अपना शहर चुनें

States

बिहार: एक सिग्नेचर के लिए हजारों रुपये घूस मांग रहा था सरकारी कर्मी, विजिलेंस ने रंगे हाथ किया गिरफ्तार

बिहार के औरंगाबाद में रिश्वत लेते बीसीओ को रंगे हाथों किया गिरफ्तार (प्रतीकात्मक तस्वीर)
बिहार के औरंगाबाद में रिश्वत लेते बीसीओ को रंगे हाथों किया गिरफ्तार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

शिकायत के बाद निगरानी ने मामले का सत्यापन किया और विजिलेंस की टीम (Vigilance team) गठित की गई. गुरुवार को पूरी प्लानिंग के साथ बीसीओ (BCO) को गिरफ्तार कर लिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2020, 10:07 PM IST
  • Share this:
रिपोर्ट- संजय कुमार सिन्हा
औरंगाबाद. निगरानी विभाग की टीम (Vigilance Department Team) ने एक और घूसखोर सरकारी कर्मी को धर दबोचा है. इस बार प्रखण्ड सहकारिता पदाधिकारी (BCO), ओबरा के अंकेश पासवान को 33 हजार रुपये घूस लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है. मिली जानकारी के अनुसार रिश्वतखोर बीसीो व्यापार मंडल अध्यक्ष गिरीश कुमार से घूस ले रहे थे तभी निगरानी की टीम ने पकड़ लिया.

बता दें कि इसी महीने व्यापार मंडल अध्यक्ष गिरीश कुमार ने पैसे के भुगतान के लिए अवैध राशि मांगे जाने की बीसीओ के खिलाफ निगरानी में शिकायत दर्ज कराई थी. शिकायत के बाद निगरानी ने मामले का सत्यापन किया और टीम गठित की. गुरुवार को व्यापार मंडल अध्यक्ष गिरीश कुमार 33 हजार रुपये लेकर प्रखंड सहकारिता कार्यालय पहुंचे. यहां पैसे देने के साथ ही बीसीओ को गिरफ्तार कर लिया गया.

बताया जा रहा है कि पूछताछ के बाद निगरानी विभाग की टीम प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी को लेकर अपने साथ चली गई. जानकारी के अनुसार  करीब 10 लाख रुपए का भुगतान काफी समय से लंबित था. ट्रांसपोर्टिंग और अन्य भुगतान के बदले प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी के द्वारा पैसों की मांग की जा रही थी.  वह व्यपार मंडल अध्यक्ष गिरीश कुमार से बिल पर हस्ताक्षर करने के नाम पर रिश्वत मांग रहे थेे, इसके बाद ये कार्रवाई की गई.




इधर जिला प्रशासन ने बयान जारी करते हुए कहा है कि सरकार द्वारा जिला स्तरीय एवं राज्यस्तरीय निगरानी समिति एवं धावा दल का गठन करते हुए नियंत्रण कक्ष नंबर जारी किए गए थे जिन पर प्राप्त  शिकायतों पर अग्रतर कार्रवाई की जा रही है. उसी क्रम में आज निगरानी विभाग के धावा दल द्वारा अंकेश पासवान, प्रखण्ड सहकारिता पदाधिकारी, ओबरा को 33 हज़ार रुपये की रिश्वत लेते हुये रंगे हाथों पकड़ा गया.गिरफ्तार प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी को अग्रतर कार्रवाई हेतु पटना ले जाया गया है एवं उन पर प्रपत्र क गठित कर विभागीय कार्रवाई भी प्रारंभ की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज