Assembly Banner 2021

लालू के दोनों लाल अर्से बाद एक साथ उड़न खटोले में, तेजप्रताप बोले...

बिहार में लोकसभा चुनाव के सातवें चरण से ठीक पहले लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटे चुनावी मंच पर एक साथ दिखे. कुछ दिन पहले तक आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के दोनों लाल में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा था.

  • Share this:
बिहार में लोकसभा चुनाव के सातवें चरण से ठीक पहले लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटे चुनावी मंच पर एक साथ दिखे. कुछ दिन पहले तक आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के दोनों लाल में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा था, लेकिन रविवार को लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटे न केवल हेलिकॉप्टर में साथ दिखे बल्कि एक साथ तीन सभाएं भी कीं.

बिहार में लोकसभा चुनाव प्रचार की यह आज तक की सबसे बड़ी खबर है. काफी लंबे समय के बाद लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव और छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने एक साथ चुनाव प्रचार किया. बीते रविवार को दोनों भाइयों की जोड़ी ने भोजपुर, नालंदा और पाटलिपुत्र में एक साथ चुनाव प्रचार किया. मंच से तेजप्रताप ने सारे गिले शिकवे भुलाते हुए दोनों भाईयों को कृष्ण और अर्जुन का रूप बताया. इस दौरान जब जनता के बीच से करण-अर्जुन की आवाज आई तो उस आवाज को नकारते हुए तेजप्रताप ने कहा हम दोनों भाई करण-अर्जुन नहीं हैं बल्कि हम दोनों भाई कृष्ण और अर्जुन हैं क्योंकि हम कृष्ण भगवान के वंशज हैं और हमारा हीरो सिर्फ तेजस्वी यादव है.

'करण-अर्जुन नहीं कृष्ण-अर्जुन कहो'



तेजप्रताप यादव ने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि पलटू चाचा ने रातों रात चोर दरवाजे से घुसकर लालू एंड फैमिली को बदनाम किया है. तेजस्वी यादव ने राजू यादव के पक्ष में वोट मांगते हुए आम जनता से कहा कि हमारे बड़े भाई तेज प्रताप यादव आप लोगों के बीच आरा में तीन तारा के लिए वोट मांगने आएं है.
फाइल फोटो लालू प्रसाद यादव


बता दें कि कुछ दिन पहले ही तेजप्रताप यादव पटना हवाई अड्डे से वापस चले आए थे. दोनों भाई को बहन मीसा भारती के प्रचार में एक साथ जाना था, लेकिन तेजस्वी यादव के हेलिकॉप्टर में जगह नहीं मिलने के कारण वह हवाई अड्डे से बेरंग लौट आए थे.

बता दें कि लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान इससे पहले दो बार दोनों भाइयों का एक साथ चुनाव प्रचार का कार्यक्रम बना, लेकिन वे साथ नहीं जा सके. दोनो भाई बहन मीसा भारती के चुनाव प्रचार के दौरान एक मंच पर जरूर दिखे थे, लेकिन एक साथ प्रचार पर निकलने का यह पहला मौका है.

पिछले काफी लंबे समय से तेजप्रताप यादव अपनी पार्टी और परिवार से नाराज चल रहे हैं. बिहार में महागठबंधन के सीट शेयरिंग को लेकर भी तेजप्रताव यादव ने अलग रास्ता आख्तियार किया था. बिहार में शिवहर और जहानाबाद में तो तेजप्रताव यादव अपनी पसंद के उम्मीदवार के लिए वोट भी मांग चुके हैं. तेजप्रताप यादव ने पार्टी से अलग हट कर 'लालू-राबड़ी मोर्चा' बनाकर दो जगहों से अपने प्रत्याशी भी उतारे हैं. शिवहर लोकसभा के प्रत्याशी का नामांकन रद्द हो गया है वहीं जहानाबाद में तेजप्रताप यादव का उम्मीदवार अभी भी मैदान में डटा हुआ है.

बिहार में दोनों भाईयों के एक साथ आने पर हर जगह चर्चा शुरू हो गई है. लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण का मतदान 19 मई को है ऐसे में जानकारों का मानना है कि अब चुनाव नतीजों पर दोनों भाईयों के साथ आने से भी अब कोई फर्क नहीं आएगा.

ये भी देखें - PHOTOS : केदारनाथ में बाबा के दर्शन के लिए लागू टोकन व्यवस्था को सराह रहे श्रद्धालु

ये भी देखें - PHOTOS : बर्फबारी के बाद केदारनाथ की राह हुई कठिन, श्रद्धालु चल रहे संभल-संभल

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज