शहीद सब-इंस्पेक्टर के पिता ने पूछा ट्रांसफर के बावजूद मेरे बेटे को क्यों भेजा गया छपरा ?

News18 Bihar
Updated: August 21, 2019, 3:51 PM IST
शहीद सब-इंस्पेक्टर के पिता ने पूछा ट्रांसफर के बावजूद मेरे बेटे को क्यों भेजा गया छपरा ?
छपरा मे शहीद हुए सब-इंस्पेक्टर मिथिलेश कुमार के रोते-बिलखते परिजन

शहीद सब-इंस्पेक्टर के पिता दशरथ साह भी आरपीएफ में सब इंस्पेक्टर से रिटायर्ड हैं. मिथिलेश साह ने 2009 में आरपीएफ दारोगा की नौकरी से रिजाइन करने के बाद बिहार पुलिस ज्वाइन किया था.

  • Share this:
बिहार के छपरा (Chapra) में अपराधियों से मुठभेड़ (Encounter) में शहीद दारोगा मिथलेश साह (SI Mithilesh Shah) के परिजनों ने पूरे पुलिस महकमे पर संगीन आरोप लगाते हुए कई सवाल खड़े किए हैं. बुधवार को शहीद का पार्थिव शरीर जैसे ही आरा (Ara) स्थित उनके घर पहुंचा माहौल गमगीन हो गया और चारो तरफ चीख पुकार मच गई. शहीद के पिता और आरपीएफ (RPF) के रिटायर्ड सब-इंस्पेक्टर ने डिपार्टमेंट के अधिकारियों (Police Officers) पर अपने बेटे की साजिशन हत्या (Murder) करवाने का आरोप लगाया है. शहीद के परिजन बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (DGP Gupteshwar Pandey) पर भी भड़के हुए हैं. उनके द्वारा बार-बार घटना की जांच सीबीआई (CBI Inquiry) से करने की मांग की जा रही है.

ट्रांसफर के बाद भी क्यों नहीं भेजा ?

मिथिलेश के पिता का कहना है कि जब शहीद मिथलेश साह की पोस्टिंग मोतिहारी जिले में कर दी गई थी तो आखिरकार वरीय अधिकारियों द्वारा मिथिलेश को एसआईटी में ही क्यों रखा गया था ? शहीद की बहन ने बताया कि भईया से मेरी कुछ दिनों पहले बात हुई थी जहां उन्होंने बहन से बताया था कि अपराधी उनको टारगेट पर लिए हुए हैं और उन्हें बार-बार धमकी भी दी जा रही थी.

शव पहुंचते ही रो पड़े लोग

शहादत की इस इबादत को लिखने वाले बिहार पुलिस के जांबाज सब-इंस्पेक्टर मिथलेश साह मूल रूप से भोजपुर जिले के मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के नागोपुर पिरौटा गांव के रहने वाले थे. शहीद के पार्थिव शरीर का अंतिम दर्शन करने और श्रद्धांजलि देने के लिए लोगों का जन सैलाब उमड़ा हुआ था. बिहार पुलिस में ईमानदारी की अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले दारोगा मिथलेश साह के साथी भी फफक-फफक कर रो रहे थे.

Martyr SI Mithilesh Kumar
आरा स्थित पैतृक आवास पर शहीद के शव को ले जाते लोग


RPF छोड़ ज्वाइन किया था बिहार पुलिस
Loading...

शहीद सब-इंस्पेक्टर के पिता दशरथ साह भी आरपीएफ में सब इंस्पेक्टर से रिटायर्ड हैं. मिथिलेश साह ने 2009 में आरपीएफ दारोगा की नौकरी से रिजाइन करने के बाद बिहार पुलिस ज्वाइन किया था. उनकी शादी 6 साल पहले 2013 में भोजपुर के ही पचैना गांव निवासी प्रियंका कुमारी से हुई थी. मिथलेश की कोई संतान नहीं है. शहीद का शव पहुंचने पर भोजपुर पुलिस अधीक्षक सुशील कुमार भी मौके पर पहुंचे. उन्होंने कहा कि मिथलेश साह एक ईमानदार और जांबाज अधिकारी थे, मैंने उनके साथ छपरा में रहकर काम किया था और उनका कार्यकाल काफी शानदार था.

ये भी पढ़ें- RJD ने फेंका पासा, क्या नीतीश फिर बनेंगे विपक्ष का चेहरा?

ये भी पढ़ें- बिहार के DGP ने क्‍यों कहा- मेरी भी हो सकती है हत्‍या?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोजपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 3:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...