ANALYSIS: 'बैटल ऑफ बेगूसराय', इस हाई प्रोफाइल सीट पर आखिर कौन मारेगा बाजी?

बेगूसराय सीट पर बीजेपी से पार्टी के राष्ट्रीय मंत्री रजनीश और कद्दावर नेता तथा केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के नाम की चर्चा है.

News18 Bihar
Updated: March 15, 2019, 2:02 PM IST
ANALYSIS: 'बैटल ऑफ बेगूसराय', इस हाई प्रोफाइल सीट पर आखिर कौन मारेगा बाजी?
गिरिराज सिंह
News18 Bihar
Updated: March 15, 2019, 2:02 PM IST
दीपक प्रियदर्शी आम चुनाव के मद्देनज़र बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र में भी उम्मीदवारों को लेकर खींचतान जारी है. इस सीट से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) ने जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को अपना उम्मीदवार घोषित किया है. वहींं, एनडीए में अभी उम्मीदवार को लेकर सर फुटौवल जारी है. दूसरी तरफ, महागठबंधन में भी कन्हैया कुमार के नाम पर अभी तक स्वीकृति नहीं आने से चुनावी रणनीतिकारों के द्वारा भी कोई उचित आंकलन नहीं हो पा रहा है. बेगूसराय के वर्तमान सांसद भोला सिंह की मौत के बाद भोला सिंह की जगह पर किसको उम्मीदवार बनाया जाए यह भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के लिए टेढ़ी खीर बनी हुई है.

बेगूसराय सीट पर बीजेपी से पार्टी के राष्ट्रीय मंत्री रजनीश और कद्दावर नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के नाम की चर्चा है. हालांकि, आधिकारिक रूप से अभी किसी के नाम की पुष्टि नहीं की गई है. संभावना यह है कि रजनीश की उम्मीदवारी घोषित होने के साथ ही बीजेपी दो फाड़ में बंट जाएगी. अगर गिरिराज सिंह की बेगूसराय में संभावनाओं को देखें तो गिरिराज का कर्म क्षेत्र बेगूसराय रहा है. बेगूसराय में उनके बुआ का घर होने की वजह से उनका बचपन भी बेगूसराय में बीता है. वहीं, एनडीए के अंदर खाने से जमशेद अशरफ के नाम की भी चर्चाएं जोरों पर हैं. महागठबंधन में आरजेडी से तनवीर हसन के नाम की भी चर्चा आम है.

अगर मतदाताओं की बात करें तो बेगूसराय में कुल 19 लाख 53 हजार 7 मतदाता है जिसमें पुरुष मतदाता 1038983 महिला मतदाता 9 लाख तेरह हजार 962 और थर्ड जेंडर के 62 मतदाता हैं. अब अगर संभावित जातिगत मतदाताओं की बात करें तो भूमिहार मतदाता की संख्या यहां 380000 तो मुसलमानों की संख्या 284000, यादव 225000, कुर्मी 140000, कुशवाहा 125000, राजपूत मतदाताओं की संख्या 75 हजार, कायस्थ 50000, ब्राह्मण 80000, पासवान मतदाताओं की संख्या 150000, निषाद 7000, मुसहर जाति से 7000 और अन्य मतदाता भी एक लाख के आसपास हैं. गिरिराज सिंह और कन्हैया कुमार की उम्मीदवारी के बाद भूमिहार मतदाताओं के मत में बंटवारा संभावित है. अगर महागठबंधन से कन्हैया का रास्ता साफ हो जाता है तो संभव है एनडीए जमशेद अशरफ के उम्मीदवारी पर भी विचार कर सकती है. फिलहाल अभी आधिकारिक रूप से किसी भी दल ने कोई घोषणा नहीं की है, इसलिए आम लोगों एवं मतदाताओं के बीच भी संशय की स्थिति बनी हुई है. ये भी पढ़ें- 
Loading...

कीर्ति आजाद का दरभंगा से 'पत्ता साफ'! मुकेश सहनी का दावा- दिल्ली या झारखंड से लड़ेंगे चुनाव JP के 'शत्रु' का पत्ता कटना तय, पटना साहिब सीट से ये लड़ेंगे लोकसभा चुनाव ! फॉर्मूले की 'फांस' में महागठबंधन, जानिए किन सीटों को लेकर अटकी है बात 'मांझी के लिए NDA में जगह नहीं, 'वेटिंग लाउंज' नहीं है JDU' एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...