होम /न्यूज /बिहार /भागलपुर के इस मंदिर में गंगा-जमुनी तहजीब है कायम, अल्पसंख्यक समुदाय के लोग करते हैं शहनाई वादन

भागलपुर के इस मंदिर में गंगा-जमुनी तहजीब है कायम, अल्पसंख्यक समुदाय के लोग करते हैं शहनाई वादन

बिहार के भागलपुर जिले में शारदीय नवरात्र को लेकर माहौल भक्तिमय बना हुआ है. सभी मां दुर्गा की आराधना में लीन हैं. इन्हीं ...अधिक पढ़ें

    शिवम सिंह/भागलपुर. बिहार के भागलपुर शहर के बुढ़ानाथ मंदिर में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग नवरात्र के दौरान शहनाई वादन करते आ रहे हैं. जो शहनाई वादकों का मां दुर्गा के प्रति निश्चल प्रेम को भी दर्शाता है. दरअसल, इस परंपरा की शुरुआत 1981 में प्रसिद्ध शहनाई वादक इलिल्लाह खान और उनके परिवार के सदस्यों ने की थी जो आज भी कायम है.

    प्रसिद्ध शहनाई वादक इलिल्लाह खान ने इस परंपरा का आगाज किया था और इसे उनके परिवार के सदस्य अंजाम दे रहे हैं.भागलपुरके प्रसिद्ध बुढ़ानाथ मंदिर में शारदीय नवरात्र में मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए 10 दिन तक मंदिर प्रांगण में हीं रहकर शहनाई वादन का कार्य करते हैं. प्रतिदिन दुर्गा पूजा के दौरान मंदिर प्रांगण में सुबह 5 से 7 बजे तक और शाम को 5 बजे से 7 बजे तक शहनाई वादन करते हैं. आस-पास के लोग दुर्गा पूजा के समय इन्हीं के शहनाई वादन से जागते हैं. वहीं शहनाई वादक भी शहनाई के द्वारा पूरिया, यमन, भैरव और दुर्गा राग का वादन कर मां की आराधना करते हैं.

    भाई के इंतकाल के बाद भी परंपरा को रखा है जिंदा
    शहनाई वादक इलिल्लाह खान के छोटे भाई ने बताया की उनके बड़े भाई ने कई वर्षों तक यहाँ शहनाई वादन कर चुके हैं. 2017 में उनके इंतकाल के बाद भी परंपरा को जिन्दा रखा है. भाई के इंतकाल के बाद नजाकत हुसैन अपने बहनोई साजिद हुसैन, बड़े भाई जमीर हुसैन और भतीजा आजम हुसैन के साथ लगातार दुर्गा पूजा में शहनाई वादनकरते आ रहे हैं.नजाकत हुसैन ने बताया कि बनारस से आकर भागलपुर में हीं बस गए हैं और उनके बहनोई और भाई बनारस से आकर दुर्गा पूजा के दौरान शहनाई वादन करते हैं.

    मां के प्रति आस्था के चलते करते हैं शहनाई वादन
    शहनाई वादक नजाकत हुसैन ने बताया की मां के प्रति आस्था इतनी अडिग है की दुर्गा पूजा के दौरान बूढ़ानाथ मंदिर खीचें चले आते हैं. मंदिर में 10 दिन तक शहनाई वादन के बाद जो भी राशि मिलता है उसे मां का प्रसाद समझ ग्रहण कर लेते हैं. मां के प्रति उनकी आस्था आज भी कायम है. शहनाई वादन का सिलसिला जो उनके बड़े भाई ने शुरू किया था, यह आगे भी चलता रहेगा.

    Tags: Bhagalpur news, Bihar News

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें