बिहार चुनाव: BJP के पिटारे में युवाओं, महिलाओं और किसानों के लिए वादे ही वादे, यहां पढ़ें पूरा संकल्प पत्र

Bihar Chunav 2020
Bihar Chunav 2020

बीजेपी द्वारा जारी इस घोषणापत्र के साथ ही एक वीडियो भी रिलीज किया गया है इस घोषणापत्र में 5 साल में 5 लाख रोजगार देने की घोषणा की गई है साथ ही किसानों की आय को दोगुना करने की भी बात लिखी हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2020, 5:32 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Chunav 2020)को लेकर सभी राजनीतिक दल अपनी-अपनी तैयारियों में जुटे हैं. पहले चरण के लिए 28 अक्‍टूबर को मत डाले जाएंगे. ऐसे में चुनाव प्रचार के साथ ही घोषणा पत्र जारी करने का दौर भी जारी है. इसी सिलसिले में भाजपा की वरिष्‍ठ नेता और केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने (Nirmala Sithraman) गुरुवार को पार्टी का घोषणा पत्र जारी किया. बीजेपी ने इसे संकल्‍प पत्र (BJP Manifesto) का नाम दिया है. निर्मला सीतारमण ने बीजेपी के संकल्प पत्र के जरिये बिहार की जनता के लिए वादों का पिटारा खोला है.

बीजेपी ने इस घोषणा पत्र के जरिये युवाओं और किसानों को साधने की कोशिश की है. बीजेपी द्वारा जारी इस घोषणापत्र के साथ ही एक वीडियो भी रिलीज किया गया है इस घोषणापत्र में 5 साल में 5 लाख रोजगार देने की घोषणा की गई है साथ ही किसानों की आय को दोगुना करने की भी बात लिखी हुई है. बीजेपी ने बिहार में एक करोड़ महिलाओं को स्वावलंबी बनाने का भी संकल्प लिया है.





बिहार चुनाव को लेकर गुरुवार को पटना में बीजेपी का घोषणा पत्र जारी करने के लिए केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, पार्टी के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव, प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय समेत कई अन्य बड़े नेता पहुंचे हैं. बीजेपी का घोषणा पत्र जारी करते हुए प्रदेश सरकार में मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि हमने बिहार को संवारने का काम किया है. अब और निखारने का काम करेंगे. हमने घोषणापत्र जनता के सुझावों से बनाया है. हमारे घोषणापत्र में युवा किसान, छात्र दलित सभी वर्ग के विकास का ज़िक्र है. यहां पढ़ें बीजेपी के 11 संकल्प-
1. कोरोना के खिलाफ लड़ाई में बिहार की एनडीए सरकार ने देश के सामने मिसाल रखी है. हमारा संकल्प है कि जैसे ही कोरोना का टीका आई.सी.एम.आर. द्वारा स्वीकृति के बाद उपलब्ध होगा, हर बिहारवासी का निःशुल्क टीकाकरण करवाएंगे.
2. राष्ट्रीय शिक्षा नीति में भाषा की भूमिका को केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार ने महत्त्व दिया है. इस कड़ी में बिहार में हम मेडिकल, इंजीनियरिंग सहित तकनीकी शिक्षा क्को हिंदी भाषा में उपलब्ध कराएंगे.
3. एनडीए सरकार ने बिहार में 3.5 लाख शिक्षकों की नियुक्तियां की. इसको आगे बढ़ाते हुए आने वाले 1 वर्ष में राज्य के सभी प्रकार के विद्यालय, उच्च शिक्षा के विश्वविद्यालयों तथा संस्थानों में 3 लाख नए शिक्षकों की नियुक्ति करेंगे.
4. भारत में इस वक़्त आईटी कारोबार 177 बिलियन अमेरिकी डॉलर का है. इस अवसर का लाभ उठाते हुए हम बिहार को नेक्स्ट जेनरेशन आईटी हब के रूप में विकसित करके अगले 5 वर्षों में 5 लाख से ज्यादा रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएंगे.
5. एनडीए सरकार ने बिहार में 10 लाख समूहों के माध्यम से 1.20 करोड़ महिलाओं के जीवन में रौशनी पहुंचाई है. हमारा संकल्प है कि स्वयं सहायता समूहों तथा माइक्रो फाइनेंस संस्थाओं के माध्यम से 50 हजार करोड़ की माइक्रो फाइनेंस से 1 करोड़ नई महिलाओं को स्वावलंबी बनाएंगे.
6. हमारा संकल्प है कि 10 हजार चिकित्सक, 50 हजार पैरामेडिकल कर्मियों सहित राज्य में कुल 1 लाख लोगों को स्वास्थ्य विभाग में नौकरी के अवसर प्रदान करेंगे. साथ ही प्रधानमंत्री जी द्वारा दरभंगा, बिहार को दी दूसरे 'अखिल भारतीय आरोग्य संस्थान (एम्स)' का संचालन 2024 तक सुनिश्चित करेंगे.
7. किसानों को बिचौलियों से मुक्त कराने के लिए बाजार समिति की व्यवस्था को हमारी सरकार ने पहले ही खत्म किया है. सशक्त कृषि, समृद्ध किसान के संकल्प पर आगे बढ़ते हुए हम संकल्प लेते हैं कि धान तथा गेंहू के बाद अब दलहन की भी खरीद एम.एस.पी. की निर्धारित दरों पर करेंगे.
8. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के संकल्प पर चलते हुए बिहार में एनडीए की सरकार ने गत 6 वर्षों में 28,33,089 आवास बनाए हैं. हम इसी प्रतिबद्धता के साथ हम यह संकल्प लेते हैं कि बिहार के ग्रामीण क्षेत्रों तथा शहरी क्षेत्रों के और 30 लाख लोगों को वर्ष 2022 तक पक्के मकान देंगे.
9. दुग्ध उत्पादन को लेकर कोऑपरेटिव तथा कोम्फेड को प्रोत्साहित करेगे तथा प्रोसेसिंग के क्षेत्र में निजी निवेश के लिए सुगमता प्रदान कर 2 वर्षों में निजी तथा कोम्फेड आधारित 15 नए प्रोसेसिंग उद्योग खड़े करेंगे.
10. प्रधानमंत्री जी द्वारा मत्स्य संपदा योजना को आगे बढ़ाते हुए हमारी सरकार अगले 2 वर्षों में इनलैंड यानी मीठे पानी में पलने वाली मछलियों के उत्पादन में राज्य को देश का नंबर एक राज्य बनाएगी.
11. बिहार के 1000 नए किसान उत्पाद संघों (एफ.पी.ओ) को आपस में जोड़कर राज्यभर के विशेष फसल उत्पाद जैसे मक्का, फल, सब्जी, चुडा, मखान, पान, मशाला, शहद, मेंथा, औषधीय पौधों के सप्लाई चेन विकसित करेंगे. इससे प्रदेश में 10 लाख रोजगार के अवसर सृजित होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज