• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • दंतेवाड़ा में नक्सलियों का मुकाबला करते शहीद हुआ बिहार का एक और वीर सपूत

दंतेवाड़ा में नक्सलियों का मुकाबला करते शहीद हुआ बिहार का एक और वीर सपूत

छत्तीसगढ़ में हुए नक्सली मुठभेड़ में कैमूर का एक जवान शहीद हो गया. शहीद जवान उदय कैमूर जिले के मोहनियां थाना क्षेत्र के देवकली गांव का निवासी था. वो नागपुर के 206 वीं कोबरा बटालियन में तीन महीने पहले ही छत्तीसगढ़ गया था. 16 सितंबर को छत्तीसगढ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों के साथ हुए मुठभेड़ में जवान को गोली लगी थी. गंभीर हालत में उसे छत्तीसगढ के ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां इलाज के दौरान मौत हो गयी.

छत्तीसगढ़ में हुए नक्सली मुठभेड़ में कैमूर का एक जवान शहीद हो गया. शहीद जवान उदय कैमूर जिले के मोहनियां थाना क्षेत्र के देवकली गांव का निवासी था. वो नागपुर के 206 वीं कोबरा बटालियन में तीन महीने पहले ही छत्तीसगढ़ गया था. 16 सितंबर को छत्तीसगढ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों के साथ हुए मुठभेड़ में जवान को गोली लगी थी. गंभीर हालत में उसे छत्तीसगढ के ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां इलाज के दौरान मौत हो गयी.

छत्तीसगढ़ में हुए नक्सली मुठभेड़ में कैमूर का एक जवान शहीद हो गया. शहीद जवान उदय कैमूर जिले के मोहनियां थाना क्षेत्र के देवकली गांव का निवासी था. वो नागपुर के 206 वीं कोबरा बटालियन में तीन महीने पहले ही छत्तीसगढ़ गया था. 16 सितंबर को छत्तीसगढ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों के साथ हुए मुठभेड़ में जवान को गोली लगी थी. गंभीर हालत में उसे छत्तीसगढ के ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां इलाज के दौरान मौत हो गयी.

  • Share this:
उरी की आतंकी घटना में शहीद हुए राकेश के गम से अभी कैमूर के लोग उबरे भी नहीं थे कि बुधवार को ही एक और लाल के शहीद होने की खबर पहुंची.

छत्तीसगढ़ में हुए नक्सली मुठभेड़ में कैमूर का एक जवान शहीद हो गया. शहीद जवान उदय कैमूर जिले के मोहनियां थाना क्षेत्र के देवकली गांव का निवासी था. वो नागपुर के 206 वीं कोबरा बटालियन में तीन महीने पहले ही छत्तीसगढ़ गया था.

16 सितंबर को छत्तीसगढ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों के साथ हुए मुठभेड़ में जवान को गोली लगी थी. गंभीर हालत में उसे छत्तीसगढ के ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां इलाज के दौरान मौत हो गयी.

शहीद के शव को देर रात उनके गांव देवकली लाया गया जहां पर सीआरपीएफ के डीआईजी, सीआरपीएफ कोबरा के डीआईजी और कैमूर एसपी ने शहीद को सलामी दे कर अन्तिम विदाई दी. उदय कुमार सीआरपीएफ में 1994 में भर्ती हुए थे. पिता के शहादत पर शहीद के आठ साल के बेटे ने कहा कि मैं भी पिता की तरह बड़ा हो कर फौज में जाउंगा और पिता के हत्यारे को जिन्दा नहीं छोडूंगा.

शहीद के परिजनों ने सरकार से मदद की गुहार लगायी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज