Bihar Chunav: जेल में ‘भूख-हड़ताल’ पर बाहुबली, चुनाव से पहले सहरसा से भागलपुर भेजे जाने से नाराज

पूर्व सांसद आनंद मोहन (फाइल फोटो)
पूर्व सांसद आनंद मोहन (फाइल फोटो)

Bihar Chunav 2020: आईएएस जी कृष्णैय्या हत्याकांड (G. Krishnaiah murder case) मामले में जेल में बंद आनंद मोहन की पत्नी पूर्व सांसद लवली आनंद (Lovely Anand) को राजद (RJD) ने इस बार सहरसा से उम्मीदवार बनाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2020, 7:13 AM IST
  • Share this:
भागलपुर. बिहार विधानसभा चुनाव में गड़बड़ी की आशंका के मद्देनजर सहरसा जेल में बंद पूर्व सांसद आनंद मोहन (Former MP Anand Mohan) को भागलपुर के विशेष केंद्रीय कारा में भेजा गया था. अब इस बात को लेकर पूर्व सांसद नाराज बताए जा रहे हैं. यह भी खबर आ रही है कि उन्होंने जेल में भूख हड़ताल यानी अन्न का त्याग कर दिया है. सहरसा जेल से भागलपुर जेल (Bhagalpur Jail) लाए जाने से नाराज आनंद मोहन ने जेल आईजी को पत्र लिख कर कहा है कि उसे राजनीतिक द्वेष के कारण उन्हें यहां भेजा गया है. पूर्व सांसद ने सरकार पर भी गंभीर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा है कि जबतक उन्हें वापस सहरसा नहीं भेजा जाता, तब तक वे अन्न ग्रहण नहीं करेंगे. वे सिर्फ नींबू-पानी ले रहे हैं.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जेल प्रशासन ने जेल आईजी और भागलपुर डीएम को आनंद मोहन के अन्न छोड़ने की जानकारी दी है. बता दें कि मुजफ्परपुर के तत्कालीन जिलाधिकारी आईएएस जी कृष्णैय्या हत्याकांड मामले में जेल में बंद आनंद मोहन की पत्नी पूर्व सांसद लवली आनंद (Lovely Anand) को राजद ने इस बार सहरसा से उम्मीदवार बनाया है. ऐसे में सहरसा जेल में रहते हुए आनंद मोहन द्वारा चुनाव में गड़बड़ी फैलाने की आशंका को देखते हुए उन्हें 21 अक्टूबर की सुबह भागलपुर स्थित विशेष केंद्रीय कारा लाया गया था. यहां उन्हें सबसे सुरक्षित तीसरे खंड में रखा गया है.

पूर्व सांसद आनंद मोहन को चुनाव को देखते हुए प्रशासनिक दृष्टिकोण से जेल आईजी के आदेश पर सहरसा जेल से भागलपुर जेल शिफ्ट किया गया था. भागलपुर जेल लाये जाने के बाद आनंद मोहन ने शारीरिक परेशानी और बीमारी की भी बात कही है. कमर में दर्द की शिकायत भी वे कर चुके हैं. जेल अस्पताल के डॉक्टर उनपर नजर रख रहे हैं.



विशेष केंद्रीय कारा लाए जाने के बाद से ही आनंद मोहन ने अन्न ग्रहण नहीं किया है. वे सिर्फ नींबू, पानी और चीनी ले रहे हैं. उन्होंने जेल आईजी को पत्र लिखकर सहरसा से भागलपुर लाये जाने को लेकर नाराजगी जताई है. उनके द्वारा अन्न ग्रहण नहीं करने की जानकारी जेल आईजी और डीएम को दे दी गयी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज