बिहार में कोरोना मरीजों को मिलेगी राहत, बेगूसराय में शुरू हुआ एक साल से बंद पड़ा ऑक्सीजन प्लांट

बेगूसराय में एक साल से बंद ऑक्सीजन प्लांट दोबारा शुरू,

बेगूसराय में एक साल से बंद ऑक्सीजन प्लांट दोबारा शुरू,

बेगूसराय में एक साल से बंद पड़े निजी ऑक्सीजन प्लांट को जिला प्रशासन ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए दोबारा शुरू करा दिया. इसके साथ ही जिले के सरकारी और निजी अस्पतालों के साथ अन्य जिलों में भी ऑक्सीजन की आपूर्ति शुरू कर दी गई है.

  • Share this:
बेगूसराय. लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच बेगूसराय से एक राहत भरी खबर मिल रही है. यहां तकरीबन एक साल से बंद पड़े एक निजी ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) को जिला प्रशासन की पहल पर दोबारा शुरू करा दिया गया है. इसके साथ ही बेगूसराय जिले के सरकारी और निजी अस्पतालों के साथ-साथ अन्य जिलों में भी ऑक्सीजन की आपूर्ति शुरू कर दी गई है. इसको लेकर जहां मरीजों का समुचित इलाज हो पाएगा तो वहीं अस्पताल प्रबंधन ने भी राहत की सांस ली है. खास बात यह है कि इस प्लांट के द्वारा ऑक्सीजन और नाइट्रोजन निर्माण में किसी भी प्रकार के केमिकल का प्रयोग नहीं किया जाता है, बल्कि यह प्लांट प्राकृतिक गैस को ही संग्रहित कर ऑक्सीजन एवं नाइट्रोजन गैस का उत्पादन करती है.

दरअसल, बेगूसराय जिले के सदर अनुमंडल स्थित देवना औद्योगिक क्षेत्र में सोनी इंटरप्राइजेज के नाम से एक ऑक्सीजन प्लांट पिछले वर्ष तक सुचारू था, लेकिन फरवरी 2020 में बिजली विभाग की ओर से प्लांट पर शिकायत दर्ज कराते हुए प्लांट को बंद करवा दिया गया था. प्लांट के संचालक नीरज कुमार बताते हैं कि उसके बाद भी उन्होंने अस्पतालों में ऑक्सीजन की सप्लाई को जारी रखा, लेकिन इसके लिए उन्हें दूसरी जगह से संपर्क स्थापित कर सड़क मार्ग से गैस मंगवाकर सिलेंडर रिफिल करना पड़ता था. हाल के दिनों में जब कोरोना संक्रमण का एक बार फिर भयानक रूप सामने आया तो फिर सरकारी अस्पताल सहित निजी अस्पतालों में भी ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी होने लगी.

DM की पहल पहल पर शुरू हुआ ऑक्सीजन रिफलिंग प्लांट

ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए बेगूसराय के डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने पहल शुरू की और बंद पड़े ऑक्सीजन प्लांट को रविवार से दोबारा चालू कर दिया गया. ऑक्सीजन प्लांट शुरू होते ही जिले के अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति भी शुरू हो गई और एक बड़ी समस्या का समाधान भी मिल गया है. उम्मीद की जा रही है कि आगे इस प्लांट से जिले एवं जिले से बाहर भी चिकित्सकों के साथ मरीजों को लाभ मिलता रहेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज