अपना शहर चुनें

States

पांच हजार के लिए अस्पताल ने बच्चे का शव देने से किया इनकार

भागलपुर स्थित जेपी अस्पताल
भागलपुर स्थित जेपी अस्पताल

न्यूज18 की टीम को जब मामले की जानकारी हुई तो मौके पर पहुंच कर पहल करते हुए बच्चे के शव को परिजनों को वापस दिलाया.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 10, 2019, 9:50 PM IST
  • Share this:
भागलपुर. धरती का भगवान कहे जाने वाले डॉक्टर के अमानवीय संवेदना का एक मामला भागलपुर (Bhagalpur) में सामने आया है. जहां औद्योगिक प्रक्षेत्र थाना क्षेत्र के जेपी अस्पताल में महज पांच हजार रुपए के लिए इलाजरत पांच साल के बच्चे के शव को अस्पताल प्रबंधन ने रोक लिया.

दरअसल बांका के अमरपुर के पांच साल के बालक आयुष कुमार को संदिग्ध इंसेफेलाइटिस (चमकी बुखार) को लेकर अस्पताल में भर्ती कराया गया था और अस्पताल प्रबंधन ने तत्काल परिजनों को अस्पताल में 25 हजार रुपए जमा करने का निर्देश दिया था. परिजनों ने बीस हजार रुपए जमा भी कराए लेकिन इलाज के क्रम में ही बच्चे की मौत हो गई. बच्चे की मौत के बाद परिजन जब शव लेने लगे तो अस्पताल प्रबंधन ने पांच हजार रुपए के लिए बच्चे के शव को देने से साफ मना कर दिया.

न्यूज18 की पहल के बाद परिजनों को मिला शव
न्यूज18 की टीम को जब मामले की जानकारी हुई तो मौके पर पहुंच कर पहल करते हुए बच्चे के शव को परिजनों को वापस दिलाया. मामले को लेकर मृतक की मां लक्ष्मी देवी ने बताया कि बीते शाम में अमरपुर रेफरल अस्पताल से रेफर किए जाने के बाद बच्चे को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उसी समय अस्पताल प्रबंधन ने 25 हजार रुपए जमा करने को कहा जिस पर परिवार वालों ने तत्काल बीस हजार रुपए जमा कर दिए. लेकिन इसी क्रम में इलाज के दौरान बच्चे की मौत रात को ही हो गई. बच्चे की मौत के बाद अस्पताल प्रबंधन बराबर पांच हजार रुपए को लेकर तंग करने लगा. सुबह में जब बच्चे के शव लेने की कोशिश की तो अस्पताल प्रबंधन शव को ले जाने से रोक दिया.
मृतक के पिता मनोज कुमार सिंह ने न्यूज18 के सामाजिक संवेदना और पहलू पर आभार व्यक्त किया और गरीबी की बात करते हुए पास में पैसे नहीं होने की बात कही. वहीं, अस्पताल के मैनेजर दीपक कुमार ने पैसे को लेकर शव रोके जाने से इनकार करते हुए कई तरह के बहाने बनाने लगे.



(रिपोर्ट- राहुल कुमार ठाकुर)

ये भी पढ़ें-

CM नीतीश के काफिले में टूटते हैं ट्रैफिक नियम, परिवहन मंत्री नहीं मानते कानून

JDU बोली- किसी के रहमोकरम से CM नहीं हैं नीतीश कुमार, कांग्रेस की चुनौती
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज