लाइव टीवी

सिमरिया में राजकीय कल्पवास मेला शुरू, एक महीने तक कुटीर बना कर रहते हैं श्रद्धालु

News18 Bihar
Updated: October 20, 2019, 7:48 PM IST
सिमरिया में राजकीय कल्पवास मेला शुरू, एक महीने तक कुटीर बना कर रहते हैं श्रद्धालु
राजकीय सिमरिया कल्पवास मेला का उद्घाटन करते विजय कुमार सिन्हा

कार्तिक महीने में कल्पवास (Kalpwas) के दौरान श्रद्धालु एक महीने तक पर्ण कुटीर बनाकर रहते हैं और सुबह में गंगा में स्नान करते हैं.

  • Share this:
बेगूसराय. बिहार के बेगूसराय (Begusarai) जिले के सिमरिया (Simaria) में गंगा तट पर आयोजित राजकीय कल्पवास मेले (Kalpwas Mela) का विधिवत उद्घाटन रविवार को बिहार सरकार के श्रम संसाधन मंत्री सह बेगूसराय के प्रभारी मंत्री विजय कुमार सिन्हा (Vijay Kumar Sinha) ने किया.

पूरे कार्तिक मास में एक महीने तक चलने वाले कल्पवास मेले के उद्घाटन के मौके पर डीएम अरविंद कुमार वर्मा एसपी अवकाश कुमार, सांसद प्रतिनिधि अमरेंद्र कुमार अमर समेत कई लोग मौजूद थे. विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि श्रद्धालुओं को कोई परेशानी न हो, इसके लिए सरकार हरसंभव कार्य कर रही है. जाति-धर्म से ऊपर उठकर लोग यहां आते हैं. श्रद्धालुओं के हर सुविधा का ख्याल रखा जा रहा है.

साल 2012 में सिमरिया कल्पवास मेले को मिला था राजकीय दर्जा 
बताते चलें कि वर्ष 2012 में सिमरिया कल्पवास मेले को राजकीय मेला का दर्जा मिला था और उसके बाद सिमरिया में दो बार कुंभ का भी आयोजन हो चुका है.

राजा विदेह के समय से सिमरिया में होता आ रहा है कल्पवास
सिमरिया में गंगा तट पर कल्पवास मेला शुरू हो चुका है. कल्पवास के दौरान श्रद्धालु एक महीने तक पर्ण कुटीर बनाकर रहते हैं और सुबह में गंगा में स्नान करते हैं. ऐसी मान्यता है कि राजा विदेह के समय से ही सिमरिया गंगा नदी तट पर कल्पवास मेले की परंपरा चली आ रही है.

मिथिला की सीमा सिमरिया रही है. गंगा मिथिला वासियों के लिए आज भी सबसे ज्यादा धार्मिक आस्था का केंद्र है. आज भी मिथिला वासियों का कल्पस्थली और मोक्ष धाम सिमरिया ही है. राजा जनक (विदेह) अपनी अंतिम अवस्था मे यहीं कल्पवास किए थे और यहीं प्राण त्याग किए थे.
Loading...

शंकराचार्य को पराजित करनेवाले मिथिला के विद्वान मंडन मिश्र और उनकी विदुषी पत्नी भारती को मोक्ष यहीं मिला. कविवर विद्यापति को भी यहीं कल्पवास और मोक्ष की प्राप्ति हुई थी. ऐसी ही धार्मिक मान्यता को देखते सुनते बड़ी संख्या में लोग कल्पवास के लिए एक महीना सिमरिया धाम आते हैं.

(रिपोर्ट- संतोष कुमार)

ये भी पढ़ें-

जानिए सियासी जोड़ियों के दम पर ही आखिर कैसे चलती है बिहार में हुकुमत

पप्पू यादव ने जहानाबाद सांप्रदायिक हिंसा के पीड़ितों को दी आर्थिक मदद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बेगूसराय से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2019, 7:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...