Assembly Banner 2021

बिहार में शराबबंदी : बेगूसराय के एक थाना परिसर में नशे में फसाद करते पकड़ा गया एएसआई

शराब पीकर उत्पात मचाने के आरोपी ने थाना प्रभारी पर लगाया है साजिश रचने का आरोप.

शराब पीकर उत्पात मचाने के आरोपी ने थाना प्रभारी पर लगाया है साजिश रचने का आरोप.

वरीय पदाधिकारियों के निर्देश पर आरोपी राम लखन राम को किसी तरह हिरासत में लिया गया और जब उनका मेडिकल करवाया गया तो शराब पीने की पुष्टि भी हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2021, 5:33 PM IST
  • Share this:
बेगूसराय. जिनके ऊपर शराबबंदी (Liquor ban) कानून को सख्ती से पालन करवाने की जिम्मेवारी हो अगर वही शराब के नशे में दंगा-फसाद करते नजर आ रहे हैं. यह कहना गलत नहीं होगा कि इस मामले में दरोगा और पुलिसकर्मी ही नीतीश सरकार (Nitish Government) की फजीहत करवाने में जुटे हुए हैं. ऐसा ही एक मामला बेगूसराय (Begusarai) से प्रकाश में आया है. यहां लोहिया नगर थाना परिसर में बीती रात एएसआई (ASI) राम लखन राम ने शराब के नशे में जमकर उत्पात मचाया. बाद में वरीय पदाधिकारियों के निर्देश पर आरोपी राम लखन राम को किसी तरह हिरासत में लिया गया और जब उनका मेडिकल करवाया गया तो शराब पीने की पुष्टि भी हुई.

आरोपी ने लगाया थाना प्रभारी पर साजिश रचने का आरोप

हालांकि उक्त मामले में आरोपी राम लखन राम का कहना है कि एक साजिश के तहत उन्हें फंसाया जा रहा है. आरोपी राम लखन राम ने थाना प्रभारी नीरज कुमार पर आरोप लगाया कि जिस वक्त वह सिरिस्ता में बैठकर एक केस की डायरी लिख रहे थे, उसी क्रम में किसी अन्य मामलों के एक आरोपी को पुलिस थाने लाई और सिरिस्ता भवन के अंदर ही पुलिस द्वारा उसकी पिटाई की जाने लगी. इस बात का राम लखन राम ने विरोध किया और अरोपी को सिरिस्ता रूम से बाहर निकालने के लिए कहा. राम लखन राम ने आरोप लगाया है कि इतना सुनते ही थानाध्यक्ष नीरज कुमार नाराज गए और जातिसूचक गालियां देनी शुरू कर दीं. जब राम लखन राम ने उन्हें गाली देने से मना किया तो थाना अध्यक्ष नीरज कुमार ने उनकी पिटाई कर दी, जिससे वे घायल हो गए.



वरीय पदाधिकारियों की जिम्मेवारी पर नजर
वजह चाहे जो भी हो, लेकिन जिस तरह से पुलिसकर्मी और थाना परिसर में शराब के मामले सामने आ रहे हैं, उससे लगता है कि जिन कंधों पर शराबबंदी का जिम्मा है, वही कंधे शराबबंदी की अर्थी उठाए घूम रहे हैं. अब देखने वाली बात होगी की वरीय पदाधिकारी इस मामले में क्या कदम उठाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज