होम /न्यूज /बिहार /बांका में डर दूर हो रहा विद्यार्थियों का: मैथ्स का ये फंडा, रूबी मैम को समझ लो तो बहुत ईजी, वर्ना सबकुछ अंडा

बांका में डर दूर हो रहा विद्यार्थियों का: मैथ्स का ये फंडा, रूबी मैम को समझ लो तो बहुत ईजी, वर्ना सबकुछ अंडा

Vedic Mathematics: बांका जिले के बौंसी प्रखंड स्थित सरौनी मध्य विद्यालय की शिक्षिका रूबी कुमारी बहुत ही सरल भाषा में बच ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : अभिषेक कुमार

बांका. बिहार के सरकारी स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था को लेकर अक्सर सवाल उठते रहते हैं. लेकिन एक हकीकत यह भी है कि यहां पर प्रतिभाएं भरी पड़ी हैं. बांका के बौंसी की शिक्षिका रूबी कुमारी इन दिनों बच्चों को जादुई ट्रिक से एलसीएम (LCM) और एचसीएफ (HCF) को हल करना सीखा रही हैं. उनके पढ़ाने का तरीका इतना सहज और सरल है कि बच्चे आसानी से इसे सीख पा रहे हैं. करीब दो साल पहले बच्चों को हाथ की उंगलियों के सहारे पहाड़ा सिखाता हुआ उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था और उन्होंने देश भर में सुर्खियां बटोरी थीं.

शिक्षिका रूबी कुमारी के पढ़ाने की वैदिक पद्धति को खूब सराहा गया था. जाने-माने उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने भी इसे अपने टि्वटर हैंडल से शेयर किया था. उन्होंने लिखा था ‘मुझे इस चालाक शॉर्टकट के बारे में पता नहीं था. काश यह महिला मेरी गणित की शिक्षिका होती. मैं शायद इस सब्जेक्ट में बहुत बेहतर होता है’. इसके अलावा बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान ने भी आनंद महिंद्रा के ट्वीट को रिट्वीट किया था.

जोड़ और घटाव के सहारे LCM और HCF

बांका जिले के बौंसी प्रखंड स्थित सरौनी मध्य विद्यालय की शिक्षिका रूबी कुमारी बहुत ही सरल भाषा में बच्चों को महत्तम समावर्तक (LCM) और लघुत्तम समवर्तक (HCF) सिखाती हैं. जोड़ और घटाव कर बच्चे आसानी से सवाल का हल कर सकते हैं. रूबी कुमारी ने बताया कि वह वैदिक मैथ्स के माध्यम से बच्चों को नई-नई ट्रिक्स के बारे में जानकारी देती हैं. बच्चे मनोरंजन के साथ पढ़ाई करते हैं. क्लास रूम में बोर भी फील नहीं करते हैं. शिक्षिका ने बताया कि बच्चों को नए-नए ट्रिक्स की जानकारी देने के लिए वे लगातार घर पर काम करती हैं.

टूट रही है पुरानी धारणा

रूबी कुमारी ने News18 Local से कहा कि पहले लोगों में एक धारणा थी कि लड़कियों को मैथ्स की जगह बायोलॉजी पढ़नी चाहिए. लेकिन अब यह धारणा टूट रही है. मैथ्स हमारे दिनचर्या में शामिल है. उन्होंने बताया कि चहक कार्यक्रम के तहत बच्चों को खेल-खेल में पढ़ाई भी कराई जाती है. इससे बच्चों को आसानी से समझ आ जाती है.

Tags: Banka News, Bihar News, Education news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें