंद्र सरकार से देवकुंड में सेंट्रल स्कूल बनाने के लिए तीन साल पहले स्वीकृति मिली थी, लेकिन अभी तक इसके लिए जमीन नहीं मिली है. स्कूल के लिए जमीन उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की है. जमीन न मिलने के चलते स्कूल निर्माण का काम शुरू नहीं हुआ है.

ये भी पढ़ें- एग्जिट पोल के नतीजों पर घमासान: BJP बोली हम जीतेंगे, कांग्रेस ने कहा होगा सूपड़ा साफ

कुशवाहा ने आरोप लगाया है कि कि बिहार के देवकुंड और नवादा में केंद्रीय विद्यालय की स्थापना के लिए जमीन हस्तांतरण संबंधी कुछ कागजी कार्रवाई अबतक पूरी नहीं की जा सकी है. दोनों स्थानों पर केंद्रीय विद्यालय की स्थापना के आलोक में राज्य सरकार से भूमि के हस्तांतरण के लिए वे उपवास पर बैठे हैं.

गौरतलब है कि एनडीए से अलग होने की अटकलों के बीच रालोसपा प्रमुख ने नीतीश कुमार को शिक्षा के क्षेत्र में कार्यों पर बहस करने की खुली चुनौती भी दी है.

इनपुट- संजय सिन्हा 

ये भी पढ़ें- OPINION: आखिर क्या है उपेंद्र कुशवाहा की कशमकश !
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर