केसी त्यागी बोले- कन्हैया के कद से 'डर' गए तेजस्वी, बेगूसराय का मुकाबला हुआ रोचक

जेडीयू नेता केसी त्यागी ने स्पष्ट कहा कि कन्हैया की कृति और ख्याति तेजस्वी यादव से ज्यादा है, इसलिए वह डर गए.

News18 Bihar
Updated: April 29, 2019, 2:11 PM IST
केसी त्यागी बोले- कन्हैया के कद से 'डर' गए तेजस्वी, बेगूसराय का मुकाबला हुआ रोचक
फाइल फोटो
News18 Bihar
Updated: April 29, 2019, 2:11 PM IST
बेगूसराय लोकसभा सीट पर मुख्य मुकाबला आरजेडी और बीजेपी के बीच है, लेकिन सीपीआई उम्‍मीदवार  कन्हैया कुमार  के आने से यह रोचक बन गया है. ये कहना है जेडीयू के वरिष्‍ठ नेता केसी त्यागी का. जेडीयू नेता ने यह भी स्वीकार किया कि अगर कन्हैया महागठबंधन की ओर से होते तो कांटे का मुकाबला होता. त्यागी ने कन्हैया को उम्मीदवार नहीं बनाने को आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव की महत्वाकांक्षा से जोड़ दिया. उन्‍होंने कहा कि ऐसा इसलिए नहीं हो सका क्योंकि लालू प्रसाद अपने पुत्र तेजस्वी यादव को स्थापित करने के लिए कोई जोखिम नहीं लेना चाहते थे.

केसी त्यागी ने स्पष्ट कहा कि कन्हैया की कृति और ख्याति तेजस्वी यादव से ज्यादा है. कन्हैया ने जो भी हासिल किया है, वह अपने बलबूते पर किया है. जेडीयू नेता ने बताया कि कन्‍हैया कुमार अपनी कर्मठता से जेएनयू छात्र संघ के अध्‍यक्ष बने, जबकि तेजस्वी यादव अपने पिता के बदौलत नेता प्रतिपक्ष बने.

ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election: बेगूसराय में वोट डालने के बाद कन्हैया कुमार ने लोगों से की इमोशनल अपील

सीपीआई को महागठबंधन में शामिल नहीं करने और कन्हैया को विपक्ष का संयुक्त उम्मीदवार न बनाने को लेकर जेडीयू नेता ने दावा किया कि तेजस्वी को 'डर' था कि भविष्‍य में कन्हैया उनको पछाड़ न दे. इस 'डर' से गठबन्धन नहीं हो सका.

उन्होंने कहा कि ऐसे तो 25-30 साल से सीपीआई और राजद में गठबंधन रहा था, लेकिन अब ऐसा हुआ तो इसके पीछे यही कारण है. तेजस्वी यादव अपरिपक्व राजनितिज्ञ हैं और वह अपने पिता लालू प्रसाद की कृति और ख्याति के बलबूते राजनीति कर रहे हैं, जबकि कन्हैया ने अपने करिश्मे से चुनाव को रोचक बना दिया है.

केसी त्यागी ने कहा कि बेगूसराय प्रारंभिक काल से राजनीतिक तौर पर बहुत परिपक्व क्षेत्र रहा है. बेगूसराय समाजवाद और साम्यवाद आंदोलन के लिए जाना जाता है, लेकिन इस समय यहां त्रिकोणात्मक मुकाबला है. लेकिन, मुख्य मुकाबला राजद और भाजपा के बीच है.

ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election: मंदिर में पूजा कर वोट डालने पहुंचे गिरिराज सिंह, प्रियंका गांधी पर ली चुटकी
तेजस्वी यादव द्वारा सीएम नीतीश कुमार को दुर्योधन और धृतराष्ट्र बताने पर कहा कि नीतीश जी कभी व्यक्तिगत आरोप-प्रत्यारोप और किसी पर अभद्र टिप्पणी नहीं करते हैं. उन्होंने कहा कि तेजस्वी ने अपने परिवार को बांट दिया है, पार्टी को बांट दिया है और महागठबन्धन को भी तार-तार कर दिया है.

बता दें कि लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में बिहार की पांचों सीटों पर दिलचस्प मुकाबला है, लेकिन सबसे अधिक सुर्खियां बटोर रही है बेगूसराय लोकसभा सीट. यहां जेएनयू के पूर्व छात्र अध्यक्ष कन्हैया कुमार सीपीआई से तो एनडीए की ओर से बीजेपी के टिकट पर गिरिराज सिंह मैदान में हैं. वहीं महागठबंधन की ओर से आरजेडी ने तनवीर हसन को चुनावी लड़ाई में उतारा है.

इनपुट- निरंजन अमेठिया

ये भी पढ़ें-

Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...