अपना शहर चुनें

States

इलाज के दौरान बच्चे की मौत, अस्पताल प्रबंधन ने पांच हजार के लिए शव को देने से रोका

पीड़ित मां
पीड़ित मां

बांका के अमरपुर निवासी पांच वर्षीय आयुष कुमार इंसेफ्लाइटिस (चमकी बुखार) से पीड़ित था. उसे औद्योगिक थाना क्षेत्र के जेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 10, 2019, 11:50 AM IST
  • Share this:
भागलपुर. बिहार ( Bihar) के भागलपुर (Bhagalpur) जिले में मानवता को शर्मसार करने वाली एक खबर सामने आई है, जहां अस्पताल प्रबंधन ने एक बच्चे के शव को रुपए न चुकाने के एवज में परिजनों को देने से इनकार कर दिया. खास बात यह है कि महज पांच हजार रुपए (only rupees) के लिए अस्पताल प्रबंधन (Hospital management) ने बच्चे के शव (Dead body) को देने से इनकार किया है. अब इस घटना से पूरे जिले में सनसनी फैल गई है. लोग अस्पताल प्रबंधन के व्यवहार की निंदा कर रहे हैं.

बांका के अमरपुर निवासी पांच वर्षीय आयुष कुमार इंसेफ्लाइटिस से पीड़ित था
जानकारी के मुताबिक, बांका के अमरपुर निवासी पांच वर्षीय आयुष कुमार इंसेफ्लाइटिस (चमकी बुखार) से पीड़ित था. उसे औद्योगिक थाना क्षेत्र के जेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया. इसके बाद अस्पताल प्रबंधन ने तत्काल परिजनों को 25 हजार रुपए जमा करने के लिए कहा. परिजनों ने बीस हजार रुपए जमा कर दिए, लेकिन इलाज के दौरान बच्चे की मौत हो गई.

अस्पताल प्रबंधन ने पांच हजार रुपए की मांग की
बच्चे की मौत के बाद परिजन जब शव लेने लगे तो अस्पताल प्रबंधन ने पांच हजार रुपए की मांग की. अस्पताल प्रबंधन ने कहा कि पांच हजार रुपए देने के बाद ही शव दिया जाएगा. जब न्यूज18 की टीम को मामले की जानकारी हुई तो वह मौके पर पहुंच गई. इसके बाद न्यूज18 की पहल पर बच्चे के शव को परिजनों को वापस दिया गया. वहीं, अस्पताल प्रबंधन मामले को लेकर तरह-तरह के बहाना बनाने लगा.



रिपोर्ट- आशीष

ये भी पढ़ें- 

दोबारा सक्रिय राजनीति में आए कल्याण सिंह, कहा- अब चुनाव नहीं लडूंगा

भदोही में क्लास 3 की छात्रा ने टॉयलेट में खुद को लगाई आग, वाराणसी रेफर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज