Bihar Election Result 2020 Live: साहेबपुर कमाल विधानसभा सीट से राजद की जीत

Bihar Election Result: साहेबपुर कमाल विधानसभा सीट पर राजद ने जीत दर्ज की.
Bihar Election Result: साहेबपुर कमाल विधानसभा सीट पर राजद ने जीत दर्ज की.

Bihar Assembly Election Result 2020 Live Updates: साहेबपुर कमाल विधानसभा सीट (Sahebpur Kamal Assembly Constituency) पर जेडीयू और आरजेडी के बीच कांटे की टक्कर रही. फिलहाल आरजेडी के सत्तानन्द सम्बुद्ध जीते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2020, 5:38 PM IST
  • Share this:
बेगूसराय. बिहार की साहेबपुर कमाल विधानसभा सीट (Sahebpur Kamal Assembly Constituency) पर जेडीयू और आरजेडी के बीच कांटे की टक्कर रही. फिलहाल साहेबपुर कमाल विधानसभा सीट पर आरजेडी के सत्तानन्द सम्बुद्ध 14225 वोटों से जीते हैं. जेडीयू के शशिकांत कुमार शशि उर्फ अमर कुमार सिंह परा‍जित हुए. इस सीट पर जेडीयू ने शशिकांत शशि को और आरजेडी ने सतानंद सम्बुद्ध को मैदान में उतारा था. वहीं एलजेपी से सुरेंद्र कुमार को मैदान में उतारा था. साहेबपुर कमाल विधानसभा सीट (Sahebpur Kamal Assembly Constituency) सामाजिक समीकरण के लिहाज से अल्पसंख्यक उम्मीीदवारों के लिए उपयुक्त मानी जाती है.

बिहार चुनाव के नतीजों के पल-पल का हर अपडेट यहां देखें LIVE

लगातार दूसरी बार जीती थी आरजेडी



बता दें कि विधान सभा चुनाव में यह सीट 2010 में जदयू के पास गया था. अफजल अमानुल्लाह  की पत्नी व प्रदेश के पूर्व मंत्री परवीन अमानुल्लाह यहां की विधायक थीं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मतभेद होने के कारण परवीन अमानुल्लाह ने मंत्री, विधायक एवं जद यू की सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया. रिक्त हुए विधान सभा क्षेत्र का उपचुनाव में भाजपा-लोजपा- रालोसपा गठबंधन की ओर से भाजपा के शशिकांत कुमार उर्फ अमर कुमार सिंह को  राजद के श्रीनारायण यादव ने हरा दिया था.


साहेबपुर कमाल में मतदाताओं की संख्या

2015 में भी साहेबपुर कमाल विधानसभा क्षेत्र में राजद के श्रीनारायण यादव ने लोजपा के मोहम्द असलम को सीधे मुकाबले में हराया था. इस विधानसभा में कुल मतदाता की संख्या 193603 है. वहीं पुरुष मतदाता की संख्या 103929 है. वहीं महिला मतदाता की संख्या 89674 है. पिछले चुनाव में कुल 55.71 प्रतिशत मतदान हुआ था.

साहेबपुर कमाल के ये हैं बड़े चुनावी मुद्दे

दियारा क्षेत्र में गंगा से कटाव और विस्थापन, पुनर्वास की बहुत बड़ी समस्या है. दियारा क्षेत्र में आवागमन की असुविधा के कारण लोगों को बड़ी दिक्कत होती है. खेतों की सिंचाई, अस्पताल व उच्च शिक्षा के लिए कॉलेज के लिए अभी तक लाले पड़े हैं. कोई सुध लेने वाला नहीं है. युवाओं के रोजगार के लिए कोई उपाय नहीं किया गया. उच्च शिक्षा के लिए कोई संस्थान नहीं बनी है. महिला सुरक्षा के लिए भी कोई कदम नहीं उठाया गया. किसान की परेशानी कम होने की बजाय बढ़ ही रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज