बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्तिसिंह गोहिल कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

 शक्तिसिंह गोहिल कोरोना से संक्रमित.
शक्तिसिंह गोहिल कोरोना से संक्रमित.

कांग्रेस सांसद और बिहार के प्रभारी शक्तिसिंह गोहिल कोरोना से संक्रमित हो गए हैं. उन्होंने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट (Tweet) कर इस बात की जानकारी दी है.

  • Share this:
पटना. कांग्रेस सांसद और बिहार के प्रभारी शक्तिसिंह गोहिल (Shaktisinh Gohil) कोरोना से संक्रमित हो गए हैं. शुक्रवार को खुद शक्तिसिंह गोहिल ने ट्वीट (Tweet) कर इस बात की जानकारी दी है. अपने ट्वीट में उन्होंने कहा, 'आज मैंने मेरा कोरोना का RT-PCR टेस्ट करवाया तो मैं कोरोना से संक्रमित पाया गया हूं. आप सभी की शुभकामना के साथ कोरोना से भी लड़ लेंगे. कोई चिंता की बात नहीं है'.  लंबे अर्से के बाद बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस (Congress) के लिए 2015 में कुछ खुशखबरी तब आई थी जब पार्टी 40 सीटों पर लड़ी और 27 सीटें जीत गई. इनमें से अधिकांश सीटें मिथिलांचल व सीमांचल से आईं थीं. इस बार आखिरी चरण में इन दोनों क्षेत्रों में चुनाव हो रहे हैं. जाहिर है थर्ड फेज का इलेक्शन कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती है. इस चरण में पार्टी के आधे निवर्तमान विधायकों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. हालांकि इस बार चार सीटों पर थोड़े समीकरण बदले हैं.

दरअसल पिछले चुनाव में पार्टी ने 27 सीटों पर चुनाव जीता था, लेकिन उसकी चार सीटिंग सीटें सहयोगी दलों के खाते में चली गईं. लिहाजा पार्टी के खाते में जो 70 सीटें इस बार आई हैं उनमें 23 ही सीटिंग हैं. उनमें सबसे ज्यादा 11 सीटों का चुनाव इसी चरण में है. इधऱ, भाजपा  ने तीसरे चरण के लिए पूरा दमखम लगा दिया है. भाजपा के लिए यह इसलिए भी अहम है तीसरे चरण में भाजपा 35 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. बता दें कि साल 2015 के चुनाव में पार्टी अपनी कुल 54 सीटों में से एक तिहाई से अधिक इन्हीं इलाकों में जीती थी. ऐसे में भाजपा के समक्ष इस चुनाव में इससे भी अधिक सीटें जीतने की चुनौती है.

शक्तिसिंह गोहिल ने ये ट्वीट किया है





सीएम नीतीश कुमार का बड़ा बयान
बिहार में तीसरे चरण का चुनाव प्रचार समाप्त हो चुका है, लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के एक बयान से सियासत में तूफान मचा रखा है. दरअसल, बिहार विधानसभा चुनाव के आखिरी चरण के चुनाव प्रचार के अंतिम दिन गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि अंत भला तो सब भला. उनके मुंह से इससे पहले यह भी निकला कि यह मेरा आखिरी चुनाव है. इस बात को कई राजनीतिक दलों ने उनके राजनीतिक संन्यास से जोड़ दिया और तेजस्वी यादव एवं चिराग पासवानजैसे नेता हमलावर हो गए. हालांकि, JDU ने बाद में सफाई देते हुए कहा कि सीएम के कहने का आशय कुछ और था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज