होम /न्यूज /बिहार /जब एक ही शामियाने से निकली 11 दुल्हनों की डोली, जानें क्या है पूरा मामला

जब एक ही शामियाने से निकली 11 दुल्हनों की डोली, जानें क्या है पूरा मामला

Bhojpur News: सामाजिक संस्था की ओर से भोजपुर जिले के पीरो में सामूहिक रूप से गरीब परिवार की 11 बेटियों का बिना दहेज के ...अधिक पढ़ें

  • Local18
  • Last Updated :

    रिपोर्ट-आलोक कुमार भारती

    भोजपुर. एक ही शामियाने के अंदर बने बड़े मंच पर खड़े 11 जोड़े वर-वधू अपने-अपने हाथ में लिए माला एक-दूसरे के गले में पहना रहे थे. पुरोहितों के मंत्रोच्चार के बीच लाउडस्पीकर से मंगल गान बज रहे थे, तो बाराती और घराती के रूप में सामने की 1000 से अधिक कुर्सियों पर लोग बैठे हुए थे. यह किसी फिल्म की शूटिंग का सीन नहीं, बल्कि एक साथ 11 जोड़े वर-वधू के विवाह समारोह का दृश्य था. मौका था श्रीराम-जानकी विवाहोत्सव का.

    सामूहिक विवाह देखने को जुटी लोगों की भीड़

    दरअसल, परमेश्वरी वेलफेयर एण्ड फाउंडेशन ट्रस्टनाम की सामाजिक संस्था की ओर सेभोजपुर जिले केपीरो में सामूहिक रूप से निर्धन परिवार की 11 बेटियों का बिना दहेज के विवाह कराया गया. इसके लिए बजाप्ता आयोजन स्थल पर वर और वधू पक्ष के लिए अलग-अलग 15 ×30 फीट साइज के कपड़ा का कमरा बनाया गया था. लोगों के बैठने के लिए मुख्य पंडाल में 1000 से अधिक कुर्सी लगाए गए थे. इस सामूहिक विवाह को देखने के लिए आसपास से सैकड़ों लोग भी लोग भी जमा हुए थे. जयमाल, विवाह, ठहरने, महिला और पुरुष के भोजन सहित अन्य कार्यों के लिए अलग-अलग पंडाल बनाया गया था. जबकि निगरानी के लिए 10 स्थानों पर सीसीटीवी कैमरा भी लगाया गया था.

    11 जोड़ी निर्धन बेटियों का कराया विवाह

    बताया गया कि भोजपुर जिले में सामूहिक रूप से11 जोड़ी निर्धन बेटियों के विवाह समारोह का आयोजन पहली बार हुआ है. 11 ब्राह्मणों के द्वारा किए गए वैदिक मंत्रोच्चार के साथ सनातनी विधि से सामूहिक विवाहोत्सव सम्पन्न हुआ. दहेज और बाल विवाह रहित सामूहिक विवाहोत्सव के इस पल के साक्षी वर-वधु के परिवार सहित आसपास के लोग भी बने.

    जनप्रतिनिधियों से आगे आने की हुई अपील
    सामाजिक संस्था परमेश्वरी वेलफेयर एंड फाउंडेशन ट्रस्ट के संस्थापक राजू पाठक ने कहा कि हम लोगों ने आज 11 जोड़ी वर-वधू को परिणय सूत्र में बांधने का काम किया है. ये सभी बच्चियां निर्धन परिवार की थीं. इनका विवाह अच्छे से करवाना हमलोगों का कर्तव्य था. उन्होंने कहा कि जिले में 220 पंचायत है, अगर सभी पंचायत के जनप्रतिनिधि सहयोग करें तो 220 निर्धन बेटियों का धूमधाम से विवाह किया जा सकता है.

    Tags: Bhojpur news, Bihar News

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें