लाइव टीवी

Lockdown: बेटे की मौत के बाद रोते पिता की ये तस्वीर हुई थी वायरल, घर पहुंचकर अब...
Begusarai News in Hindi

News18 Bihar
Updated: May 20, 2020, 7:19 PM IST
Lockdown: बेटे की मौत के बाद रोते पिता की ये तस्वीर हुई थी वायरल, घर पहुंचकर अब...
बेटे की मौत के बाद लॉकडाउन में फंसे पिता की वायरल हुई थी तस्वीर.

रामपुकार पंडित को बेगूसराय आने के बाद प्राथमिक जांच के बाद क्वारंटाइन सेंटर (Quarantine center) में रखा गया और अब उन्हें अपने घर भेज दिया गया.

  • Share this:
बेगूसराय. कोरोनाबंदी के दौरान ऐसे कई वाकये सामने आए जिसने लोगों की आखों में आंसू ला दिए. ऐसा ही एक वाकया बेगूसराय (Begusarai) के एक शख्स के साथ हुआ था जो काफी चर्चित रहा था. हम जिक्र कर रहे हैं सोशल मिडिया पर वायरल  (Viral on social media) हुई एक ऐसी तस्वीर की जिसने न सिर्फ हर एक की मानवीय संवेदनाओं को जगा दिया बल्कि एक पिता  को अपने पुत्र की मौत के बाद घर आने की इजाजत मिली. हालांकि अपने पुत्र की मौत के बाद पिता को घर आते-आते काफी लंबा अरसा गुजर गया, लेकिन अब वे अपने घर आकर बच्चों एवं परिवार के सदस्यों से मिलकर काफी इत्मिनान हैं.

दरअसल बेगूसराय जिले के बरियारपुर पूर्वी पंचायत के रहने वाले रामपुकार पंडित दिल्ली के नजफगढ़ में रहकर मजदूरी का काम करता था. इसी दौरान रामपुकार पंडित को बेगूसराय में रह रहे उनके बेटे की मौत की खबर पता लगी. गमगीन रामपुकार पंडित को जब घर आने का कोई साधन नहीं मिला तो वह  पैदल ही अपने घर के लिए चल दिए.

किलोमीटर दर किलोमीटर अपने पांव से रास्ते को नापते हुए राम पुकार पंडित किसी तरह बिहार और यूपी के बॉर्डर तक पहुंच गए, लेकिन यूपी पुलिस ने उन्हें रोक लिया था. इसी दौरान रामपुकार पंडित ने यूपी पुलिस से काफी मिन्नतें आरजू कीं और अपने पुत्र के मौत की बात बताई.



क्वारंटाइन सेंटर से निकले रामपुकार पंडित.




फिर स्थानीय पत्रकारों के द्वारा अनुनय विनय करने के बाद यूपी पुलिस ने उन्हें ट्रेन के माध्यम से बेगूसराय भेज दिया. इसी बीच किसी के द्वारा रामपुकार पंडित का एक रोते हुए तस्वीर इंटरनेट पर वायरल की गई और तस्वीर वायरल होते ही हजारों की संख्या में लोगों ने टिप्पणी भी की.

रामपुकार पंडित को बेगूसराय आने के बाद प्राथमिक जांच के बाद क्वारंटाइन सेंटर में  रखा गया और अब  उन्हें अपने घर भेज दिया गया. हालांकि इस बीच राम पुकार पंडित ने शिकायत की है कि जिला प्रशासन एवं सरकार के द्वारा उन्हें आर्थिक रूप से अभी तक कोई मदद नहीं मिली है. फिलहाल रामपुकार पंडित जिला प्रशासन से मदद की गुहार लगा रहे हैं.

ये भी पढ़ें

बिहार: Corona Crisis के बीच क्यों हटाए गए स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार? पढ़ें Inside Story

बिहार: पिता को साइकिल पर बिठा गुरुग्राम से दरभंगा ले आई थी 'श्रवण बिटिया', अब सम्मान करेगा जिला प्रशासन
First published: May 20, 2020, 7:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading