बांका बम विस्फोट: जांच के लिए पटना से पहुंची 7 सदस्यीय ATS की टीम, टेरर कनेक्शन भी है इन्वेस्टिगेशन का एंगल

बांका बम ब्लास्ट की जांच करने पटना से सात सदस्यी एटीएस टीम पहुंची.

बांका बम ब्लास्ट की जांच करने पटना से सात सदस्यी एटीएस टीम पहुंची.

Banka Bomb Blast Case: एटीएस टीम के जांच अधिकारी ने बताया कि पहले ही सारे साक्ष्य एफएसएल की टीम ने कलेक्ट कर लिया है. शेष जांच के लिए पटना की टीम आई हुई है और साक्ष्य इकट्ठे कर रही है.

  • Share this:

बांका. नवटोलिया स्थित मदरसा-मस्जिद में बम विस्फोट में एक मौलवी की मौत हो गई थी. मंगलवार को घटी इस घटना की जांच करने पटना से सात सदस्यीय ATS की टीम ध्वस्त मदरसा की जांच करने पहुंची. रंजीत कुमार सिंह के नेतृत्व में एटीएस टीम के सदस्य मलवे से कुछ प्रमाण इकट्ठा कर जांच को अंजाम तक पहुंचाने की कोशिश में है. रंजीत सिंह ने न्यूज 18 को बताया कि हमारी जांच की दिशा विस्फोटक के प्रकार की जानकारी लेने के साथ ही यह देखना है कि इस विस्फोट के पीछे कोई मॉड्यूल का हाथ तो नहीं है.

जांच अधिकारी ने बताया कि पहले ही सारे साक्ष्य एफएसएल की टीम ने कलेक्ट कर लिया है. शेष जांच के लिए पटना की टीम आई हुई है और साक्ष्य इकट्ठे कर रही है. जांच के विभिन्न बिंदु हैं जिसके बारे में अभी नहीं कहा जा सकता है. बता दें कि विस्फोट टाउन थाना क्षेत्र के नवटोलिया मदरसा भवन के एक कमरे के अंदर सुबह आठ बजे हुआ है.

इस मामले में पुलिस ने कहा था कि प्रथम दृष्या तो यह लगता है कि जिलेटिन के कारण यह विस्फोट हुआ है. विस्फोट के समय मदरसे में दस से अधिक व्यक्ति मौजूद थे. जिस कमरे में धमाका हुआ वह कई दिनों से बंद था. धमाके को दूर-दूर तक सुना गया.

पुलिस का कहना है कि विस्फोट ग्राउंड फ्लोर के एक कमरे में हुआ. इससे मदरसे की दीवारों और छत में दरार आ गई. जिस कमरे में धमाका हुआ था, कुछ देर बाद वह ढह गया. वहीं आस-पास के घरों के शीशे टूट गए. बांका पुलिस के अलावा बम स्क्वाड, डॉग स्क्वाड और आतंकवाद विरोधी दस्ता (ATS)  घटनास्थल का दौरा कर चुका है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज