बिहार के पप्पू हरिजन सहित 46 शिक्षकों को राष्ट्रपति ने दिया नेशनल टीचर अवार्ड

News18 Bihar
Updated: September 5, 2019, 8:51 PM IST
बिहार के पप्पू हरिजन सहित 46 शिक्षकों को राष्ट्रपति ने दिया नेशनल टीचर अवार्ड
राष्ट्रपति कोविंद ने शिक्षक दिवस पर राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार प्रदान किया

पप्पू हरिजन बांका जिले में अमरपुर के प्रोन्नत मध्य विद्यालय कुल्हरिया के प्रधानाचार्य के रूप में कार्यरत हैं.

  • Share this:
दिल्ली. शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले 46 शिक्षकों को गुरुवार (5 सितंबर) को नेशनल टीचर अवार्ड-2019 (National Teachers' Award) से सम्मानित किया गया. दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) के द्वारा इन शिक्षकों को सम्मानित किया गया. इसी क्रम में, बिहार के एक शिक्षक पप्पू हरिजन (Pappu Harijan) को भी राष्ट्रपति के हाथों सम्मानित होने का मौका मिला.

बिहार के एकमात्र शिक्षक जिन्हें मिला राष्ट्रपति पुरस्कार
पप्पू हरिजन बांका जिले में अमरपुर के प्रोन्नत मध्य विद्यालय कुल्हरिया के प्रधानाचार्य के रूप में कार्यरत हैं. वह पप्पू हरिजन भागललुर जिले के परबत्ती के रहने वाले हैं. इस पुरस्कार के लिए बिहार से 6 शिक्षकों के नाम को नामित किया गया था, लेकिन हरिजन ने पुरस्कार अपने नाम किया.

पप्पू हरिजन ने न्यूज18 से बातचीत में कहा कि जिस समय मैं उस स्कूल में नियुक्त हुआ था, उस समय स्कूल की हालत बहुत ही दयनीय थी. छात्र भी कम थे. स्कूलों की चारदीवारी और पानी की व्यवस्था भी नहीं थी. सबसे पहले मैंने स्कूलों की साफ-सफाई, पानी और शौचालय की व्यवस्था करवाया. छात्रों में बढ़ोतरी होना शुरू हो गया. हमारे स्कूल के बच्चे भी अच्छे से मेहनत करने लगे.

ज्ञान एवं विवेक से परिपूर्ण पीढ़ी का निर्माण शिक्षकों की मौलिक जिम्मेदारी: राष्ट्रपति
शिक्षा प्रणाली में ज्ञान के साथ विवेक का महत्व रेखांकित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरूवार को कहा कि व्यवसायीकरण एवं जीवन मूल्यों में गिरावट के कारण पैदा हुई चुनौतियों से निपटने के लिए शिक्षकों की मौलिक जिम्मेदारी 'ज्ञान एवं विवेक' से परिपूर्ण पीढ़ी का निर्माण करना है.

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्ण की जयंती शिक्षक दिवस पर राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार प्रदान करने के बाद कोविंद ने यहां एक समारोह में कहा कि विश्व आज सूचना युग से ज्ञान युग में जा कर रहा है. लेकिन सिर्फ ज्ञान के विकास से ही समाज की सुरक्षा नहीं की जा सकती, ज्ञान के साथ विवेक जरूरी है. सम्मत ज्ञान से ही मानवीय समस्याओं का समाधान निकाला जा सकता है . उन्होंने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के साथ मानवीय करूणा का मेल तथा डिजिटल ज्ञान के साथ चरित्र निर्माण के बीच सामंजस्य जरूरी हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें-

'ठीके तो है नीतीश कुमार' पर RJD का पलटवार-बिहार जो है बीमार

नए स्लोगन में छिपी है JDU की ये खास रणनीति

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बांका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 8:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...