गिरिराज सिंह ने बताया अपना 'COW कॉन्‍सेप्‍ट', ऐसे बढ़ेगी गायों की संख्या

Amitesh | News18Hindi
Updated: September 5, 2019, 2:51 PM IST
गिरिराज सिंह ने बताया अपना 'COW कॉन्‍सेप्‍ट', ऐसे बढ़ेगी गायों की संख्या
गाय की फैक्‍ट्री मामले पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने दी सफाई.

गिरिराज सिंह गाय (Cow) की संख्या बढ़ाने के लिए चल रही आईवीएफ (IVF) तकनीक का हवाला दे रहे थे. जिसके जरिए केवल बछिया ही पैदा होगी. यानी बछड़ों की बढ़ती तादाद पर लगाम लगाने की कोशिश सफल हो पाएगी. बछिया की संख्या बढने से दूध का उत्पादन भी बढ़ेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2019, 2:51 PM IST
  • Share this:
केंद्रीय पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh ) ने एक कार्यक्रम के दौरान गाय की फैक्ट्री लगाने की बात कही तो इसको लेकर बवाल खड़ा हो गया था. गिरिराज पर तंज कसे जा रहे थे. खासतौर से अपनी हिंदुत्ववादी छवि के लिए जाने जानेवाले गिरिराज सिंह की तरफ से उस गाय की फैक्ट्री (Cow Factory) लगाने की बात कही गई थी, जिसे माता की संज्ञा दी गई  है. लेकिन आलोचना के बाद गिरिराज सिंह सामने आए और दूध उत्पादन के लिए आर्थिक मॉडल की बात करते हुए गाय की फैक्ट्री वाले अपने बयान पर सफाई दी.

दरअसल, गिरिराज सिंह गाय (Cow) की संख्या बढ़ाने के लिए चल रही आईवीएफ (IVF) तकनीक का हवाला दे रहे थे. जिसके जरिए केवल बछिया ही पैदा होगी. यानी बछड़ों की बढ़ती तादाद पर लगाम लगाने की कोशिश सफल हो पाएगी. बछिया की संख्या बढने से दूध का उत्पादन भी बढ़ेगा.

गिरिराज सिंह ने मीडिया से बात करते हुए इस तकनीक और मंत्रालय की तरफ से इसको लागू करने के तौर तरीके के बारे में विस्तार से जानकारी दी. पशुपालन मंत्री ने कहा, देश के अंदर सबसे बड़ी समस्या तब हो जाती है जब बछड़े (Male Calf) की संख्या ज्यादा हो जाती है.

उन्होंने कहा, 'इसे रोकने के लिए, केवल बछिया पैदा हो जाए इस तरह की टेक्नोलोजी अभी इस्तेमाल होती है लेकिन यह टेक्नोलोजी विदेशी है. हमारा वादा है अगले 6 महीने में स्वदेशी टेक्नोलाजी आ जाएगी. हमने जिस फैक्‍ट्री की बात की वही IVF टेक्नोलोजी है, जिसके माध्यम से केवल बछिया ही पैदा होगी.'

कैसे काम करेगी यह टेक्नोलॉजी ?
यह टेक्टनोलॉजी पूरी दुनिया में है, जिसके तहत कुछ जानवर सर्रोगेट मदर की भूमिका में आएंगे. इसमें सेक्स सोर्टेज सीमोन का सहारा लिया जाएगा. बकौल मंत्री 2019-20 में तीस से चालीख लाख सीमोन को देश के अलग-अलग राज्यों के 13 लैब में तैयार किया जाएगा. इस टेक्नोलॉजी के माध्यम से एक्स -एक्स क्रोमोजोन के साथ गर्भाधान कराया जाता है, जिसमें केवल बछिया पैदा होने की संभावना रहती है.

फिलहाल पहला सेक्स सार्टेड सीमेन सेंटर उत्तराखंड में ऋषिकेष और महाराष्ट्र के पुणे में खोला गया है. सेक्ससोर्टेड सीमोन की कीमत 650 रुपये प्रति यूनिट की दर से रहेगी. शुरुआती दौर में सेक्ससोर्टेड सीमोन सेंटर से 3 लाख प्रति यूनिट सीमोन एक साल में तैयार किया जाएगा. इस तरह देश भर के सभी 13 लैब या सेंटर से 39 लाख यूनिट सीमोन सालाना तैयार होगा.
Loading...

केंद्रीय पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह कहते हैं जो एम्बरियो लैब में तैयार होगा और गाय के गर्भाधान में जाएगा तो ये गाय की फैक्‍ट्री ही हुई. अंतर यह होगा कि अगर 2 लीटर वाली गाय होगी और उसमें 30 लीटर वाला एम्बरियो से गर्भाधान होगा तो बछिया 30 लीटर दूध देने वाली पैदा होगी. इसी को कहा था गाय की फैक्‍ट्री.

गिरिराज सिंह ने अन्‍य लोगों पर साधा निशाना
गिरिराज सिंह अपनी सफाई देते हुए उन लोगों पर निशाना साधने से भी नहीं चुके, जिन लोगों ने उनकी तरफ से गाय की फैक्ट्री वाले बयान को लेकर तंज कसा था. उन्होंने साफ शब्दों में कहा, कुछ लोगों ने राजनीतिक फ़ैक्ट्रियां खोल दी हैं मेरे ख़िलाफ़. मैं उनसे कहता हूं, वे समझें. यह इस वक्त देश की ज़रूरत है किसानों की ज़रूरत है.

बिना किसी आलोचना की परवाह किए गिरिराज सिंह ने अपने अंदाज में दावा किया, 'हम अगले पाँच साल में सेक्स सीमेंन आईवीएफ़ टेक्नोलोजी को इतना आगे ले जाएँगे कि देश के किसानो की आमदनी 10 से 12 लाख करोड़ रुपया बढ़ जाएगी.'

ये भी पढ़ें

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बेगूसराय से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 2:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...