Teghra Election Result Live: तेघड़ा से सीपीआई के राम रतन सिंह ने जदयू के बिरेंद्र कुमार को 47979 वोट से हराया

तेघड़ा विधानसभा से 67 वर्षीय जेडीयू प्रत्याशी बीरेंद्र कुमार के सामने भाकपा के 70 साल के उम्मीदवार रामरतन सिंह मैदान में हैं.
तेघड़ा विधानसभा से 67 वर्षीय जेडीयू प्रत्याशी बीरेंद्र कुमार के सामने भाकपा के 70 साल के उम्मीदवार रामरतन सिंह मैदान में हैं.

Teghra Assembly Seat:बिहार के बेगूसराय जिले के तेघड़ा (Teghra Election Result) में तेघड़ा से सीपीआई के राम रतन सिंह ने जदयू के बिरेंद्र कुमार को 47979 वोट से हराया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 3:46 AM IST
  • Share this:
बेगूसराय. बिहार के बेगूसराय जिले के तेघड़ा (Teghra Election Result) में तेघड़ा से सीपीआई के राम रतन सिंह ने जदयू के बिरेंद्र कुमार को 47979 वोट से हराया. बिहार में वामपंथ की उर्वर भूमि के रूप में मशहूर बेगूसराय (Begusarai) को कभी 'लेनिनग्राद' के नाम से भी जाना जाता था. चुनावी इतिहास पर गौर करें तो यह ख्याति अब पहले जैसी नहीं रही, लेकिन अब भी जिले के कई इलाकों में वामपंथ की धमक सुनाई पड़ ही जाती है. जिले की तेघड़ा विधानसभा सीट (Teghra Assembly Seat) ऐसी ही है. 2008 के परिसीमन के बाद से हुए पिछले दो चुनावों में वामपंथी दल भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI) यानी भाकपा को यहां से कभी भी जीत नहीं मिल सकी है, लेकिन कम्युनिस्ट विचारधारा अभी खत्म नहीं हुई है. लिहाजा 2020 के विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) में तेघड़ा सीट से एक बार फिर भाकपा कमर कसकर तैयार है.

तेघड़ा विधानसभा सीट पर कोरोनाकाल में हो रहा चुनाव बड़ा ही रोचक है. सियासी रण में उतरे दो प्रमुख दलों के उम्मीदवार सीनियर सिटिजन यानी बुजुर्ग हैं. जी हां, तेघड़ा से जेडीयू के उम्मीदवार बीरेंद्र कुमार की उम्र जहां 67 साल है, वहीं उनके मुकाबले सीपीआई प्रत्याशी रामरतन सिंह 70 वर्ष के हैं. रामरतन सिंह 2010 में भी इसी सीट से चुनाव लड़ चुके हैं, जब बीजेपी के उम्मीदवार ललन कुमार ने उन्हें लगभग 6000 वोटों से चुनाव में हरा दिया था. लेकिन वामपंथ के रंग में रंगे रामरतन एक बार फिर पूरे दम-खम के साथ चुनाव मैदान में आ डटे हैं.

2015 में तेघड़ा सीट पर हुआ विधानसभा चुनाव महागठबंधन बनाम एनडीए के बीच का था. उस साल बीजेपी और आरजेडी के उम्मीदवारों के बीच इस वाम-धरा पर सियासी बिसात बिछी थी. लेकिन लालू यादव और नीतीश कुमार की चुनाव-पूर्व एका ने 2015 में बीजेपी को परास्त कर दिया. विधानसभा चुनाव में आरजेडी के उम्मीदवार बीरेंद्र कुमार ने बीजेपी के रामलखन सिंह को करारी शिकस्त दी. बीरेंद्र कुमार ने 15000 से अधिक मतों से जीत हासिल की थी.



ECI Bihar Election Result Live: 56 सीटों पर NDA की जीत, अमित शाह ने नीतीश कुमार से की फोन पर बातचीत


इस बार के चुनाव में चूंकि सियासी समीकरण बदल चुके हैं, लिहाजा बीरेंद्र कुमार ने भी अपना दल-परिवर्तन कर लिया है. वह आरजेडी छोड़कर अब जेडीयू में आ चुके हैं, और इस बार तेघड़ा सीट से उनके सामने भाकपा के रामरतन सिंह हैं. बिहार में एक मुहावरा 'पुराना चावल' बड़ा मशहूर है. घरों में किसी बीमार को पथ्य के रूप में पुराना चावल खाने को दिया जाता है, ताकि उसकी सेहत अच्छी हो जाए. तेघड़ा के चुनावी रण में वैसे तो 14 प्रत्याशी अपना भाग्य आजमा रहे हैं, लेकिन मुख्य रूप से 3 उम्मीदवारों की ही चर्चा है. जेडीयू और भाकपा के अलावा यहां के चुनावी संघर्ष को त्रिकोणीय बनाने के लिए लोजपा की तरफ से ललन कुमार भी मैदान में उतरे हैं. यह तो मतदाता ही बताएंगे कि वह किसे 'पुराना चावल' समझकर अपनाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज