अपना शहर चुनें

States

मंदिर से चांदी की मुकुट चोरी पर आक्रोशित हुए लोग, भीड़ ने आरोपी को पोल से बांधकर पीटा

बेगूसराय के बखरी में चोरी के आरोपी की पोल से बांधकर पिटाई.
बेगूसराय के बखरी में चोरी के आरोपी की पोल से बांधकर पिटाई.

सोमवार की रात बेगूसराय के बखरी स्थित ओम श्याम मंदिर से तीन मूर्तियों पर चढ़ाए गए लगभग 700 ग्राम चांदी के मुकुट की चोरी कर ली गई. घटना सामने आने के बाद लोग आक्रोशित हो गए और चोरी के आरोप में एक युवक को पकड़ लिया और उसकी जमकर पिटाई कर दी.

  • Share this:
बेगूसराय. एक बार फिर लोगों ने कानून हाथ हाथ में लेते हुए चोरी के आरोप में एक युवक और एक अधेड़ की जमकर पिटाई कर दी. इनमें से चोरी के आरोपी युवक को घंटों बिजली के खंभे से बांधकर भी रखा. घटना बखरी थाना क्षेत्र के वार्ड 13 की है. हालांकि कुछ स्थानीय नागरिकों की दखल से मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) जैसी घटना होने से बच गई.

बेगूसराय में युवक की पिटाई
बताया जा रहा है कि सोमवार की रात यहां के ओम श्याम मंदिर से तीन मूर्तियों पर चढ़ाए गए लगभग 700 ग्राम चांदी के मुकुट की चोरी कर ली गई. घटना सामने आने के बाद लोग आक्रोशित हो गए और चोरी के आरोप में एक युवक को पकड़ लिया और उसकी जमकर पिटाई कर दी. लोगों का आक्रोश इस बात को भी लेकर था कि सूचना के बावजूद भी पुलिस घंटों तक मौके पर नहीं पहुंची.

पोल में बांधकर पीटा गया
लोगों का आरोप है कि भगवान राधा कृष्ण के मंदिर से तीन भगवान की चांदी के मुकुट लगभग 700 ग्राम की चोरी कर ली गई. इसी दौरान जब लोगों की नींद खुली तो आरोपी किशोर वहां मौजूद था जिसे लोगों ने पकड़ लिया और उसकी पिटाई करते हुए पोल में बांध दिया.



आरोपी ने अपराध कबूला
वहीं, पकड़े गए आरोपी किशोर कुमार ने इस घटना में अपना हाथ होने से साफ इनकार किया है . हालांकि उसने राहुल कुमार नामक के लड़के का नाम बताया जिसपर वह चोरी में शामिल होने की बात कह रहा है. आक्रोशित लोगों ने घटना में शक के आधार पर वार्ड 13 निवासी किशोर कुमार को पकड़ लिया और उसे पोल में बांध कर जमकर पिटाई कर दी.

दूसरे आरोपी के पिता की भी पिटाई
दूसरे आरोपी कुंदन कुमार के पिता घंटाली झा को भी लोगों ने भी सड़क पर जमकर पीटा. वहीं, तीसरा आरोपी फरार होने में सफल हो गया. हालांकि स्थानीय लोग उसकी भी तलाश में जुटे हुए हैं. मामले में स्थानीय लोगों का कहना है कि पकड़े गए आरोपी किशोर कुमार ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है .

जागरूक लोगों ने रोकी मॉब लिंचिंग
बहरहाल मामले में गनीमत यह रही कि मॉब लिंचिंग जैसी वारदात सामने नहीं आई नहीं तो एक बार फिर जिला प्रशासन को शर्मसार होना पड़ता. हालांकि इस पूरे घटनाक्रम में पुलिस की लापरवाही साफ देखने को मिली. एक तो ये कि घटना की सूचना मिलने के कई घंटे बाद पुलिस मौके पर पहुंची.

रिपोर्ट- संतोष कुमार

ये भी पढ़ें- 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज