• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • पीएम मोदी की रैली पर 'कुर्बान' हुए 2000 से ज्‍यादा पौधे

पीएम मोदी की रैली पर 'कुर्बान' हुए 2000 से ज्‍यादा पौधे

बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत तय करने में जुटे अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगली रैली मधेपुरा में एक नवंबर को होनी है. प्रधानमंत्री यहीं से विधानसभा चुनाव के पांचवें और अंतिम चरण के प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे.

बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत तय करने में जुटे अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगली रैली मधेपुरा में एक नवंबर को होनी है. प्रधानमंत्री यहीं से विधानसभा चुनाव के पांचवें और अंतिम चरण के प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे.

बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत तय करने में जुटे अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगली रैली मधेपुरा में एक नवंबर को होनी है. प्रधानमंत्री यहीं से विधानसभा चुनाव के पांचवें और अंतिम चरण के प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे.

  • Share this:
बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत तय करने में जुटे अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगली रैली मधेपुरा में एक नवंबर को होनी है. प्रधानमंत्री यहीं से विधानसभा चुनाव के पांचवें और अंतिम चरण के प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे.

एम की संभावित रैली के लिए सिंहेश्वर के जजहट-सवैला स्थित बी.एन. मंडल विश्वविद्यालय के नए परिसर का चयन किया गया, जहां पीएम की रैली की तैयारी जोर-शोर से चल रही है.

हजारों पौधों को काटा गया
परिसर के साफ-सफाई के नाम पर यहां हाल ही में लगाए गए हजारों पौधों को काटा जा रहा है. वृक्षों की इस कटाई पर भाजपा जिला अध्यक्ष अनिल यादव भी मानते हैं कि पर्यावरण को तो नुकसान होगा. हालांकि, वे बड़े आराम से कहते हैं कि रैली के बाद वे फिर नया पौधा लगा देंगे.



भाजपा जिला अध्यक्ष भले ही नए पौधे लगाने की बात कर रहे हों, लेकिन कुछ वर्ष पहले ही इस परिसर में वन विभाग ने 2000 कीमती पौधे लगाए थे. साथ ही सैकड़ों बड़े वृक्ष भी हैं, जिसे काटा गया है.

प्रशासन ने भी दी मंजूरी
अब सवाल उठता है कि क्या चुनाव प्रचार के दौरान मधेपुरा में पीएम की रैली को सफल बनाने के लिए हजारों वृक्ष की बलि पर किसी की नजर नहीं पड़ी?

भाजपा नेता बताते हैं कि उन्हें विश्वविद्यालय और जिला प्रशासन दोनों से आदेश मिल चुका है. जब इस संबंध में अधिकारियों से बात करना चाहा तो जिला पदाधिकारी कैमरे पर कुछ भी बोलने से बचते दिखे.

विश्वविद्यालय के प्रभारी कुल सचिव प्रो. बी.एन. विवेका बताते हैं कि उन्‍होंने पेड़-पौधे की कटाई का आदेश नहीं दिया. सिर्फ बड़े वृक्ष को छांटा जाना था.

वन विभाग की मेहनत पर पानी फिरा
इधर, प्रधानमंत्री की रैली की तैयारी में भाजपा कार्यकर्ता जोर-शोर से लगे हैं, लेकिन इस रैली के कारण वन विभाग के दो साल पहले किए गए मेहनत पर पानी फिर गया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज