4 घंटे बगैर डॉक्टर रहा आरा सदर अस्पताल का इमरजेंसी वार्ड, MLA के फोन पर खुली DM की नींद

आरा सदर अस्पताल का खाली पड़ा वार्ड

आरा सदर अस्पताल का खाली पड़ा वार्ड

बिहार के भोजपुर जिला सहित आरा में रोजाना 100 से अधिक कोरोना के मरीज मिल रहे हैं ऐसे में डॉक्टरों की लापरवाही से मरीजों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 21, 2021, 12:28 PM IST
  • Share this:
आरा. बिहार में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच सरकार ने अलर्ट जारी कर दिया है और बिहार के सभी अस्पतालों को तैयार रहने को कहा है लेकिन आईएसओ से मान्यता प्राप्त भोजपुर के सदर अस्पताल में रात्रि में डॉक्टर नदारद दिखे. सदर अस्पताल के इमरजेंसी में रात्रि ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर अपनी ड्यूटी पर नहीं पहुंचे. इस दौरान मंगलवार को रात 10 बजे के बाद सदर अस्पताल में आने वाले मरीजों को नहीं कोई देखने वाला था और पूछने वाला कोई नहीं था. अस्पताल में नर्सिंग स्टाफ के अलावा ऑन ड्यूटी डॉक्टर मौजूद नहीं थे.

लोगों ने बताया कि आज रात 10 बजे से डॉ आर.के. मंडल की ड्यूटी थी लेकिन वो कोविड संक्रमित हो गए हैं इसलिए आज ड्यूटी पर नहीं पहुंचे. डॉक्टर के करोना संक्रमित और अस्पताल में न होने की खबर से बेखबर सदर अस्पताल प्रशासन कान में तेल डालकर सोए हुए था. जब आधी रात को अगिआंव विधायक मनोज मंजिल किसी मरीज के फोन करने पर सदर अस्पताल पहुंचे तो वह भी डॉक्टर को अनुपस्थित पाकर हैरान हो गए, और जिलाधिकारी को फोन कर पूरे मामले की जानकारी दी. इसके बाद रात के 2 बजे के बाद सदर अस्पताल में आरा PHC से डॉक्टर पहुंचे उसके बाद अस्पताल में कुछ लोगों का इलाज शुरू हो सका.

डॉक्टर के नहीं रहने से मरीज के परिजनों में हाहाकार मचा हुआ था जिसके बाद आक्रोशित परिजनों ने सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में घंटों जमकर बवाल काटा क्योंकि जिले के सभी प्रसिद्ध डॉ अपने-अपने क्लीनिक बंद कर चुके हैं. लगभग 28 लाख से ज्यादा आबादी वाले भोजपुर जिले के लोग सिर्फ सदर अस्पताल के भरोसे जी रहे है, ऐसे में सदर अस्पताल की ऐसी व्यवस्था से लोग अब सहम चुके हैं. परिजनों का कहना की हमलोगों को देखने वाला कोई नही है.

इस घटना के बाद बुधवार की सुबह पीपीओटी में चल रहे ओपीडी में भी पांच नंबर एवं दो नंबर के चिकित्सक नदारद दिखे जिसको लेकर सर्जरी विभाग एवं हड्डी विभाग के मरीजों की लंबी कतारें लगी रही और संबंधित बीमारियों से जुड़े मरीजों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. इस मामले में प्रभारी अधीक्षक डॉ.प्रवीण कुमार सिन्हा ने बताया कि भोजपुर जिलाधिकारी द्वारा हमें डॉ.आर.के.मंडल पर शोकॉज लेटर भेजने का आदेश मिल गया है. आज हमलोग डॉ.आर.के.मंडल को शो कॉज लेटर भेजा जाएगा और उनसे स्पष्टीकरण मांगा जाएगा कि उन्होंने लिखित या मौखिक तरीके से अस्पताल के अधिकारियों को सूचना क्यों नहीं दी.
उन्होंने यह भी बताया कि वह सदर अस्पताल के सभी चिकित्सकों के साथ वो बैठक करेंगे और सभी को सख्त हिदायत देंगे की इमरजेंसी के चिकित्सक अपने ड्यूटी पर समय अनुसार उपस्थित रहेंगे. यदि किसी को कोई परेशानी होती है तो वह लिखित या मौखिक रूप से तुरंत सूचना देंगे. सूचना नहीं देने पर उन पर भी कार्रवाई की जाएगी. आपको बता दें कि भोजपुर के जिलाधिकारी रौशन कुशवाहा ने दो दिन पहले ही सदर अस्पताल का दौरा किया था, इस दौरन उन्होंने जिले में कोविड-19 से संक्रमित मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी को देखते हुए अस्पताल के पदाधिकारियो को निर्देश दिया था कि,संक्रमित व्यक्तियों के लिए सदर अस्पताल आरा में स्थापित डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर के sop के अनुसार सभी व्यवस्था सुनिश्चित करें.

रिपोर्ट- अभिनय प्रकाश
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज